DA Image
5 दिसंबर, 2020|11:56|IST

अगली स्टोरी

PM Kisan की 7वीं किस्त का इंतजार, चेक करें लिस्ट में आपका नाम है या नहीं

                                                                                                                                                                                                      15

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत आने वाली सातवीं किस्त का इंतजार कर रहे 11 करोड़ 35 लाख किसानों में से 1.38 करोड़ को इस बार झटका लगेगा। इस योजाना के लाभार्थियों में से 1.38 करोड़ किसान बाहर हाे गए हैं। दरअसल दो दिन पहले तक पीएम किसान पोर्टल पर इस योजना के लाभार्थियों की संख्या 11.35 करोड़ थी और शुक्रवार को घटकर 9 करोड़ 97 लाख रह गई। हालांकि आज यानी शनिवार को पोर्टल ने अपनी गलती पुन: सुधार ली है और अब 11.37 करोड़  Beneficiaries दिखा रहा है।

PM Kisan की सातवीं किस्त का कर रहे इंतजार तो यहां जानें कहां अटका है आपका 2000 रुपया

pm kisan

 

किस्त-दर-किस्त योजना का लाभ लेने वाले किसानों की संख्या घटती जा रही है। पीएम किसान पोर्टल के मुताबिक पहली किस्त  10.52 करोड़ किसानों को मिली थी, वहीं दूसरी किस्त  9.97 करोड़, तीसरी  9.05 करोड़, चौथी  7.83 करोड़ और पांचवीं किस्त 6.58 करोड़ किसानों तक पहुंची, जबकि छठी किस्त पाने वाले किसानों की संख्या केवल  3.84 करोड़ रह गई है। ऐसे में सातवीं किस्त पाने वाले किसानों की संख्या इससे कम रह सकती है।

क्यों हो रही कमी

अब केंद्र और राज्य सरकार फर्जीवाड़ा करने वाले किसानों से पैसे वसूलने की तैयारी कर रही है। बता दें कि महाराष्ट्र में इनकम टैक्स चुकाने वाले लाखों किसानों को पीएम किसान सम्मान योजना के तहत सालाना 6000 रुपये दे दिए गए। जबकि, इस योजना का लाभ केवल वही किसान उठा सकते हैं, जिनके पास अपनी जमीन है और वे इनकम टैक्स नहीं भरते हैं। इसका लाभ उन किसानों को भी नहीं मिलेगा, जिन्हें 10 हजार रुपये मासिक पेंसन या डिविडेंड मिलता है।

यह भी पढ़ें: PM Kisan की 7वीं किस्त का नहीं मिलेगा पैसा अगर आपने भी किया है ऐसा

अपात्र लोग उठा रहे थे फायदा

टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक महाराष्ट्र में ऐसे 2.30 लाख किसानों को सम्मान निधि का भुगतान कर दिया गया है, जो टैक्स भरते हैं। जांच में यह मामला सामने आया है कि ऐसे किसानों को कुल 208.5 करोड़ रुपये दे दिए गए। अब सरकार इनसे इस राशि वसूलने जा रही है। वहीं तमिलनाडु में 5.95 लाख लाभार्थियों के खातों की जांच की गई, जिसमें से 5.38 लाख फर्जी निकले। ऐसे लोगों से सरकार वसूली कर रही है।  ऐसी ही फर्जीवाड़े की खबर कई अन्य राज्यों से भी मिली है, जिसमें लाखों अपात्र किसान इस योजना का लाभ ले रहे थे।

नई लिस्ट में ऐसे चेक करें अपना नाम

  • वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाएं। 
  • होम पेज पर मेन्यू बार देखें और यहां ‘फार्मर कार्नर’ पर जाएं। 
  • यहां ‘लाभार्थी सूची’ के लिंक पर क्लिक करें।
  • इसके बाद अपना राज्य, जिला, उप-जिला, ब्लॉक और गांव विवरण दर्ज करें
  • इतना भरने के बाद Get Report पर क्लिक करें और पाएं पूरी लिस्ट

लिस्ट में नाम न होने पर इस नंबर पर करें शिकायत: कई लोगों के नाम पिछली लिस्ट में था, लेकिन नई लिस्ट में नहीं है तो इसकी शिकायत आप पीएम किसान सम्मान के हेल्पलाइन नंबर पर दर्ज करा सकते हैं। इसके लिए आप हेल्पलाइन नंबर 011-24300606 पर कॉल कर सकते हैं। 

आइए जानें और किन-किन लोगों को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा...

1-जो लोग खेती की जमीन का इस्तेमाल कृषि कार्य की जगह दूसरे कामों में कर रहे हैं। बहुत से किसान दूसरों के खेतों पर किसानी का काम तो करते हैं, लेकिन खेत के मालिक नहीं होते। ऐसे किसान इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते।

PM Kisan Samman Nidhi: 2000 रुपये की किस्त लेकर फंस गए 2.30 लाख किसान

2-यदि कोई किसान खेती कर रहा है, लेकिन खेत उसके नाम नहीं है तो उसे इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा। अगर खेत उसके पिता या दादा के नाम है  तब भी वे इस योजना का फायदा नहीं उठा सकते।

3-अगर कोई खेती की जमीन का मालिक है, लेकिन वह सरकारी कर्मचारी है या रिटायर हो चुका हो, मौजूदा या पूर्व सांसद, विधायक, मंत्री उन्हें पीएम किसान योजना का लाभ नहीं मिलता। प्रोफेशनल रजिस्टर्ड डॉक्टर, इंजिनियर, वकील, चार्टर्ड अकाउंटेंट  या इनके परिवार के लोगों को भी  इस योजना का फायदा नहीं मिलता।

यह भी पढ़ें:  PM Kisan सम्मान निधि: अगर गलत तरीके से ली है किस्त तो लौटानी ही पड़ेगी

4-अगर कोई व्यक्ति खेत का मालिक है, लेकिन उसे 10000 रुपये महीने से अधिक पेंशन मिलती है, वह इस योजना के लाभार्थी नहीं हो सकते। वहीं इनकम टैक्स चुकाने वाले परिवारों को भी इस योजना का फायदा नहीं मिलेगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:1 crore 38 lakh beneficiaries of PM Kisan reduced check your name in new list