DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  एसबीआई ने दिया झटका, फिक्स्ड डिपॉजिट पर घटाई ब्याज दर
बिजनेस

एसबीआई ने दिया झटका, फिक्स्ड डिपॉजिट पर घटाई ब्याज दर

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Drigraj
Fri, 07 Feb 2020 04:43 PM
एसबीआई ने दिया झटका, फिक्स्ड डिपॉजिट पर घटाई ब्याज दर

भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति की घोषणा के एक दिन बाद भारत के सबसे बड़े बैंक SBI ने अपनी ऋण दरों में कटौती की है, जिससे घर और ऑटो ऋण सस्ते हो गए हैं। SBI ने अपनी सावधि जमा या FD दरों में भी कटौती की है।  लेकिन साथ ही एफडी पर मिलने वाले ब्याज में भी कमी की है।  नई दरें 10 फरवरी 2020 से लागू हो रही हैं। एसबीआई ने लगातार नौवीं बार वित्त वर्ष 2019-20 के लिए मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (एमसीएलआर) में कटौती का एलान किया है।

यह भी पढ़ें: चार दिन की तेजी के बाद शेयर बाजार में गिरावट, सेंसेक्स 164 अंक लुढ़का

एसबीआई ने एमसीएलआर में कटौती की है। इसमें पांच बीपीएस की कटौती की गई है। जिसके बाद यह दर सालाना 7.90 फीसदी से कम होकर 7.85 फीसदी हो गई है। इससे ग्राहकों को फायदा होगा क्योंकि अब उन्हें सस्ते में होम लोन और ऑटो लोन मिल जाएगा।  

यह भी पढ़ें: Gold Rate 7 Feb 2020: सोने-चांदी के रेट में बड़ा बदलाव, जानें आज 10 gm सोने का भाव

लोन के अतिरिक्त फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर भी एसबीआई ने घोषणा की है। एसबीआई ने इसमें 10 से 50 बेसिस प्वाइंट की कमी की है। इसके साथ ही एकमुश्त एफडी (बल्क टर्म डिपॉजिट) पर मिलने वाले ब्याज में भी कमी की गई है। 

यह भी पढ़ें: नए और पुराने टैक्स सिस्टम के लिए इनकम टैक्स विभाग ने लॉन्च किया ई-कैलकुलेटर, ऐसे कर सकते हैं इस्तेमाल

बता दें भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को चालू वित्त वर्ष की अंतिम मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में नीतिगत दर यानी रेपो दर 5.15 फीसदी बनाए रखने का फैसला किया। हालांकि, इसके बावजूद केंद्रीय बैंक ने आवास और वाहन ऋण के लिए बैंकों को सीआरआर में राहत देने की घोषणा की है जिससे उपभोक्ताओं को सस्ता ऑटो और होम लोन मिल सकेगा।

यह भी पढ़ें: SBI की एफडी पर अब इतना ही मिलेगा ब्याज, नई दरें यहां देखें जो 10 फरवरी से हो रहीं लागू

नीतिगत दर को नरम न करने के बावजूद मौद्रिक नीति समिति ने नीतिगत झुकाव उदार बनाए रखा है। इसका मतलब है कि वह आर्थिक वृद्धि दर तेज करने के लिए कर्ज सस्ता रखने के पक्ष में है। रिजर्व बैंक ने कहा कि जब तक संभव है, नीतिगत रुख उदार बनी रहेगी। गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि रेपो दर में की गई कटौतियों का लाभ अब तक पूरा नहीं पहुंच पाया है। वर्ष 2020 में भी मौद्रिक नीति उदार बनी रहेगी।

संबंधित खबरें