Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़India stock value tops 5 trillion dollar as Modi win powers rally check details

मोदी की वापसी से शेयर बाजार गुलजार, 5 लाख करोड़ डॉलर के पार मार्केट कैप, निवेशक मालामाल

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार तीसरी बार सत्ता में वापसी हुई है। इस नई सरकार के गठन ने शेयर बाजार को एक बार फिर गुलजार कर दिया है।

Varsha Pathak नई दिल्ली, हिन्दुस्तान संवाददाताTue, 18 June 2024 01:20 PM
पर्सनल लोन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार तीसरी बार सत्ता में वापसी हुई है। इस नई सरकार के गठन ने शेयर बाजार को एक बार फिर गुलजार कर दिया है। सेंसेक्स और निफ्टी हर दिन नई ऊंचाई को छु रहे हैं तो मार्केट कैपिटल के मामले में भी नया रिकॉर्ड बन रहा है। नई सरकार को लेकर निवेशकों के उत्साह का नतीजा ही है कि शेयर मार्केट कैपिटल पहली बार 5 ट्रिलियन डॉलर (5 लाख करोड़ डॉलर) के पार पहुंचा है। ब्लूमबर्ग के आंकड़ों के मुताबिक देश का इक्विटी बाजार अमेरिका, चीन, जापान और हांगकांग की श्रेणी में शामिल हो गया है।

छह महीने में 1 ट्रिलियन डॉलर की बढ़त

बीते छह महीने में भारत के शेयर बाजार के मार्केट कैपिटल में $1 ट्रिलियन की बढ़त देखी गई है। बता दें कि 29 नवंबर 2023 को बीएसई 4 ट्रिलियन डॉलर मार्केट कैपिटल वाला सूचकांक था। यह 21 मई 2024 को 5 ट्रिलियन डॉलर पर पहुंचा। भारतीय शेयर बाजार के इतिहास में इतनी तेजी से बढ़त कभी नहीं देखी गई थी। साल 2007 में 1 ट्रिलियन डॉलर से 2 ट्रिलियन डॉलर के मार्केट कैप तक पहुंचने में करीब 10 साल लग गए। वहीं, साल 2021 में मार्केट कैप 3 ट्रिलियन डॉलर पर था।

 

ज्यादा पैसे देकर अपने ही शेयर खरीदेगी यह कंपनी, खबर आते ही शेयर पर टूटे निवेशक

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

एक्स्पर्ट का कहना है कि अधिकांश प्रमुख मंत्रियों के साथ नई सरकार का गठन मोटे तौर पर नीति निरंतरता की पुष्टि करता है। गोल्डमैन सैक्स के रणनीतिकार सुनील कौल ने कहा कि भारत असाधारण रूप से स्थिर मैक्रोइकॉनॉमिक्स वाला बाजार बना हुआ है और आय में वृद्धि जारी रहने की उम्मीद है, जिससे शेयरों में तेजी आएगी।

हाल के वर्षों में लाखों युवा भारतीयों ने इक्विटी निवेश को प्राथमिकता दी है। आंकड़ों के अनुसार बैंकों और बीमाकर्ताओं सहित स्थानीय फंडों ने इस साल 26 बिलियन डॉलर से अधिक के शेयर खरीदे हैं। वहीं, विदेशियों ने लगभग 3.4 बिलियन डॉलर की बिकवाली की है। नोमुरा होल्डिंग्स इंक के एक रणनीतिकार चेतन सेठ ने कहा-चुनावों के नतीजों के बाद विदेशों में दिलचस्पी लौटनी शुरू हो गई है। मूल्यांकन संबंधी चिंताओं के कारण विदेशी लोग भारत का पर्याप्त हिस्सा नहीं ले पाए हैं।

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें