DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  बजाज ऑटो की बिक्री में सुधार, टाटा मोटर्स को भागीदार की तलाश

बिजनेसबजाज ऑटो की बिक्री में सुधार, टाटा मोटर्स को भागीदार की तलाश

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Sun, 25 Oct 2020 01:02 PM
बजाज ऑटो की बिक्री में सुधार, टाटा मोटर्स को भागीदार की तलाश

देश की दोपहिया वाहन क्षेत्र की प्रमुख कंपनी बजाज ऑटो की अफ्रीका और लातिनी अमेरिका सहित निर्यात बाजारों की मांग में उल्लेखनीय सुधार आ रहा है।  बजाज ऑटो के मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) सोमेन रे ने पीटीआई-भाषा से साक्षात्कार में कहा कि घरेलू बाजार की तुलना में निर्यात बाजार कोविड-19 महामारी और लॉकडाउन से कम प्रभावित हुए हैं। उन्होंने कहा, ''सुधार की बात की जाए, तो हमारा अंतरराष्ट्रीय कारोबार घरेलू बाजार की तुलना में बेहतर प्रदर्शन कर रहा है। जिन भी देशों को हमारा निर्यात है, वे कोविड-19 महामारी और लॉकडाउन से ज्यादा प्रभावित नहीं हुए है। रे ने कहा कि अफ्रीका, लातिनी अमेरिका, पश्चिम एशिया और दक्षिण-पूर्व एशिया की मांग काफी अच्छी है। 

यह भी पढ़ें: महामारी की मार से देश का लक्जरी कार बाजार 5 से 7 साल पीछे हुआ: ऑडी

उन्होंने कहा कि हमारी चिंता वाले दो क्षेत्र आसियान और श्रीलंका हैं। ''आसियान के प्रमुख बाजारों फिलिपीन और कंबोडिया में लॉकडाउन और अंकुश लागू हैं। वहीं श्रीलंका सरकार ने वाहनों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है। रे ने कहा कि इन दो बाजारों को छोड़कर अन्य में कंपनी के वाहनों की मांग मजबूत बनी हुई है। उन्होंने कहा कि निर्यात बाजारों की मांग में सुधार की वजह यह है कि वहां महामारी का प्रकोप सीमित रहा है। इस वजह से उनकी अर्थव्यवस्थाएं भी कम प्रभावित हुई है। रे ने कहा कि अगले कुछ माह के लिए कंपनी की ऑर्डर बुक काफी मजबूत है। 

सितंबर में 2.12 लाख वाहनों का निर्यात

बजाज ऑटो ने सितंबर में विभिन्न अंतरराष्ट्रीय बाजारों में 2.12 लाख वाहनों का निर्यात किया है। चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर की तिमाही में दोपहिया वाहन क्षेत्र की कंपनी का निर्यात हालांकि 11 प्रतिशत घटकर 4,14,271 इकाई रहा है, जो इससे पिछले वित्त की समान अवधि में 4,62,890 इकाई रहा था।  घरेलू बाजार के परिदृश्य के बारे में उन्होंने कहा कि कंपनी की डीलरशिप पर ग्राहकों की आवाजाही और पूछताछ बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि त्योहारी सीजन के पहले कुछ दिन की प्रतिक्रिया के आधार पर हमारा अनुमान है कि हमारी बिक्री पिछले साल के समान या उससे कुछ बेहतर रहेगी। रे ने कहा कि तिपहिया वाहनों की बिक्री में सुधार आर्थिक गतिविधियों की स्थिति पर निर्भर करेगा। 

टाटा मोटर्स को यात्री वाहन कारोबार के लिए भागीदार की तलाश

टाटा मोटर्स अपने यात्री वाहन कारोबार के लिए भागीदार की तलाश कर रही है। टाटा मोटर्स के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि कंपनी अगले दशक की वृद्धि के लिए तैयारी कर रही है। इस दौरान नई प्रौद्योगिकियों, नियमनों में भारी निवेश देखने को मिलेगा।  कंपनी द्वारा अपने यात्री वाहन कारोबार के लिए एक अलग इकाई बनाने की प्रक्रिया को तेजी से आगे बढ़ाया जा रहा है। साथ ही वह सक्रिय तरीके से भागीदार की तलाश में जुटी है। 

नई प्रौद्योगिकियों और नियमनों में भारी निवेश होगा

इससे पहले टाटा मोटर्स के निदेशक मंडल ने इसी साल एक अलग इकाई बनाने की मंजूरी दी थी। कंपनी यह इकाई अपने यात्री वाहन कारोबार और इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) के लिए बना रही है। इस इकाई में कंपनी अपने संबद्ध कारोबार की संपत्तियां, बौद्धिक संपदा तथा कर्मचारियों को स्थानांतरित करेगी, जिससे एकल आधार पर इसका संचालन किया जा सके। टाटा मोटर्स के अध्यक्ष यात्री वाहन कारोबार इकाई (पीवीबीयू) शैलेश चंद्रा ने पीटीआई-भाषा से साक्षात्कार में कहा, ''इस प्रक्रिया का पूरा उद्देश्य सक्रिय तरीके से भागीदार की तलाश करना है। वास्तविकता यह है कि सहयोग से हम अगले दशक के लिए क्षमता का बेहतर तरीके से दोहन कर सकते हैं। अगले दशक के दौरान नई प्रौद्योगिकियों और नियमनों में भारी निवेश होगा। 

नई इकाई बनाने की चल रही है प्रक्रिया

उन्होंने कहा कि भागीदार के जरिये उत्पाद के जीवनचक्र को कम करने और नए उत्पादों को तेजी से पेश करने में मदद मिलेगी। चंद्रा ने कहा, 'इन सब के लिए भारी निवेश की जरूरत होगी। साथ ही तत्परता भी महत्वपूर्ण होगी। ऐसे में हम सक्रिय तरीके से भागीदार की तलाश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि नई इकाई बनाने की प्रक्रिया चल रही है। साथ ही कंपनी एक भागीदार की तलाश भी कर रही है। इससे हम संपत्तियों और क्षमता का सृजन कर पाएंगे, जिससे दोनों को फायदा होगा। दोनों के लिए समयसीमा के बारे में पूछे जाने पर चंद्रा ने कहा कि इसके लिए कोई विशेष समयसीमा तय नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि कारोबार को एक अलग वैध इकाई में बदलने के काम को हम एक साल में तेज करना चाहेंगे। जहां तक भागीदार का सवाल है, हम इस पर लगातार काम करते रहेंगे। 

संबंधित खबरें