DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिजनेस › VIDEO: अंतरिक्ष की यात्रा कर वापस लौटे जेफ बेजोस, देखें कैसा रहा सफर 
बिजनेस

VIDEO: अंतरिक्ष की यात्रा कर वापस लौटे जेफ बेजोस, देखें कैसा रहा सफर 

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्ली Published By: Tarun Singh
Tue, 20 Jul 2021 08:22 PM
VIDEO: अंतरिक्ष की यात्रा कर वापस लौटे जेफ बेजोस, देखें कैसा रहा सफर 

दुनिया के सबसे रईस व्यक्ति और अमेजन के पूर्व CEO ने आज एक और कीर्तिमान बना दिया। बेजोस अपने भाई मार्क बेजोस, वैली फंक और ओलिवर डेमेन साथ यह अंतरिक्ष की रोमांचक यात्रा पूरी की। अपनी इस यात्रा में उन्होंने कुल 100 किलोमीटर का सफर पूरा किया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस यात्रा के दौरान बेजोस कुल 11 मिनट तक ही अंतरिक्ष में थे। तीनों यात्रियों के सकुशल वापसी पर ब्लू ओरिजन ने ट्वीट करके जानकारी दी। साथ इस यात्रा का पूरा वीडियो वेबसाइट पर साझा किया गया है। जिसमें बेजोस अलावा अन्य लोग भी  यात्रा समाप्त करने के बाद जश्न मनाते हुए नजर आ रहे हैं। 

क्या GST के दायरे में आएगा पेट्रोल और डीजल, संसद में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कही यह बात 

बेजोस और अन्य तीन यात्रियों के सकुशल वापसी पर ब्लू ओरिजन की तरफ से ट्वीट करते हुए लिखा गया की टीम ब्लू के वर्तमान और पुराने साथियों को स्पेस फ्लाइट के इस ऐतिहासिक दिन के लिए बधाई। यह नए लोगों के लिए स्पेस की यात्रा करने का अवसर खोलेगा। जेफ बेजोस की यात्रा की सबसे मजेदार बात रही कि इसमें सबसे बुजुर्ग और युवा ऐस्ट्रोनॉट ने एक साथ सफर किया। जहां ओलिवर डेमेन की उम्र महज 18 साल है वहीं, वैली फंक 82 साल के हैं।

कीमतों का खेल: कहीं आलू 50 तो कहीं 12 रुपये किलो, 115 से 223 के बीच बिक रहा सरसों तेल

संजल ने तैयार किया राॅकेट

अमेरिकी अरबपति और जेफ बेजोस की अंतरिक्ष यात्रा पूरी हो गई है। इस उड़ान को अंजाम दिया ब्लू ओरिजिन का न्यू शेफर्ड रॉकेट। यही वो रॉकेट है जो उस कैप्सूल को लेकर अंतरिक्ष में रवाना हुआ। जिसमें जेफ बेजोस अपने अन्य साथी मौजूद थे। इस रॉकेट को तैयार करने में एक भारतीय युवती ने भी अपना योगदान दिया है। इस युवती का नाम है संजल गवांडे।

30 साल की संजल जेफ बेजोस की ब्लू ओरिजिन में सिस्टम इंजीनियर हैं और मूल रूप से महाराष्ट्र के कल्याण की रहने वाली हैं। म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन के कर्मचारी पिता की संतान संजल ने अपनी बैचलर की डिग्री मुंबई यूनिवर्सिटी से ली है। यहां से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद वो 2011 में अमेरिका चली गईं, जहां मिशिगन टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से मास्टर्स की पढ़ाई पूरी की। मास्टर्स की पढ़ाई के दौरान ही उन्होंने एयरोस्पेस को अपने विषय के रूप में चुना।

संबंधित खबरें