DA Image
8 अप्रैल, 2021|9:58|IST

अगली स्टोरी

मोबाइल ऐप से लोन लेने में फर्जीवाड़े का खतरा ज्यादा, रखें इन बातों का ध्यान

ec to deploy app for online nomination  crowd management for bihar polls

देश में इंस्टेंट लोन (चंद मिनटों के अंदर) देने वाले मोबाइल ऐप की संख्या तेजी से बढ़ी है। वहीं, कोरोना संकट के बाद वित्तीय परेशानी का सामना कर रहे लोग अचानक पैसों की जरूरत पड़ने पर ऐसे एप का सहारा ले रहे हैं।

ये मोबाइल ऐप बिना दस्तावेज जमा किए चंद मिनटों में लोन देने का दावा करते हैं। हालांकि, इसके चक्कर में बहुत सारे लोग फर्जीवाड़े के शिकार भी हुए हैं। इसको देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) भी लागतार सचेत कर रहा है। बैंकिंग विशेषज्ञों का कहना है कि कुछ बातों की जानकारी लोन लेने से पहले रखकर सही फिनटेक कंपनी का चुनाव किया जा सकता है।

कंपनी के बारे में जानकारी जुटाएं

विवि इंडिया के संस्थापक और सीईओ, अनिल पिनापाला ने बताया कि जिस तरह कर्जदाता प्रत्येक आवेदन के लिए नो योर कस्टमर्स (केवाईसी) करते हैं, ठीक उसी तरह कर्ज के लिए आवेदन करने से पहले अपने लोन देने वाले के बारे जानें। उन कंपनियों को जानें जो आरबीआई के साथ रजिस्टर्ड हैं। आरबीआई के साथ पंजीकृत कंपनी एक सख्त गाइलाइन को फॉलो करती है जिससे ग्राहकों को किसी तरह की पेरशानी का सामना न करना पड़े। अगर, आप जिस फिनटेक कंपनी से लोन लेना चाहते हैं और वह आरबीआई से पंजीकृत नहीं है तो उसे लोन नहीं लें।

वेबसाइट चेक करें

बहुत सारे ऐसे चीनी एप हैं जिनकी कोई वेबसाइट नहीं है और इनसे लोन लेना खतरे से खाली नहीं है। भले ही कोई वेबसाइट लिस्टेड है लेकिन, लोन लेने से पहले उधारकर्ताओं को यह जांचना चाहिए कि कंपनी या बैंक आरबीआई के साथ पंजीकृत है या नहीं। इसके अलावा, कंपनी की पहचान संख्या की जांच करें। अगर किसी लेंडर के पास वेबसाइट नहीं है तो वह एप डाउनलोड न करें। आपके लिए खतरा हो सकता है।

शिकायत निवारण को देंखे

लीगल लेंडिंग एप की पहचान करने का एक और तरीका यह है कि आरबीआई पंजीकृत एनबीएफसी से वैध रूप से जुड़ा है। इसके अलावा सत्यापित उधारदाताओं को केवाईसी और कलेक्शन प्रैक्टिस विभिन्न नियामक दिशानिर्देशों का पालन करना आवश्यक है जो ग्राहकों की सुरक्षा के लिए डिजाइन किए गए हैं। आरबीआई से पंजीकृत लेंडर को बहुत सारे केवाइसी औैर कलेक्शन प्रॉसेस के लिए गाइडलाइन को मानना पड़ता है।

रिव्यू की जांच करें

और अंत में किसी भी लेंडर का ऐप डाउनलोड गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करने से पहले उसके बारे में ग्राहकों की ओर से दी गई रिव्यू को जरूर पढ़े। यह आपको उस ऐप के बारे में जानकारी दे देगा। यह भी ख्याल रखें कि अगर आप प्ले स्टोर से ऐप डाउनलोड कर रहे हैं वह आपको कंपनी की वेबसाइट पर ले जा रहा है तो यह खतरे का संकेत है। उस मोबाइल एप को डाउनलोड नहीं करें। इसके साथ ही ब्याज दर, प्रोसेसिंग फी, वसूल प्रक्रिया को लेकर अगर पारदर्शिता नहीं है तो भी उस ऐप को भी डाउनलोड नहीं करें।

भारतीयों में बढ़ती जा रही फास्ट फूड की तलब, जानें क्यों बढ़ रही है डिमांड

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:App will save the right fintech from fraudulent loan