DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुसीबत बनी तकनीक: बिना पिन का कॉन्टैक्टलेस एटीएम कार्ड है तो संभल कर करें खरीदारी

credit card

शॉपिंग या पेट्रोल पंपों में भुगतान के लिए अब तक आप डेबिट या क्रेडिट कार्ड प्वाइंट ऑफ सेल्स (पीओएस) मशीनों में स्वैप करते हैं फिर पिन डालने के बाद खाते से पैसे कटते हैं। अब बैंक वाई-फाई टेक्नोलॉजी से लैस ‘कॉन्टैक्टलेस’ डेबिट व क्रेडिट कार्ड ग्राहकों को दे रहे हैं, जिनसे भुगतान के लिए स्वैप करने की जरूरत नहीं पड़ती। ऐसे में पीओएस मशीन के पास कार्ड ले जाने भर से ही पैसे कट जाते हैं। बिना पिन के भुगतान वाली यह टेक्नोलॉजी ग्राहकों के लिए बड़ी मुसीबत बन गई है।

कार्ड हाथ में लीजिए और रकम कटी 
कॉन्टैक्टलेस ईएमवी एटीएम कार्ड वाई फाई आधारित नियर फील्ड टेक्नोलॉजी पर काम करते हैं। इनमें सबसे ऊपर बीच में वाई-फाई का सिग्नल प्रिंट है। ऐसे कार्ड से कहीं भी भुगतान के लिए आपको अपना गोपनीय पिन डालने की जरूरत नहीं है। सेल्समैन ई-पॉस (इलेक्ट्रानिक प्वाइंट आफ सेल्स) मशीन में रकम फीड करता है, फिर आप अपने कार्ड को मशीन के नजदीक ले जाते हैं और पैसे आपके खाते से कट जाते हैं। इस टेक्नोलॉजी को छोटे भुगतान के लिए ही लागू किया गया है, जिसकी अधिकतम राशि दो हजार रुपये है। 

सुविधा के लिए है नई तकनीक
रिजर्व बैंक ने दो हजार रुपये तक के भुगतान के लिए इस टेक्नोलॉजी को मंजूरी इसलिए दी थी कि इससे पिन की चोरी नहीं होगी और लेनदेन जल्द पूरे होंगे। ग्राहक धोखाधड़ी के शिकार नहीं होंगे, लेकिन नए कार्ड से रकम मशीन के पास आते ही कट जाती है। इससे जुड़ी 27 शिकायतें बैंकिंग लोकपाल के पास पहुंच चुकी हैं। इनमें से अधिकांश पेट्रोल पंपों की हैं जिसमें ग्राहक की जानकारी के बिना ही ज्यादा रकम खाते से कट गई। सबसे चिंताजनक पहलू ये है कि कार्ड खोने पर कोई भी इसका इस्तेमाल कर लेगा क्योंकि इसके इस्तेमाल के लिए पिन की जरूरत ही नहीं होगी। 

रिजर्व बैंक ने बैंकों व ग्राहकों को किया आगाह
रिजर्व बैंक ने वाई-फाई टेक्नोलॉजी से लैस कार्ड को लेकर आगाह किया है कि दो हजार रुपये से ज्यादा की धनराशि बिना पिन डाले न काटी जाए। इसे अनिवार्य कर दिया गया है। दो हजार रुपये से कम धनराशि का भुगतान ग्राहक बिना पिन डाले करना चाहता है या पिन के साथ, ये उसकी मर्जी पर निर्भर करेगा। इतना ही नहीं बिना पिन डाले ग्राहक किस सीमा तक भुगतान करना चाहते हैं, इसकी लिमिट भी बैंक ग्राहक से पूछेंगे और कार्ड जारी करने वाली कंपनी को देंगे। वाई फाई कार्ड को जारी करने से पहले बैंकों को ग्राहकों से अनुमति लेना पड़ेगी और इसकी सुरक्षा व खतरों को लेकर साफतौर पर बताना भी पड़ेगा।

मुसीबत बनी तकनीक
- वाई-फाई टेक्नोलॉजी से लैस इस कार्ड से दो हजार तक के भुगतान के लिए पिन जरूरी नहीं 
- इलेक्ट्रानिक प्वॉइंट आफ सेल्स मशीन पर कार्ड रखते ही कट जाते हैं पैसे पता ही नहीं चलता
- शिकायतों के चलते रिजर्व बैंक की चेतावनी, ग्राहकों की सहमति पर ही जारी करें ऐसे कार्ड

ये सावधानियां बरतें
आवेदन करते समय जान लें कि कौन सा कार्ड दे रहा हैं बैंक
ऐसे कार्ड से खरीदारी के दौरान बिल लेना कतई न भूलें
यह जांच लें कि कैशियर ने मशीन में कितना अमाउंट भरा है
ज्यादा कॉटैक्टलेस कार्ड हैं तो तय करें कि किससे भुगतान करना है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Caution Before Use Contactless ATM Card