ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसBudget 2022: इंश्योरेंस सेक्टर से जुड़े लोग इस बार के बजट से कर रहे हैं क्या उम्मीद? 

Budget 2022: इंश्योरेंस सेक्टर से जुड़े लोग इस बार के बजट से कर रहे हैं क्या उम्मीद? 

बजट की तारीखों नजदीक आ गई हैं। ऐसे में अब सभी सेक्टर बजट को लेकर अपनी प्रतिक्रियाएं जाहिर कर रहे हैं। कोरोना काल में अगर किसी एक सेक्टर ने बहुत तेजी से ग्रोथ किया है तो वह इंश्योरेंस सेक्टर, ऐसे में...

Budget 2022: इंश्योरेंस सेक्टर से जुड़े लोग इस बार के बजट से कर रहे हैं क्या उम्मीद? 
Tarun Singhलाइव मिंट,नई दिल्ली Mon, 31 Jan 2022 10:25 AM

इस खबर को सुनें

बजट की तारीखों नजदीक आ गई हैं। ऐसे में अब सभी सेक्टर बजट को लेकर अपनी प्रतिक्रियाएं जाहिर कर रहे हैं। कोरोना काल में अगर किसी एक सेक्टर ने बहुत तेजी से ग्रोथ किया है तो वह इंश्योरेंस सेक्टर, ऐसे में आइए समझते हैं कि इस सेक्टर से जुड़े लोग बजट को लेकर क्या उम्मीदें कर रहे हैं।।

लाइफ इंश्योरेंस सेक्टर से जुड़े लोगों ने सरकार को सलाह दी है कि सेक्शन 80 (C) के तहत इंश्योरेंस सेक्टर को अलग छूट दी जाए। साथ ही एन्युटी को टैक्स फ्री किया जाए। Ageas Federal Life Insurance के CMO और हेड कार्तिक रमन कहते हैं कि 1,50,000 की लिमिट काफी सीमित है और ये इंश्योरेंस को बहुत स्पेस नहीं देता है। वो कहते हैं, 'हम टैक्स छूट के लिए अलग सेक्शन चाहते हैं, 80 (C) के तहत 1.5 लाख की छूट में PPF सहित सबकुछ आ जाता है। और अगर होम लोन भी जोड़ लें तो कुछ बचता नहीं है।'

कार्तिक कहते हैं कि ऐसे में हम इतने ही अमाउंट का टैक्स फ्री सेक्शन चाहते है लाइफ इंश्योरेंस के लिए। बता दें कि एक फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण देश का आम बजट पेश कर सकती हैं। इसके अलावा इंश्योरेंस सेक्टर से जुड़े लोग एन्युटी प्रोडक्ट्स को भी टैक्स फ्री चाहते हैं। 

रमन कहते हैं, 'जीवन से जुड़े खर्च में इजाफा हो रहा है। जबकि टैक्स से जुड़े छूट कुछ सही नहीं दिख रहे हैं। हम सरकार से अनुरोध करते हैं कि अगर सेक्शन 10 (10D) के तहत एन्युटी को भी लाया जाये तो वह भी टैक्स फ्री हो जाएगा।' वो कहते हैं, 'सेक्शन 10(10D) के तहत लाइफ इंश्योरेंस से जुड़े फायदे जिसमें बोनस भी रहता है, उसे कर मुक्त बनाता है। ऐसे में अगर यही दो अनुरोध सरकार मान लेती है तो इंडस्ट्री से जुड़े लोग काफी खुश होंगे।'

epaper