Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़Byju EGM Shareholders vote to remove ceo raveendran and his family detail is here - Business News India

Byju's संकट: रवींद्रन फैमिली को बाहर करने की मुहिम, 60% शेयरहोल्डर ने डाले वोट

बायजू रवींद्रन और उनके परिवार को हटाने के लिए मतदान किया है। बायजू रवींद्रन फैमिली पर कथित कुप्रबंधन और विफलताओं के आरोप लगाते हुए 6 निवेशकों ने शुक्रवार को असाधारण आम बैठक (ईजीएम) बुलाई थी।

Deepak Kumar लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीFri, 23 Feb 2024 07:57 PM
हमें फॉलो करें

Byju's EGM: एडुटेक कंपनी बायजू का संकट बढ़ता जा रहा है। दरअसल, कंपनी के 60 प्रतिशत से अधिक शेयरधारकों ने फाउंडर-सीईओ बायजू रवींद्रन और उनके परिवार को हटाने के लिए मतदान किया है। बायजू रवींद्रन फैमिली पर कथित कुप्रबंधन और विफलताओं के आरोप लगाते हुए छह निवेशकों ने शुक्रवार को असाधारण आम बैठक (ईजीएम) बुलाई थी। इस बैठक में रवींद्रन फैमिली को हटाने का प्रस्ताव रखा गया और इस प्रस्ताव पर वोटिंग भी हुई। 

बायजू के निवेशक प्रोसस के मुताबिक शेयरधारकों ने मतदान के लिए रखे गए सभी प्रस्तावों को सर्वसम्मति से पारित कर दिया। हालांकि, बायजू रवींद्रन और उनका परिवार ईजीएम से दूर रहा। उन्होंने इस असाधारण आम बैठक को अमान्य बताया है। एजेंसी सूत्रों ने कहा कि ईजीएम शुक्रवार सुबह साढ़े नौ बजे शुरू होनी थी, लेकिन इसमें करीब एक घंटे की देरी हुई क्योंकि करीब 200 लोग (जिनमें से कुछ बायजू के कर्मचारी हैं) इसमें ऑनलाइन शामिल होना चाहते थे।

एनसीएलटी पहुंचा मामला
ईजीएम से पहले बायजू के चार निवेशकों ने एनसीएलटी की बेंगलुरु पीठ के समक्ष कंपनी के प्रबंधन के खिलाफ गड़बड़ी और कुप्रबंधन को लेकर गुरुवार शाम मुकदमा दायर किया था। राष्ट्रीय कंपनी विधि अधिकरण (एनसीएलटी) के समक्ष दायर मुकदमे में मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) बायजू रवींद्रन सहित संस्थापकों को कंपनी चलाने में अयोग्य घोषित करने और नया निदेशक मंडल नियुक्त करने का आग्रह किया गया है।

इसके अलावा राइट इश्यू को अमान्य घोषित करने का अनुरोध किया गया है। अदालती दस्तावेजों के अनुसार, याचिका में फॉरेंसिक ऑडिट और प्रबंधन को निवेशकों के साथ जानकारी साझा करने का निर्देश देने का भी अनुरोध किया गया है। याचिका पर टाइगर और आउल वेंचर्स सहित अन्य शेयरधारकों के समर्थन के साथ-साथ चार निवेशकों प्रोसस, जीए, सोफिना और पीक 15 द्वारा हस्ताक्षर किए गए हैं।

13 मार्च तक राहत
हालांकि, ईजीएम में वोट का नतीजा 13 मार्च तक लागू नहीं होगा। दरअसल, कर्नाटक उच्च न्यायालय कुछ निवेशकों के कदम को चुनौती देने वाली रवींद्रन की याचिका पर अगली सुनवाई 13 मार्च को करेगा। बता दें कि उच्च न्यायालय ने बुधवार को बायजू में 32 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी रखने वाले शेयरधारकों द्वारा सामूहिक रूप से बुलाई गई ईजीएम पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। रवींद्रन और परिवार की कंपनी में 26.3 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें