DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसटेक्सटाइल पार्कों पर 4,445 करोड़ खर्च होंगे, सीधे तौर पर सात लाख और अपरोक्ष रूप से 14 लाख लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे

टेक्सटाइल पार्कों पर 4,445 करोड़ खर्च होंगे, सीधे तौर पर सात लाख और अपरोक्ष रूप से 14 लाख लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे

नई दिल्ली। विशेष संवाददाताDrigraj Madheshia
Thu, 07 Oct 2021 10:53 AM
टेक्सटाइल पार्कों पर 4,445 करोड़ खर्च होंगे, सीधे तौर पर सात लाख और अपरोक्ष रूप से 14 लाख लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे

केंद्र सरकार ने पीएम मित्र स्कीम के तहत देशभर में सात मेगा इनवेस्टमेंट टेक्सटाइल पार्क बनाने की मंजूरी दे दी है। इस पर मेगा टैक्सटाइल स्कीम पर करीब 4445 करोड रुपये खर्च करने की योजना है। विदित हो कि बीते कुछ महीनों में सरकार ने टेक्सटाइल को लेकर यह तीसरा बडा फैसला लिया है। सरकार के इस फैसले से रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिए गए फैसले की जानकरी देते हुए केंद्रीय वाणिज्य, उपभोक्ता एवं खाद्य व आपूर्ति मंत्री पीयूष गोयल ने पत्रकरों को बताया कि मेगा टैक्सटाइल पार्क बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई्र है। उन्होंने बताया कि स्कीम पर 4445 करोड रुपये खर्च किए जांएगे। इससे टेक्सटाइल व मैन्युफैक्चरिंग के क्षेत्र में बहुत बडी क्रांति आएगी। उन्होंने बताया कि टेक्सटाइल इंडस्ट्री को निर्यात को बढ़ावा देने के लिए सात प्रमुख फैसले किए हैं।

पूरा काम एक छत के नीचे

बुधवार को इस उद्योग के लिए सातवां फैसला किया गया है। पीएम मित्र स्कीम बुधवार से शुरू हो रही है। सरकार इसके लिए 5-एफ कॉस्टेप पर काम कर रही है। वर्तमान में यह उद्योग एकीकृत नहीं है। इससे लागत बढ़ जाती है। इस स्कीम से पूरा काम एक छत के नीचे होगा। इसमें अब तक 10 राज्यों ने दिलचस्पी दिखाई है। इससे सात लाख सीधे तौर पर और अपरोक्ष रूप से 14 लाख लोगों विशेषकर महिलाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

एक पार्क तैयार करने में 1700 करोड़ रुपये खर्च किए जांएगे। यह पार्क करीब 1000 एकड़ में तैयार होगा। जिन राज्यों में अधिक सुविधाएं होंगी, सस्ती बिजली, सस्ती जमीन आदि मुहैया कराई जाएगी, वहां ये पार्क बनाए जाएंगे। ग्रीन फील्ड क्षेत्र में 500 करोड़ और ब्राउन फील्ड क्षेत्र में 200 करोड के पार्क बनाए जांएगे।

दुनिया का छठा सबसे बड़ा एक्सपोर्टर

भारत कपड़ा उद्योग में दुनिया का छठा सबसे बड़ा एक्सपोर्टर है। टेक्सटाइल पार्क के जरिये इस सेक्टर में एक्सपोर्ट को सुधारने की तैयारी है। इसीलिए सरकार एकीकृत टेक्सटाइल पार्क बना रही है। इसमें एक ही जगह पर कई फैक्ट्री यूनिट को स्थापित किया जाएगा। कपड़ा उद्योग से जुड़ी सभी बुनियादी चीजों की सुविधाएं जैसे उत्पादन, मार्केट लिंकेज उपलब्ध रहेंगी।

इसमें राज्य सरकारों का अहम रोल रहेगा। विदित हो कि टेक्सटाइल पार्क का उद्देश्य कपड़ा क्षेत्र में बड़े निवेश लाना होता हे। इन पार्कों में कपड़ा इंडस्ट्री के लिए एकीकृत सुविधाएं होती है। इसके साथ ही परिवहन में होने वाले नुकसान को न्यूनतम करने की व्यवस्था रहती है। इनमें आधुनिक बुनियादी संरचनाएं, साझा सुविधाओं के अलावा रिसर्च एंड डेवलपमेंट लैब की व्यवस्था होती है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें