ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसटाटा ग्रुप के 4 छुपे रुस्तम स्टॉक जो निवेशकों को कर रहा मालामाल, पोर्टफोलियो में कर सकते हैं शामिल!

टाटा ग्रुप के 4 छुपे रुस्तम स्टॉक जो निवेशकों को कर रहा मालामाल, पोर्टफोलियो में कर सकते हैं शामिल!

Multibagger Stock: पिछले दो साल में, वैश्विक अर्थव्यवस्था के महामारी की चपेट में आने के बावजूद भारत में बड़ी संख्या में शेयरों ने मल्टीबैगर शेयरों की लिस्ट (multibagger stock list) में प्रवेश...

टाटा ग्रुप के 4 छुपे रुस्तम स्टॉक जो निवेशकों को कर रहा मालामाल, पोर्टफोलियो में कर सकते हैं शामिल!
Varsha Pathakलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 22 Jan 2022 02:22 PM

Multibagger Stock: पिछले दो साल में, वैश्विक अर्थव्यवस्था के महामारी की चपेट में आने के बावजूद भारत में बड़ी संख्या में शेयरों ने मल्टीबैगर शेयरों की लिस्ट (multibagger stock list) में प्रवेश किया। ऐसे में शेयर बाजार से कमाई के लिए निवेशकों दिलचस्पी भी बढ़ी है। अगर आप भी शेयर बाजार (Share market) से कमाई करने की सोच रहे हैं और आप मल्‍टीबैगर स्टॉक की तलाश में हैं तो आपके लिए यह खबर काम की हो सकती है। 

आज हम आपको टाटा ग्रुप के टॉप-5 छुपे रुस्तम स्टॉक के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने एक साल में शानदार रिटर्न (Multibagger Return) देकर निवेशकों को मामामाल कर दिया। छुपे रुस्तम (Hidden stock) इसलिए क्योंकि ये वो कंपनियां हैं, जो बहुत ज्यादा पॉपुलर नहीं है जिनके बारे में कम लोग ही जानते होंगे, लेकिन रिटर्न देने (Stock return) के मामले में ये जबरदस्त है। 

1. ऑटोमोटिव स्टैम्पिंग और असेंबली (Automotive Stampings & Assemblie)
पिछले एक साल में टाटा समूह का यह कम-पॉपुलर स्टॉक 1,500% से अधिक बढ़ गया है। एक साल पहले 22 जनवरी 2021 को ऑटोमोटिव स्टैम्पिंग और असेंबली का शेयर ₹35.95 पर बंद हुआ था, जबकि 21 जनवरी 2022 इसकी क्लोजिंग 614.10 पर हुई है। इस दौरान इस स्टॉक ने 1,561.98% का रिटर्न दिया है। अगर किसी निवेशक ने एक साल पहले इस कंपनी पर भरोसा जताया होता और ₹1 लाख का निवेश किया होता तो उसका 1 लाख आज ₹17 लाख से ज्यादा होता।

क्या करती है कंपनी?: ऑटो सहायक फर्म मुख्य रूप से टाटा मोटर्स के लिए शीट-मेटल स्टैम्पिंग, वेल्डेड असेंबली और पैसेंजर और कमर्शियल व्हीकल्स के लिए मॉड्यूल बनाती है। इसके अलावा,यह कंपनी अपने प्रोडक्ट्स को जनरल मोटर्स इंडिया, फिएट इंडिया, पियाजियो वाहन, अशोक लीलैंड, जेसीबी, Tata Hitachi और एमजी मोटर्स जैसी शीर्ष ऑटोमोबाइल कंपनियों को बेचती है।

यह भी पढ़ें- छप्परफाड़ रिटर्न! इस पेनी स्टॉक ने सिर्फ 3 महीने में 1 लाख रुपये को बना दिया ₹2.5 करोड़, क्या आपके पास है? 

2. टाटा टिनप्लेट (Tinplate Company of India)
टाटा टिनप्लेट (Tata Tinplate) का शेयर एक साल पहले 22 जनवरी 2021 को ₹169.05 पर बंद हुआ था, जबकि 21 जनवरी 2022 इसकी क्लोजिंग 371.70 पर हुई है। इस दौरान इस स्टॉक ने 119.88% का रिटर्न दिया है। अगर किसी निवेशक ने एक साल पहले इस शेयर में ₹1 लाख का निवेश किया होता तो उसका 1 लाख आज ₹2.19 लाख होता।

क्या करती है कंपनी?: भारत की टिनप्लेट कंपनी (TCIL) भारत में टिनप्लेट की सबसे बड़ी निर्माता है। देश की पहली टिनप्लेट निर्माता टीसीआईएल साल1920 की कंपनी है। यह कट शीट और कॉइल फॉर्म में टिनप्लेट और शीट फॉर्म में टिन फ्री स्टील (टीएफएस) प्रदान करता है। टिनप्लेट कंपनी के दो प्रमुख प्रोडक्ट टिनप्लेट और टीएफएस हैं, जो प्रोसेस्ड फूड की पैकेजिंग करती हैं। इसके अलावा कंपनी खाद्य तेल, पेंट और कीटनाशक, बैटरी और एरोसोल और बोतल क्राउन उत्पादकों सहित उद्योगों की एक लार्ज चेन सर्विस मुहैया कराती है। भारत की टिनप्लेट कंपनी टाटा स्टील की सहायक कंपनी है, जिसके पास 74.96% हिस्सेदारी है।

