A week before akshaya tritiya gold price decrease - अक्षय तृतीया से एक हफ्ता पहले सस्ता हुआ सोना, जानिए क्या है कीमत DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अक्षय तृतीया से एक हफ्ता पहले सस्ता हुआ सोना, जानिए क्या है कीमत

वैश्विक स्तर पर दोनों कीमती धातुओं में रही घटबढ़ के बीच सुस्त पड़ी स्थानीय जेवराती माँग से दिल्ली सरार्फा बाजार में बुधवार को सोना 75 रुपये लुढ़ककर 32,870 रुपये प्रति दस ग्राम पर आ गया । हालांकि, औद्योगिक मांग निकलने से चाँदी 25 रुपये की तेजी के साथ 38,525 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गयी।
विदेशों से मिली जानकारी के अनुसार, लंदन का सोना हाजिर 1.67 डॉलर लुढ़ककर 1,282.75 डॉलर प्रति औंस पर आ गया। जून का अमेरिकी सोना वायदा 3.10 डॉलर की तेजी के साथ 1,282.60 डॉलर प्रति औंस बोला गया।

बाजार विश्लेषकों का कहना है कि दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के बास्केट में डॉलर के नरम पड़ने से पीली धातु की चमक बढ़ी है लेकिन साथ ही इस पर अमेरिका के मजबूत आर्थिक आंकड़ों का दबाव भी बना हुआ है।अंतरार्ष्ट्रीय बाजार में चाँदी हाजिर 14.90 डॉलर प्रति औंस पर स्थिर रही। 

स्थानीय बाजार में सोने की जेवराती माँग कमजोर पड़ने से सोना स्टैंडर्ड 75 रुपये फिसलकर 32,870 रुपये प्रति दस ग्राम पर आ गया। सोना बिटुर इतनी ही गिरावट के साथ 32,700 रुपये प्रति दस ग्राम पर रहा। आठ ग्राम वाली गिन्नी 26,400 रुपये पर स्थिर रही।

चाँदी की औद्योगिक ग्राहकी आने से चाँदी हाजिर 25 रुपये की तेजी के साथ 38,525 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गयी। चाँदी वायदा 145 रुपये लुढ़ककर 37,075 रुपये प्रति किलोग्राम बोली गयी। सिक्का लिवाली और बिकवाली गत दिवस के क्रमश: 80 हजार और 81 हजार रुपये प्रति सैकड़ा पर मजबूती से टिके रहे।

दिल्ली सरार्फा बाजार में दोनों कीमती धातुओं के दाम (रुपये में) इस प्रकार रहे:-
सोना स्टैंडर्ड प्रति 10 ग्राम : 32,870
सोना बिटुर प्रति 10 ग्राम : 32,700
चाँदी हाजिर प्रति किलोग्राम: 38,525
चांदी वायदा प्रति किलोग्राम : 37,075
सिक्का लिवाली प्रति सैकड़ा : 80,000
सिक्का बिकवाली प्रति सैकड़ा : 81,000
गिन्नी प्रति आठ ग्राम : 26,400
सरकार का भरी जेब, अप्रैल में अब तक का रिकॉर्ड GST कलेक्शन 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:A week before akshaya tritiya gold price decrease