Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़शेयर मार्केट समाचारafter election result how to stock market impact here are possible scenarios check detail

चुनावी नतीजे से पहले सहमे निवेशक, 4 जून के बाद स्टॉक मार्केट पर ये है अनुमान

  • मई महीने में अब तक सेंसेक्स 1,700 अंक से अधिक गिर चुका है। इस दौरान एफआईआई (विदेशी संस्थागत निवेशक) ने स्टॉक मार्केट से 28,000 करोड़ रुपये निकाले हैं।

Deepak Kumar नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीमThu, 16 May 2024 04:01 PM
ट्रेड

लोकसभा चुनाव के चार चरण की वोटिंग के बाद शेयर बाजार दबाव में है। दरअसल, चुनाव में वोटिंग पर्सेंट की गिरावट ने निवेशकों की टेंशन बढ़ा दी है। इसके अलावा सट्टा बाजार के अनुमान ने भी निराशावाद के माहौल को बढ़ावा दिया है। यही वजह है कि मई महीने में अब तक सेंसेक्स 1,700 अंक से अधिक गिर चुका है। इस दौरान एफआईआई (विदेशी संस्थागत निवेशक) ने स्टॉक मार्केट से 28,000 करोड़ रुपये निकाले हैं।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

एक्सपर्ट का कहना है कि कम मतदान प्रतिशत ने शेयर बाजार को आश्चर्यचकित कर दिया है। हालांकि, बीजेपी को समर्थन मिलने की उम्मीद बरकरार है। इन्वेस्टेक एक्सपर्ट मुकुल कोचर और जयंत परसरामका ने कहा- सट्टा बाजार संकेत दे रहा है कि बीजेपी 300 सीटें जीत सकती है, जो तमाम अनुमानों से कम है। अगर यह संकेत हकीकत में बदलते हैं तो कुछ लोगों को निराशा होगी। हालांकि, एक स्थिर सरकार चलाने के लिए बीजेपी के बहुमत के आंकड़े (272 सीट) तक पहुंचना व्यावहारिक जरूरत है। चुनाव नतीजे में 303 सीटों से अधिक कुछ भी संकेत देगा कि बीजेपी देश में पैठ बढ़ा रही है। बता दें कि साल 2019 के चुनाव नतीजे में बीजेपी का कब्जा 303 सीट पर था।

चुनावी बयानबाजी से सहमे निवेशक

बाजार के इंटरनल सोर्सेज के मुताबिक बीजेपी की चुनावी बयानबाजी में शासन-केंद्रित विषयों से धार्मिक और सांप्रदायिक मुद्दों की ओर शिफ्ट होने से भी शेयर बाजार के निवेशक भयभीत हैं। नोमुरा के एक्सपर्ट का कहना है कि बाजार जरूरत से ज्यादा प्रतिक्रिया दे सकता है। वोटिंग पर्सेंटेज में गिरावट को ही आधार बनाना ठीक नहीं है। नोमुरा ने कहा कि वोटिंग पर्सेंट में गिरावट और सत्ता विरोधी लहर का कोई स्पष्ट संबंध नहीं है। चुनाव नतीजे को लेकर अनिश्चितता 4 जून तक जारी रहेगी। हालांकि, 1 जून को एग्जिट पोल से संभावित परिणामों पर कुछ स्पष्टता मिलनी चाहिए। नोमुरा के एक्सपर्ट का कहना है कि अतीत में एग्जिट पोल प्रत्यक्ष रूप से सही रहे हैं।

1) बीजेपी की स्पष्ट जीत

नोमुरा के एक्सपर्ट का कहना है कि अगर बीजेपी 272 से अधिक सीटें जीतती है और नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद पर बरकरार रहते हैं तो बाजार पॉजिटिव रिएक्शन देगा। खासकर अगर बीजेपी गठबंधन वाले एनडीए को 400 के करीब सीटें मिलती हैं तो बाजार को बूस्ट मिलेगा। इस वजह से फाइनेंस, कंज्यूमर, इंडस्ट्रियल/ इंफ्रा और पीएसयू के बेहतर प्रदर्शन की संभावना है। वहीं, आईटी और हेल्थ सर्विस के शेयर कमजोर प्रदर्शन कर सकते हैं।

2) एनडीए की जीत

दूसरी ओर अगर बीजेपी बहुमत से पीछे रह जाती है लेकिन एनडीए सहयोगियों की मदद से सत्ता में आ जाती है तो शेयर बाजार बिकवाली मोड में आ सकता है। विशेष रूप से इंफ्रा, पीएसयू, इंडस्ट्रियल स्टॉक दबाव में रहेंगे।

3) इंडिया गठबंधन की जीत

गर कांग्रेस के नेतृत्व में इंडिया गठबंधन सत्ता में आने में कामयाब रहता है तो वित्तीय, औद्योगिक/बुनियादी ढांचे, उपभोक्ता विवेकाधीन और पीएसयू में बिकवाली का डर है। हालांकि, उपभोक्ता वस्तुओं, आईटी सेवाओं और फार्मास्यूटिकल्स का प्रदर्शन बेहतर रहने की संभावना है।

ऐप पर पढ़ें