DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  महामारी के बीच 2020 में छोटे शेयरों ने दिया बड़ा रिटर्न

बिजनेसमहामारी के बीच 2020 में छोटे शेयरों ने दिया बड़ा रिटर्न

नई दिल्ली, एजेंसीPublished By: Drigraj Madheshia
Thu, 31 Dec 2020 08:51 AM
महामारी के बीच 2020 में छोटे शेयरों ने दिया बड़ा रिटर्न

कोरोना वायरस महामारी के बीच इस साल छोटे शेयरों ने जबर्दस्त वापसी की है और निवेशकों को अच्छा रिटर्न दिया है। पिछले दो साल के दौरान छोटी कंपनियों के शेयरों ने निवेशकों को नकारात्मक रिटर्न या प्रतिफल दिया था। महामारी के दौरान खुदरा निवेशकों की भागीदारी बढ़ी है जिससे स्मॉलकैप सूचकांक इस साल 31 प्रतिशत चढ़ गया। स्मॉलकैप का प्रदर्शन व्यापक बाजार से बेहतर रहा है।

बाजार की पसंद रहे स्मॉलकैप और मिडकैप शेयर

शेयर बाजारों के लिए यह साल काफी घटनाक्रमों वाला रहा। महामारी के बीच शेयर बाजार में कभी तेजड़िये तो कभी मंदड़िये हावी रहे। कोविड-19 के शुरुआती चरण में महामारी को लेकर चिंता और लॉकडाउन की वजह से आर्थिक गतिविधियां प्रभावित होने से मंदड़िये हावी रहे। लेकिन बाद के महीनों में तेजड़ियों ने जबर्दस्त वापसी की। कभी ऊपर और कभी नीचे रहने वाले बाजार के बीच स्मॉलकैप और मिडकैप शेयर बाजार की पसंद रहे।

नए साल 2021 में आपकी जेब पर असर डालेंगे ये 10 बड़े बदलाव

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज (ब्रोकिंग एवं वितरण) के प्रमुख और इक्विटी रणनीतिकार हेमांग जानी ने कहा, मार्च में गिरावट के समय कई मिडकैप और स्मॉलकैप कंपनियों के शेयर लार्जकैप की तुलना में आकर्षक मूल्यांकन पर उपलब्ध थे। मूल्यांकन और तरलता की बेहतर स्थिति की वजह से मिडकैप और स्मॉल कैप शेयर ऊंचे स्तर पर पहुंच गए। उन्होंने कहा, इसके अलावा पिछले 6-8 महीनों के दौरान खुदरा भागीदारी में कई गुना का इजाफा हुआ है, जिससे इन शेयरों को फायदा हुआ है।
इस साल 29 दिसंबर तक बीएसई मिडकैप 2,842.99 अंक या 18.99 प्रतिशत चढ़ा है।

स्मॉलकैप में अधिक बड़ी बढ़त दर्ज हुई

वहीं स्मॉलकैप में कहीं अधिक बड़ी बढ़त दर्ज हुई और यह 4,268.3 अंक या 31.15 प्रतिशत चढ़ा है। इनकी तुलना में बीएसई सेंसेक्स में 6,359.34 अंक या 15.41 प्रतिशत का लाभ दर्ज हुआ है। मार्च का महीना घरेलू शेयर बाजारों के लिए काफी बुरा रहा और कोरोना वायरस के अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर चिंता के बीच बीएसई सेंसेक्स 8,828.8 अंक या 23 प्रतिशत टूटा।

पिछले दो कैलेंडर वर्षों में इनका प्रदर्शन खराब रहा था

कोटक सिक्योरिटीज के कार्यकारी उपाध्यक्ष और बुनियादी शोध प्रमुख रुस्मिक ओझा ने कहा कि इस साल मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांक के बेहतर प्रदर्शन की वजह यह रही कि पिछले दो कैलेंडर वर्षों में इनका प्रदर्शन खराब रहा था। इस साल 24 मार्च को मिडकैप सूचकांक अपने एक साल के निचले स्तर 9,555.24 अंक पर आ गया। वहीं 17 दिसंबर को यह 52 सप्ताह के उच्चस्तर 18,017.56 अंक पर पहुंच गया। इसी तरह स्मॉलकैप सूचकांक 24 मार्च को अपने सर्वकालिक निचले स्तर 8,622.24 अंक पर आ गया। 29 दिसंबर को यह 18,089.16 अंक के अपने एक साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। वहीं बीएसई सेंसेक्स 24 मार्च को एक साल के निचले स्तर 25,638.9 अंक पर था। जबकि 30 दिसंबर को सेंसेक्स 47,807.85 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया।

संबंधित खबरें