Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़Bidding war for Jaypee Healthcare Fortis Apollo Medanta and Max in the fray

जेपी हेल्थकेयर के लिए बोली लगाने की जंग, फोर्टिस, अपोलो, मेदांता और मैक्स में होड़

  • Jaypee Healthcare News: जेपी हेल्थकेयर जयप्रकाश समूह की आखिरी मूल्यवान कंपनी है, फोर्टिस हेल्थकेयर, अपोलो हॉस्पिटल्स, मेदांता और मैक्स हेल्थकेयर ने जेपी हेल्थकेयर को खरीदने में शुरुआती दिलचस्पी दिखाई है।

Drigraj Madheshia नई दिल्ली, हिन्दुस्तान संवाददाताMon, 17 June 2024 11:20 AM
पर्सनल लोन

फोर्टिस हेल्थकेयर, अपोलो हॉस्पिटल्स, मेदांता और मैक्स हेल्थकेयर उन आधा दर्जन कंपनियों में शामिल हैं, जिन्होंने जेपी हेल्थकेयर को खरीदने में शुरुआती दिलचस्पी दिखाई है। जेपी हेल्थकेयर जयप्रकाश समूह की आखिरी मूल्यवान कंपनी है। इसे दिवालियापन और समाधान प्रक्रिया के लिए स्वीकार किया गया है। हालांकि, फोर्टिस हेल्थकेयर, अपोलो हॉस्पिटल्स, मेदांता और मैक्स हेल्थकेयर ने इस बारे में कोई जवाब नहीं दिया है।

शुक्रवार को नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) की इलाहाबाद पीठ ने जेसी फ्लावर्स एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा दायर याचिका पर जेपी हेल्थकेयर को कॉर्पोरेट दिवालियापन और समाधान प्रक्रिया के लिए स्वीकार करने का मौखिक आदेश दिया।

जयप्रकाश एसोसिएट्स को इस महीने कॉर्पोरेट इनसॉल्वेंसी प्रोसेस के लिए स्वीकार किया गया, जबकि कंसोर्टियम ने पहले ही जेपी इन्फ्राटेक का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया है। नोएडा के जेपी विश टाउन में स्थित मल्टी-स्पेशलिटी टर्शियरी केयर अस्पताल, जेपी हेल्थकेयर जेपी इन्फ्राटेक की सहायक कंपनी है। जेपी अस्पताल में 504 बिस्तर, 18 ऑपरेशन थियेटर और 35 स्पेशलिटीज हैं।

केयर रेटिंग्स के एक डिस्क्लोजर के मुताबिक कंपनी पर जेसी फ्लावर्स एआरसी, बैंक ऑफ बड़ौदा, एक्जिम बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी ऑफ इंडिया का करीब ₹1,000 करोड़ बकाया है।

एनसीएलटी ने पीडब्ल्यूसी सपोर्टेड भुवन मदान को अंतरिम समाधान पेशेवर नियुक्त किया है, जबकि लेंडर्स ने शार्दुल अमरचंद मंगलदास को अपना एडवाइजर बनाया है। यस बैंक ने जेपी इन्फ्राटेक को लोन जेपी हेल्थकेयर के शेयरों को गिरवी रखकर दिया था। वहीं, मार्च 2023 में जेसी फ्लावर्स एआरसी ने गिरवी शेयरों को भुनाते हुए जेपी हेल्थकेयर में 63.6% हिस्सेदारी ले ली। बाकी हिस्सेदारी जेपी इन्फ्राटेक के पास थी।

सूत्रों के मुताबिक जेपी हेल्थकेयर के अधिग्रहण में रुचि रखने वाली हॉस्पिटल चेन कंपनियों ने पहले एआरसी और सुरक्षा रियल्टी दोनों से संपर्क किया था। 36% हिस्सेदारी वाली सुरक्षा ने पिछले महीने एनसीएलटी के सामने यह दलील दी थी कि वह जेपी हेल्थकेयर के लेंडर्स के साथ आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट के लिए बातचीत कर रही है। हालांकि समझौता नहीं हो पाया।

 बजट 2024 जानेंHindi News  ,  Business News की लेटेस्ट खबरें, इनकम टैक्स स्लैब Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें