DA Image
20 जनवरी, 2020|9:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सलाह: बैंक, बीमा कंपनी की लापरवाही पर आप ले सकते हैं हर्जाना

rupees notes in answer copy of uppsc

आमतौर पर बैंक, बीमा कंपनी या म्यूचुअल फंड हाउस की ओर से सेवा में लापरवाही या देरी पर हम हर्जाना नहीं मांगते हैं। लेकिन, आपको पता होना चाहिए कि अगर बीमा कंपनी आपको दावा देने में देरी करे तो आप खराब सेवा की एवज में मुआवजा मांग सकते हैं। इसी तरह बैंक, कर विभाग से भी हर्जाना वसूल सकते हैं। आइए जानते हैं कि खराब सेवा पर किस तरह मुआवजा मांग सकते हैं।

इंश्योरेंस कंपनी को देना होता है अधिक ब्याज
बीमा नियामक इरडा के अनुसार, अगर बीमा कंपनी डेथ क्लेम समय पर निपटा नहीं पाती है तो उसे रेपो रेट से 2% ऊपर का ब्याज मुआवजा के रूप में देना होता है। कंपनी के पास दावा मानने या खारिज करने के लिए सर्वे रिपोर्ट और संबंधित सूचना मिलने के बाद 30 दिनों का समय होता है। इसी तरह स्वास्थ्य बीमा कंपनियों को मुआवजा चुकाना होता है। बीमा कंपनी को जांच अंतिम दस्तावेज हासिल होने के 30 दिनों के भीतर और दावा 45 दिनों के भीतर निपटाना होता है।

म्यूचुअल फंड से पेनल्टी
आप किसी म्यूचुअल फंड कंपनी में निवेश करते हैं। अगर, म्यूचुअल फंड कंपनी आपके आवेदन के 10 दिन के बाद या डिविडेंड की घोषणा होने के 30 दिन बाद भी भुगतान नहीं कर पाती है तो कंपनी से पेनल्टी लिया जा सकता है। कंपनी से पेनल्टी के तौर पर 15% की दर से देय रकम पर देरी वाली अवधि के लिए ब्याज लिया जा सकता है।

बैंक-वॉलेट के लिए नियम
किसी बैंक के ग्राहक हैं और एटीएम से पैसा निकलाने के दौरान आपका पैसा खाता से कट जाता है लेकिन कैश नहीं मिलता तो बैंक के पास उसे लौटाने के लिए छह दिन (ट्रांजैक्शन वाले दिन के बाद पांच दिन और) का समय होता है। इसके बाद अगर बैंक आपको पैसा नहीं लौटता है तो 100 रुपये रोजना की पेनल्टी शुरू हो जाती है। वहीं, मोबाइल वॉलेट से पैसा कट जाता है तो कपंनी को एक दिन के अंदर पैसा लौटाना होगा। ऐसा नहीं करने पर तीसरे दिन से 100 रुपये रोजना पेनल्टी चुकानी होगी। 

रिफंड में देरी पर देनदारी
अगर आपको अडवांस टैक्स या टीडीएस के तौर पर अदा की गई अतिरिक्त रकम का रिफंड समय पर नहीं मिलता है तो आपको रिफंड पर हर महीने 0.5% का ब्याज मिलेगा लेकिन रिफंड की रकम टैक्स देनदारी के 10% से कम होती है तो आपको उस पर कोई ब्याज नहीं मिलेगा। अगर रिटर्न 31 जुलाई से पहले दाखिल किया गया है तो ब्याज असेसमेंट ईयर में 1 अप्रैल से रिफंड भुगतान की तारीख तक के लिए मिलेगा। रिटर्न बाद में फाइल होने पर यह समय तब से शुरू होगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Advice You can take recompense For Bank Insurance Company negligence