Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़शेयर मार्केट समाचारwipro net profit falls 8 percent to 2835 crore rs announces dividend azim premji entry in board

अजीम प्रेमजी की Wipro बोर्ड में री-एंट्री, 8% गिरा कंपनी का प्रॉफिट, डिविडेंड का ऐलान

  • मार्च तिमाही के दौरान कंपनी का राजस्व गिरकर 22,208.3 करोड़ रुपये हो गया। एक साल पहले की अवधि में इसने 23,190.3 करोड़ रुपये का राजस्व दर्ज किया था।

Deepak Kumar नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीमFri, 19 April 2024 05:02 PM
ट्रेड

Wipro Q4 Result: आईटी सेक्टर की दिग्गज कंपनी-विप्रो लिमिटेड के फाउंडर अजीम प्रेमजी की बोर्ड में एक बार फिर एंट्री हुई है। इसके साथ ही कंपनी ने मार्च तिमाही के नतीजे भी जारी कर दिए हैं। बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही यानी जनवरी से मार्च के बीच कंपनी के प्रॉफिट में 8 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। सालाना आधार पर कंपनी का प्रॉफिट गिरकर 2,835 करोड़ रुपये हो गया। कंपनी ने एक साल पहले की समान अवधि में 3,074.5 करोड़ रुपये का मुनाफा हासिल किया था। मार्च तिमाही के दौरान कंपनी का राजस्व गिरकर 22,208.3 करोड़ रुपये हो गया। एक साल पहले की अवधि में इसने 23,190.3 करोड़ रुपये का राजस्व दर्ज किया था।

अजीम प्रेमजी की नियुक्ति

विप्रो लिमिटेड के बोर्ड ने अजीम प्रेमजी और बेटे रिशद को 31 जुलाई, 2024 से पांच साल के लिए बोर्ड में फिर से नियुक्त किया है। निर्णय शेयरधारकों की मंजूरी के अधीन है। बता दें कि अजीम प्रेमजी को विप्रो के गैर-कार्यकारी, गैर-स्वतंत्र निदेशक के रूप में फिर से नियुक्त किया गया है, जबकि रिशद जुलाई 2029 तक कार्यकारी अध्यक्ष रहेंगे। बता दें कि अजीम प्रेमजी ने जुलाई 2019 में विप्रो से सक्रियता कम कर दी थी। रिशद की बात करें तो 2007 में विप्रो में शामिल हुए और 2019 में कार्यकारी अध्यक्ष की भूमिका संभालने से पहले अलग-अलग पदों पर रहे

डिविडेंड देने का ऐलान

विप्रो ने ₹1 के अंतरिम डिविडेंड का ऐलान किया है। बोर्ड द्वारा पहले 12 जनवरी, 2024 को आयोजित बैठक में डिविडेंड की घोषणा की गई थी, इसे वित्त वर्ष 2023-24 के लिए फाइनल डिविडेंड माना जाएगा।

लगातार 6वीं तिमाही में कम हुए कर्मचारी

विप्रो ने लगातार छठी तिमाही में अपने कर्मचारियों की संख्या में कटौती दर्ज की। जनवरी से मार्च 2024 की अवधि के दौरान कंपनी ने 6,180 कर्मचारियों की कमी देखी। वित्त वर्ष 2023-24 के अंत में विप्रो के कर्मचारियों की कुल संख्या 2,34,054 हो गई।

ऐप पर पढ़ें