Monday, January 24, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ ब्रांड स्टोरीज़किसी भी प्रकार के स्त्री रोगों में न हो परेशान- संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल में है इनका पूरा समाधान

किसी भी प्रकार के स्त्री रोगों में न हो परेशान- संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल में है इनका पूरा समाधान

HT Brand StudioPratyush Chaurasia
Fri, 29 Oct 2021 04:45 PM
किसी भी प्रकार के स्त्री रोगों में न हो परेशान- संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल में है इनका पूरा समाधान

इस खबर को सुनें

ये बात जगजाहिर है की महिलाओं और पुरुषों के शरीर की बनावट में अंतर होने की वजह से स्त्रियों की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतें और परेशानियां पुरुषों के मुक़ाबले काफी अलग होती हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, गर्भावस्था और प्रसव, मातृ मृत्यु दर, बांझपन, अनियोजित गर्भावस्था और ज़रूरत पड़ने पर गर्भपात जैसी सेवाओं के सुलभ ना होने से भी महिलाओं के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इन सभी स्थितियों में अलग-अलग उम्र और जरूरतों के अनुसार महिलाओं को सारे ज़रूरी उपचार और सहयोग के साथ पूरी देखभाल मिले, इसके लिए सुप्रसिद्ध संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल का स्त्री रोग (Gynaecology) और प्रसूति तंत्र (Obstetrics) विभाग हमेशा पूरी तरह से तैयार रहता है, क्योंकि वो जानते हैं की ये पूरी दुनिया उन्हीं से है।
 
स्त्री रोगम और प्रसूति तंत्र आयुर्वेद के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक हैं। संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल का स्त्री रोग और प्रसूति तंत्र विभाग रजोदर्शन (Menarche) से लेकर रजोनिवृत्ति (Menopause) तक हम सबकी जिंदगी को संवारने वाली स्त्री के स्वास्थ्य का पूरा ख्याल रखने के लिए हर रूप से परिपूर्ण है। जहां एक तरफ स्त्री रोग विभाग महिलाओं से जुड़े विभिन्न रोगों के निदान और उपचार से संबंधित है, तो वहीं दूसरी तरफ प्रसूति तंत्र स्वस्थ गर्भावस्था को बनाए रखने के उपाय, गर्भावस्था में स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने वाले कारणों का समाधान, गर्भपात और इसका प्रबंधन, भ्रूण के बढ़ोतरी में बाधा डालने वाले कारणों का निवारण, गर्भवती महिला का आहार, बच्चे की डिलीवरी और प्रसव के बाद के देखभाल जैसी अन्य सभी तरह की सेवाओं में भी पूरी महारथ रखता है।
 
आज की तेज़ रफ्तार और भाग-दौड़ वाली ज़िंदगी, खान-पान की वजह से नयी गर्भवती महिलाओं में गर्भावस्था से जुड़ी जटिलताएं भी अधिक मात्रा में देखने को मिलने लगी हैं। मगर इन सब चीज़ों के बाद भी हर स्त्री चाहती है कि वो बिना किसी भी जटिलता के प्राकृतिक तरीके से एक साधारण और स्वस्थ बच्चे को जन्म दे। उन सभी महिलाओं के लिए सबसे बड़ी खुशी की बात यह है कि वो अपनी ज़िंदगी में कुछ थोड़े से बदलाव लाने के बाद ये चीज़ आसानी से कर सकती हैं। इन मामूली से बदलावों में शामिल है पोषक आहार, स्वस्थ दिनचर्या और बेहतर शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य। संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल इन सभी पहलुओं में महिलाओं का मार्गदर्शन करके उन्हें ऐसा करने में पूरी तरह से मदद करता है।
 
संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल के स्त्री रोग विभाग में अनार्तव, अर्तव क्षय, अर्तव दुष्टी,अश्रुगदार, वंध्यात्व, गर्भशाय शोथा, बीज ग्रंथी से सम्बंधित अल्सर, श्रोणि शोथ (Pelvic Inflammation) और कष्टार्तव (Dysmenorrhea) जैसे कई अन्य रोगों का इलाज होता है। तो वहीं दूसरी तरफ इस हॉस्पिटल के प्रसूति विभाग

epaper

संबंधित खबरें