ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसPalm oil के आयात में 10 पर्सेंट की कमी; क्या है इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह

Palm oil के आयात में 10 पर्सेंट की कमी; क्या है इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह

जुलाई महीने में इंडियन पाम ऑयल के आयात में 10 पर्सेंट की कमी आई है। इसकी सबसे बड़ी वजह रिफाइनरी कंपनी का सोयाबीन के तेलों का ज्यादा आयात करना माना जा रहा है।

Palm oil के आयात में 10 पर्सेंट की कमी; क्या है इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह
Ashutosh Kumarलाइव मिंट,नई दिल्लीFri, 12 Aug 2022 07:15 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

जुलाई महीने में इंडियन पाम ऑयल के आयात में 10 पर्सेंट की कमी आई है। इसकी सबसे बड़ी वजह रिफाइनरी कंपनी का सोयाबीन के तेलों का ज्यादा आयात करना माना जा रहा है। मई के महीने में हीं भारत सरकार ने सोयाबीन के तेलों को 2 साल तक के लिए शुल्क मुक्त आयात की अनुमति दे दी थी। भारत सरकार ने यह कदम उस वक्त मस्टर्ड ऑयल के कीमतों में अत्यधिक बढ़ोतरी के कारण लिया था। सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (SEA) ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि जुलाई महीने में पाम ऑयल का आयात 5,30420 टन रहा जो उसके पिछले महीने में 5,90921 टन था।

सोयाबीन ऑयल के आयात में आई तेजी
जुलाई महीने में सोया ऑयल का आयात 125 पर्सेंट बढ़कर रिकॉर्ड 5,19566 टन रहा जबकि सूरजमुखी के तेल का आयात 30 पर्सेंट की बढ़ोतरी के साथ 1,55300 टन रहा। जून के अंत तक सोया ऑयल का प्रीमियम पाम ऑयल की तुलना में 150 डॉलर प्रति टन हो गया। इसका सबसे बड़ा कारण पाम ऑयल का आयात शुल्क 5.5 पर्सेंट था जो भारतीय खरीददारों के लिए ज्यादा महंगा पर रहा था।

फिर पाम ऑयल के आयात में आ सकती है तेजी
पिछले कुछ शब्दों से फिर का पाम ऑयल और सोया ऑयल के कीमतों का अंतर 350 डॉलर प्रति टन की तेजी से बढ़ रहा है। SEA के मुताबिक कीमतों में यह अंतर रिफाइनरी कंपनियों को पाम ऑयल खरीदने के लिए और आकर्षित करेगा। मुंबई के एक डीलर ने ग्लोबल ट्रेडिंग फर्म से बातचीत में यह बात कही है कि अगस्त में पाम ऑयल का आयात 7,00,000 टन के ऊपर जा सकता है।कीमतों में हुए सुधार के बाद जुलाई में पाम ऑयल का भारी आयात किया गया था। 

इन देशों से सबसे ज्यादा होता है तेलों का आयात
मलेशियाई पाम ऑयल की कीमतें जुलाई में एक साल से अधिक के निचले स्तर पर आ गई थी। भारत मुख्य रूप से इंडोनेशिया, मलेशिया और थाईलैंड से पाम तेल खरीदता है, जबकि वह अर्जेंटीना, ब्राजील, यूक्रेन और रूस से सोया तेल और सूरजमुखी तेल का आयात करता है।

epaper