Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़FM Nirmala sitharaman what says about sleeping partner govt and tax related questions

स्लीपिंग पार्टनर बैठकर जवाब नहीं दे सकता... टैक्स के सवाल पर वित्त मंत्री का मजाक!

रियल एस्टेट या स्टॉक मार्केट में अलग-अलग तरह के हाई टैक्स को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की प्रतिक्रिया की आलोचना हो रही है।

Varsha Pathak नई दिल्ली, एजेंसी/लाइव हिन्दुस्तान टीमThu, 16 May 2024 10:45 AM
ट्रेड

रियल एस्टेट या स्टॉक मार्केट में अलग-अलग तरह के हाई टैक्स को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की प्रतिक्रिया की आलोचना हो रही है। दरअसल, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज यानी बीएसई के एक कार्यक्रम में स्टॉक ब्रोकर ने वित्त मंत्री से शेयर बाजार के ट्रांजैक्शन और घर खरीदने पर सरकार द्वारा लगाए जाने वाले अलग-अलग तरह के टैक्स को लेकर सवाल पूछा था। इस सवाल पर वित्त मंत्री से गंभीर जवाब की उम्मीद थी लेकिन उन्होंने मजाकिया अंदाज में टाल दिया।

क्या था सवाल

एक ब्रोकर ने कहा कि वे पैसा निवेश करते हैं और जोखिम लेते हैं लेकिन सरकार स्लीपिंग पार्टनर बन जाती है। सरकार जीएसटी, आईजीएसटी, स्टांप ड्यूटी, सिक्योरिटीज ट्रांजैक्शन टैक्स (एसटीटी) और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स (एलटीसीजी) टैक्स से ज्यादा कमाई करती है। सरकार को लाभ का एक हिस्सा लेने वाला स्लीपिंग पार्टनर बताते हुए ब्रोकर ने घर खरीदने पर चुकाए जाने वाले टैक्स की रकम पर भी सवाल उठाया। ब्रोकर के मुताबिक स्टांप शुल्क और जीएसटी के जरिए सरकार घर खरीदारों से कमाई करती है। ब्रोकर ने सवाल पूछा कि ऐसे माहौल में सरकार सीमित संसाधनों वाले लोगों को घर खरीदने में कैसे मदद करेगी या एक ब्रोकर भारी-भरकम टैक्स के साथ कैसे काम कर सकता है? यहां सरकार स्लीपिंग पार्टनर है और ब्रोकर वर्किंग पार्टनर है।

चुनाव के बाद मालामाल करेगा यह शेयर! ₹1600 के पार जाएगा भाव, खरीदने की मच गई लूट

75 रुपये का शेयर 1900 रुपये के पार पहुंचा, 9 महीने में 2400% की तूफानी तेजी

वित्त मंत्री की प्रतिक्रिया

इसके जवाब में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मजाकिया अंदाज में कहा- एक स्लीपिंग पार्टनर यहां बैठकर जवाब नहीं दे सकता है। अब सोशल मीडिया पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की प्रतिक्रिया की आलोचना हो रही है। सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म यूजर्स वित्त मंत्री से कुछ गंभीर जवाब की उम्मीद कर रहे थे क्योंकि शेयर बाजार ट्रांजैक्शन और रियल एस्टेट बाजार में ज्यादा टैक्स ने निवेशकों या घर खरीदारों को प्रभावित किया है।

बीएसई के इसी कार्यक्रम के दौरान वित्त मंत्री ने स्टॉक एक्सचेंज से भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के साथ मिलकर काम करने की भी अपील की ताकि नियमों को सख्त बनाया जा सके।

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें