DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

असर और उम्मीदः जीएसटी से पहले बाइक सस्ती, बजाज के बाद इन कंपनियों ने भी घटाई कीमत

Royal Enfield

दोपहिया वाहन कंपनी बजाज ऑटो के बाद टीवीएस मोटर और रॉयल इनफील्ड ने भी ग्राहकों को जीएसटी का संभावित फायदा पहुंचाने वाली कंपनियों की कड़ी में शामिल हो गई हैं। ऊंचे दाम की मोटरसाइकिलें बनाने वाली रॉयल इनफील्ड ने अपने मॉडलों पर दाम 2,300 रुपये तक घटा दिए हैं, जबकि टीवीएस मोटर ने अपने उत्पादों पर दाम में कटौती की मात्र का खुलासा नहीं किया है। आयशर मोटर्स की साझीदार कंपनी रॉयल इनफील्ड बुलेट, क्लासिक, थंडरबर्ड समेत प्रीमियम मोटरसाइकिलों की बिक्री करती है।

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि चेन्नई में यह कमी 1600-2300 रुपये तक होने की आशा है। यह कमी अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग स्तर की है। टीवीएस मोटर के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी के.एन. राधाकृष्णन ने कहा कि जीएसटी से कारोबार करने में बहुत आसानी होगी। हम इसके सभी फायदों को ग्राहकों तक पहुंचाएंगे। 

कर प्रणाली में तकनीक समस्या आएगी: 

जीएसटी के लागू करने की तैयारियों के बीच खुदरा कारोबारियों के शीर्ष संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि बड़ी संख्या में व्यापारियों को कर अनुपालन में चुनौतियां पेश आएंगी। 

छोटे व्यापारियों पर असर होगा:

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की आर्थिक शाखा स्वदेशी जागरण मंच (एसजेएम) ने जीएसटी के क्रियान्वयन से कुछ दिन पहले इस पर सवाल खड़ा किया है। मंच का कहना है कि जीएसटी से छोटे कारोबारी बुरी तरह प्रभावित होंगे और चीन से आयात बढ़ेगा। मंच के सह-संयोजक अश्विनी महाजन ने कहा कि जीएसटी का क्रियान्वयन नजदीक आ रहा है। साथ ही छोटे उद्यमियों और व्यापारियों की धड़कन बढ़ रही है।

कार कंपनियां भी पीछे नहीं

ग्राहकों को लाभ पहुंचाने में कार कंपनियां पीछे नहीं हैं। फोर्ड, ऑडी, बीएमडब्ल्यू और मर्सिडीज ने कारों की कीमतों में 10 हजार रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक कटौती की है।

कटौती भी अलग-अलग

एक जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद मोटरसाइकिलों पर कर की दर में कमी की उम्मीद है। हालांकि यह कटौती भिन्न-भिन्न राज्यों में अलग-अलग होगी।

एक लाख नौकरियां तत्काल मिलेंगी

जीएसटी से कराधान, लेखांकन और डाटा एनालसिस जैसे विशेषज्ञ क्षेत्रों समेत विविध क्षेत्रों में तत्काल एक लाख रोजगार के मौकों मिलने की उम्मीद है। साथ ही इससे औपचारिक रोजगार क्षेत्र को 10 से 13 फीसदी की वार्षिक वृद्धि हासिल करने की संभावना है। इंडियन स्टाफिंग फेडरेशन की अध्यक्ष ऋतुपर्णा चक्रवर्ती ने कहा कि जीएसटी से मुनाफे में भी सुधार आएगा। इन सभी बातों और अनुपालन की पारदर्शिता से असंगठित क्षेत्र में काम करना बहुत कम आकर्षक हो जाएगा। ग्लोबल हंट के एमडी सुनील गोयल ने कहा, ऐसा जान पड़ता है कि जीएसटी से पहली तिमाही में तत्काल एक लाख से अधिक नौकरियां पैदा होंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:after Bajaj these companies also reduced the cost of bikes before GST