3. गोवा का ऑटोमोबाइल कॉर्पोरेशन (Automobile Corporation of Goa ltd.)
इस ऑटोमोबाइल कंपनी का शेयर एक साल पहले 22 जनवरी 2021 को ₹467.25 पर बंद हुआ था, जबकि 21 जनवरी 2022 यह शेयर 958.90 रुपये पर बंद हुआ है। इस दौरान इस स्टॉक ने 105.22% का रिटर्न दिया है। अगर किसी निवेशक ने एक साल पहले इस शेयर में ₹1 लाख का निवेश किया होता तो उसका 1 लाख आज ₹2.05 लाख होता। यानी डबल का फायदा होता। 

क्या करती है कंपनी?: यह गोवा में स्थापित होने वाली पहली प्रमुख इंजीनियरिंग यूनिट कंपनी है। इसे 1980 में टाटा मोटर्स और ईडीसी (पूर्व में गोवा, दमन और दीव के आर्थिक विकास निगम के रूप में जाना जाता था) द्वारा संयुक्त रूप से बढ़ावा दिया गया था। यह अपने कारखानों में शीट मेटल कंपोनेंट्स, असेंबली और बस कोच बनाती है। यह फर्म टाटा मोटर्स की पुणे फैक्ट्री में प्रेसिंग और असेंबलियों की मुख्य सप्लायर है। शेयर बाजार पर दी गई जानकारी के अनुसार, टाटा मोटर्स इस माइक्रोकैप कंपनी का टॉप शेयरधारक है। फर्म में इसकी लगभग 48.98% कंट्रोलिंग हिस्सेदारी है, जबकि EDC की 6.66% हिस्सेदारी है। 

4. नेल्को (Nelco)
टाटा ग्रुप का यह स्टॉक ₹217.90 (NSE पर 22 जनवरी 2021 को बंद कीमत) से बढ़कर ₹844.40 के स्तर (NSE पर 21 जनवरी 2022 को बंद कीमत) हो गया है। 1 साल में यह स्टॉक अपने शेयरधारकों को 287.52% है। अगर कोई निवेशक ने एक साल पहले इस शेयर में ₹1 लाख का निवेश किया होता तो उसका ₹1 लाख आज 3.87 लाख रुपये हो गया होता।

क्या करती है कंपनी?: नेल्को, टाटा समूह का एक आईटी नेटवर्किंग इक्विपमेंट स्टॉक है। यह डिफेंस और डिफेंस सर्विलांस, सिविल एप्लीकेशन, अट्रैक्शन, लोकोमोटिव के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और वीसैट के साथ नेटवर्क प्रबंधन प्रणाली से जुड़े turnkey परियोजनाओं के लिए सुरक्षा और निगरानी के क्षेत्रों में माहिर हैं। कंपनी डिफेंस, रेलवे, स्टील, सीमेंट, ऑटोमोबाइल, तेल और गैस, कागज, चीनी मिट्टी की चीज़ें और सेवाओं जैसे कुछ प्रमुख उद्योगों में एक्टिव है। टाटा समूह की पावर यूटिलिटी फर्म, टाटा पावर कंपनी में सबसे बड़ी हिस्सेदारी रखती है। नेल्को में इसकी 48.64% हिस्सेदारी है। 

यह भी पढ़ें- Adani Wilmar IPO: अडानी की कंपनी में कमाई का जबरदस्त मौका! 27 जनवरी से लगा सकते हैं पैसे, जानें शेयर प्राइस-GMP समेत 10 बातें

टाटा ग्रुप के शेयरों में खास दिलचस्पी!
बता दें कि टाटा ग्रुप के शेयरों को लेकर निवेशकों में खास दिलचस्पी रहती है, क्योंकि कंपनी की सफलता की कहानी मुख्य रूप से मानवता, परोपकार और नैतिकता पर आधारित है। पिछले चार सालों के दौरान टाटा समूह की लिस्टेड कंपनियों में अच्छी खासी वृद्धि हुई है। पिछले साल फरवरी में दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने एक इंटरव्यू में कहा था, "मुझे लगता है, टाटा का घर भगवान का आशीर्वाद है।"  बिग बुल समेत अन्य दिग्गज निवेशकों का मानना ​​है कि टाटा समूह में निवेश करना मुनाफे का सौदा है।

डिस्क्लेमर- यहां स्टॉक्स के बारे में दी सूचना आपकी जानकारी के लिए है। निवेश से पहले एक्सपर्ट की राय जरूर लें। 

epaper