Tuesday, January 18, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेस19 दिन बाद बढ़ी डीजल की कीमत, अभी और महंगाई की आशंका

19 दिन बाद बढ़ी डीजल की कीमत, अभी और महंगाई की आशंका

राजीव जयसवाल,नई दिल्लीDeepak Kumar
Fri, 24 Sep 2021 12:26 PM
19 दिन बाद बढ़ी डीजल की कीमत, अभी और महंगाई की आशंका

इस खबर को सुनें

करीब 19 दिन के ठहराव के बाद शुक्रवार को एक बार फिर डीजल के दाम बढ़ गए हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से आगे भी ईंधन की कीमतें बढ़ सकती हैं। डीजल की कीमत में 20 से 21 पैसे तक का इजाफा हुआ है। देश की राजधानी दिल्ली में डीजल की कीमत 88.62 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 88.82 रुपये प्रति लीटर हो गई है। वहीं, पेट्रोल की बात करें तो 5 सितंबर से 101.19 रुपये प्रति लीटर के भाव पर स्थिर है।

क्यों है बढ़ोतरी की आशंका: बीते कुछ दिनों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें 6.96 प्रतिशत बढ़कर 77.25 डॉलर प्रति बैरल हो गई हैं। यही वजह है कि आगे भी कीमतों में बढ़ोतरी की आशंका जाहिर की जा रही है। विभिन्न तेल कंपनियों में काम करने वाले दो अधिकारियों ने भी बताया है कि आने वाले दिनों में तेल के दाम में बढ़ोतरी देखी जा सकती है।

आपको बता दें कि अगस्त के मध्य में अंतरराष्ट्रीय तेल की कीमतें 70 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ गई थीं। इसके बाद तेल कंपनियों ने भी कीमतों में कटौती की। दिल्ली में 36 दिनों तक 101.84 रुपये प्रति लीटर का रिकॉर्ड बनाए रखने के बाद 22 अगस्त को पेट्रोल की कीमतों में 20 पैसे प्रति लीटर की कमी आई थी।

क्या कहते हैं आंकड़े: आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक पेट्रोलियम क्षेत्र ने 2020-21 में 371,726 करोड़ रुपये के केंद्रीय उत्पाद शुल्क और 202,937 करोड़ रुपये के राज्य शुल्क या मूल्य वर्धित कर (वैट) का योगदान दिया है। देश की राजधानी दिल्ली में, पेट्रोल की कीमत का 32.5 प्रतिशत से अधिक केंद्रीय शुल्क है, और राज्य कर (वैट) 23.07 प्रतिशत है। वहीं, डीजल पर केंद्रीय उत्पाद शुल्क 35.8 प्रतिशत से अधिक है जबकि वैट 14.6 प्रतिशत से अधिक है।

पहले 25, फिर 50 और अब 60 हजार, मोदी राज में यूं भाग रहा सेंसेक्स

टैक्स और अंतरराष्ट्रीय तेल की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से पेट्रोल और डीजल की दरें इस साल जुलाई के मध्य में क्रमशः 101.84 रुपये प्रति लीटर और 89.87 रुपये के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई थीं। हालांकि, अगस्त के मध्य में कीमतों में थोड़ी नरमी आई। बता दें कि भारत 80 प्रतिशत से अधिक कच्चे तेल का आयात करता है। 

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें