DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  टाटा स्टील में ऑफिसियल काम के लिए वाट्सएप पर रोक, कहा, संवेदनशील जानकारी साझा करने से बचें

बिजनेसटाटा स्टील में ऑफिसियल काम के लिए वाट्सएप पर रोक, कहा, संवेदनशील जानकारी साझा करने से बचें

हिन्दुस्तान संवाददाता,नई दिल्ली जमशेदपुरPublished By: Drigraj Madheshia
Wed, 13 Jan 2021 03:22 PM
टाटा स्टील में ऑफिसियल काम के लिए वाट्सएप पर रोक, कहा, संवेदनशील जानकारी साझा करने से बचें

व्हाट्सएप की नई पालिसी के विरोध में टाटा स्टील ने ऑफिसियल काम के लिए वाट्सएप पर रोक लगा दी है। कंपनी ने अपने कर्मचारियों से कहा है कि वे ग्रुप चैट के लिए व्हाट्सएप का इस्तेमाल न करें। टाटा स्टील ने अपने कर्मचारियों को ई-मेल एडवाइजरी जारी की है। एडवायजरी में कर्मचारियों से व्हाट्सएप पर कोई भी संवेदनशील जानकारी साझा नहीं करने और इस एप पर बिजनेस मीटिंग नहीं करने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही कंपनी ने कर्मचारियों को सुझाव दिया है कि वे ऑफिस कम्युनिकेशन के लिए माइक्रोसॉफ्ट सर्विस और माइक्रोसॉफ्ट टीम्स का उपयोग करें।

हाल ही में व्हाट्सएप ने अपनी नवीनतम प्राइवेसी पॉलिसी और टर्म्स ऑफ सर्विसेज (टीओएस) की घोषणा की है। इस नई नीति के आलोक में व्हाट्सएप इस प्लेटफार्म के जरिए फेसबुक और इंस्टाग्राम के साथ डाटा के संभावित विनिमय और साझा करने के लिए एक होगी। इसलिए इन तमाम बिंदुओं के मद्देनजर यह निर्देश जारी किया गया।

व्हाट्सएप की सफाई: नीति में बदलाव से निजता पर असर नहीं 

व्हाट्सएप ने मंगलवार को डेटा सुरक्षा को लेकर लोगों की चिंताएं दूर करने की कोशिश की। फेसबुक के स्वामित्व वाली इस कंपनी ने कहा कि उसके ताजा नीतिगत बदलावों से संदेशों की गोपनीयता प्रभावित नहीं होती है। व्हाट्सएप ने कहा, कंपनी यूजर की संपर्क सूची या समूहों का डेटा फेसबुक से साझा नहीं करती है। व्हाट्सएप या फेसबुक न तो यूजर के संदेश पढ़ सकते हैं और न ही कॉल सुन सकते हैं। पिछले हफ्ते व्हाट्सएप ने गोपनीयता नीति में बदलाव के बारे में बताया था। इसके बाद उद्योगपति आनंद महिंद्रा, पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा और फोनपे के सीईओ समीर निगम जैसे दिग्गजों ने कहा कि वे दूसरे मंचों पर चले जाएंगे।

संदेशों की गोपनीयता प्रभावित नहीं होगी

व्हाट्सएप ने कहा, हम यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि नीति में बदलाव से किसी भी तरह से दोस्तों या परिवार के साथ आपके संदेशों की गोपनीयता प्रभावित नहीं होगी। इसकी जगह इस बदलाव में व्हाट्सएप पर किसी व्यवसाय को संदेश देने से संबंधित परिवर्तन शामिल हैं, जो वैकल्पिक है, ये इस बारे में अधिक पारदर्शिता लाते हैं कि हम किस तरह डेटा जमा करते हैं और उपयोग करते हैं।

फेसबुक के साथ इस डेटा को साझा नहीं किया जाता

ब्लॉग में कहा गया कि व्हाट्सएप मैसेजिंग को तेज और विश्वसनीय बनाने के लिए एड्रेस बुक से केवल फोन नंबर (उपयोगकर्ता की अनुमति पाने के बाद) तक पहुंचा जाता है और फेसबुक के अन्य ऐप के साथ संपर्क सूची साझा नहीं की जाती है। साथ ही कहा गया कि विज्ञापनों के लिए फेसबुक के साथ इस डेटा को साझा नहीं किया जाता है।

इंटरनेट सुरक्षा शोधकर्ता राजशेखर राजाहरिया की एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि कम से कम 1,700 निजी व्हाट्सएप ग्रुप के लिंक एक वेब खोज के माध्यम से गूगल पर दिखाई दे रहे थे। गौरतलब है कि महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा, पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा और फोनपे के सीईओ समीर निगम सहित कई कारोबारी दिग्गजों ने कहा है कि वे दूसरे मंचों पर चले जाएंगे।

इनपुट: एजेंसी

संबंधित खबरें