DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब साल में तीन बार तेल और गैस की बोली लगाएगी सरकार

price fall of international crude oil (File Pic)

सरकार ने तेल एवं गैस क्षेत्र ब्लॉकों की नीलामी के लिये रूचि पत्र अब साल में तीन बार आमंत्रित करेगी। अभी इसके दो दौर ही चलाए जाते थे। हाइड्रोकार्बन महानिदेशालय (डीजीएच) ने यह घोषणा की है। भारत ने जुलाई में 2017 में कंपनियों को अपनी रुचि के मुताबिक खोज-ब्लॉक की सीमा तय करने की अनुमति दी है। इस पहल का मकसद निवेशकों को प्रोत्साहित कर तेल/गैस उत्पादन संभावना वाले 28 लाख वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को खोज और उत्पादन के दायरे में लाना है।

इस खुला क्षेत्र लाइसेंसिंग नीति (ओएएलपी) के तहत कंपनियों को तेल एवं गैस संभावना वाले किसी भी वैसे क्षेत्र में रूचि पत्र (ईओआई) जमा करने की अनुमति दी गयी जहां अभी किसी को उत्पादन या खोज का कोई लाइसेंस नहीं दिया गया है। रुचि पत्र साल में कभी दिया जा सकता था। कुल मिलाकर साल में इसके दो चक्र होते थे लेकिन अब इसे बढ़ाकर तीन कर दिया गया है।

डीजीएच ने एक अधिसूचना में कहा, ''कारोबार सुगमता के तहत हाल में नीति में सुधार और बदलाव को देखते हुए ईओआआई जमा करने का दौर एक साल में दो से बढ़ाकर तीन बार कर दिया गया है। अबतक साल रुचि पत्रों के जमा कराने चक्र 15 मई और 15 नवंबर को पूरा होते थे। 15 मई तक जमा ईओआई को 30 जून तक नीलामी के लिये रखे जाने की संभावना थी जबकि दूसरे चक्र के प्रस्ताव पर नीलामी 31 दिसंबर तक की जाती थी।

डीजीएच के अनुसार ईओआइ्र जमा करने के संशोधित चक्र के तहत पहला चक्रम एक अप्रैल से 31 जुलाई, दूसरा एक अगस्त से 30 नवंबर और तीसरा एक दिसंबर से 31 मार्च होगा। यह संशोधित तेल एवं गैस खोज लाइसेंस नीति बोली के चौथे दौर से क्रियान्वित होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Centre Govt increases oil gas bidding round to three times a year