ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसरिटायर्ड बैंक कर्मचारियों की नहीं बढ़ी पेंशन की रकम, अब करेंगे ये काम

रिटायर्ड बैंक कर्मचारियों की नहीं बढ़ी पेंशन की रकम, अब करेंगे ये काम

यह प्रदर्शन शनिवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर होने वाला है। 'फोरम आफ बैंक पेंशनर एक्टिविस्ट्स' के राष्ट्रीय संयोजक जेएन शुक्ला के मुताबिक देश भर के एक दर्जन संगठनों का समर्थन हासिल है।

रिटायर्ड बैंक कर्मचारियों की नहीं बढ़ी पेंशन की रकम, अब करेंगे ये काम
Deepak Kumarएजेंसी,नई दिल्लीFri, 22 Jul 2022 07:08 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

देश भर के बैंक पेंशनभोगी आरबीआई की तर्ज पर पेंशन संशोधन और सुधार सहित महत्वपूर्ण मांगों को लेकर प्रदर्शन करेंगे। यह प्रदर्शन शनिवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर होने वाला है। 'फोरम आफ बैंक पेंशनर एक्टिविस्ट्स' के राष्ट्रीय संयोजक जेएन शुक्ला के मुताबिक देश भर के एक दर्जन संगठनों का समर्थन हासिल है।

उन्होंने कहा कि एक जनवरी, 1986 से बैंकिंग क्षेत्र में पेंशन लागू होने के बाद से कभी इसे संशोधित नहीं किया गया। वर्ष 1992 से हर पांच साल में बैंक कर्मचारियों का वेतन बढ़ाया जाता रहा लेकिन पेंशन को कभी भी संशोधित नहीं किया गया।

शुक्ला ने कहा कि सरकार के 24 फरवरी, 2012 के निर्देश के बावजूद रिटायर्ड कर्मचारियों के लिए बैंकों के कल्याण कोष से स्वास्थ्य बीमा प्रदान करने की कोई व्यवस्था नहीं है। इसी तरह, बैंकों ने मूल वेतन का 16.4% काट कर उसे विशेष भत्ते का नाम दे दिया है जबकि इसे पेंशन, ग्रेच्युटी, पीएफ, एनपीएस गणना से बाहर रखा गया है।

उन्होंने कहा कि बैंकों ने कदाचार के लिए बर्खास्त किए गए दागी पूर्व-कर्मचारियों को पेंशन का अधिकार बहाल कर दिया है लेकिन उन लोगों को पेंशन देने से इनकार कर दिया गया जिन्होंने त्रुटिहीन सेवा के साथ बैंक सेवा से इस्तीफा दिया था। शुक्ला ने कहा कि जब दागी लोगों को पेंशन का अधिकार दिया जा सकता है तो इस्तीफा देने वालों को पेंशन का अधिकार क्यों नहीं दिया जा सकता है।

epaper