DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   ब्रांड स्टोरीज़  ›  संपूर्ण देशवासियों की सुरक्षा,स्वास्थ्य, समृद्धि एवं वायु मंडल के शुद्धिकरण हेतु तमिल नाडु कृष्णगिरी में सदी का सबसे बड़ा महायज्ञ
brand stories

संपूर्ण देशवासियों की सुरक्षा,स्वास्थ्य, समृद्धि एवं वायु मंडल के शुद्धिकरण हेतु तमिल नाडु कृष्णगिरी में सदी का सबसे बड़ा महायज्ञ

HT Brand StudioPublished By: Pratyush Chaurasia
Wed, 16 Jun 2021 04:22 PM
संपूर्ण देशवासियों की सुरक्षा,स्वास्थ्य, समृद्धि एवं वायु मंडल के शुद्धिकरण हेतु तमिल नाडु कृष्णगिरी में सदी का सबसे बड़ा महायज्ञ

पिछले एक वर्ष से अपना देश घोर विपत्तियों का सामना कर रहा है और अब इन विपत्तियों ने विकराल रूप धारण कर लिया है। इन से मुक्ति के लिए सरकार से ले कर आम जनता सभी लोग प्रयास कर रहे है। हम सभी चाहते है कि देश समृद्ध, सुरक्षित और स्वस्थ बने, देश के वातावरण में फैली अशुद्धियाँ समाप्त हो और भारतवासी शांति से अपना जीवन-यापन कर सके। इसी उद्देश्य की पूर्ति हेतु राष्ट्रसंत डॉ. श्री वसंत विजय जी महाराज के पावन सान्निध्य में श्री विश्व शांति एवं महालक्ष्मी कुबेर अर्थ धर्म समृद्धि कलश अनुष्ठान किया जा रहा है।
चेन्नई से 265 किलोमीटर एवं बैंगलोर से  90 किलोमीटर दूरी पर स्थित माँ पद्मावती की दिव्य कृपा एवं ऊर्जा से ओत-प्रोत "श्री पार्श्व पद्मावती शक्तिपीठ तीर्थधाम" पर  40,000  वर्गफुट के विशाल यज्ञ मंडप में 108 प्रकाण्ड पण्डित द्वारा इस महाअनुष्ठान का आयोजन होगा।
आपके जीवन को सुख, समृद्ध, स्वास्थ्य और सुरक्षा से भरने के लिए अतिविशाल माँ महालक्ष्मी जी की प्रतिमा के समक्ष पीतल के पान व नारियल युक्त पीतल के बने 6  लीटर के 5000 कुम्भ अभिमंत्रित किए जाएंगे। घर को स्वर्ग बनाने वाले इन दिव्य कलशों को महालक्ष्मी कुबेर मंत्रो से 1 करोड़ कुमकुम पूजन, 10  लाख़ हवन आहुतियों और 25  लाख धन्वंतरि कुबेर जाप के साथ सिद्ध किया जाएगा।
इन दिव्य कलशों में 170 दुर्लभ औषधियां, विभिन्न इत्तर, नवरत्न, 32 प्रकार के उपरत्न, 32 प्रकार के हीलिंग जेम स्टोन्स और भारत के 106 वैष्णव दिव्य क्षेत्र, जहाँ भगवान श्री नारायण और माँ लक्ष्मी प्रत्यक्ष विराजमान हैं, ऐसे तीर्थों में लक्ष्मी माँ के चरणों में पूजित / अभिमंत्रित अतिविशिष्ट कुंकुम को सभी कलशों में भरा जाएगा।
जन भागीदारी से होने वाले इस महायज्ञ में लगभग 10 हजार किलो सफेद चन्दन, लाल चन्दन, पीला चन्दन, 50 किलो सेअधिक केसर, देवदारु, अगर, तगर, आम्र की लकड़ियाँ, 10 हजार किलो विभिन्न औषधियां और  2 हजार किलो गाय का शुद्ध देसी घी डाला जाएगा।
देश कल्याण के इस महाविधान में महालक्ष्मी माँ की कृपा, पूज्य गुरुदेव श्री का पूर्ण आशीर्वाद प्राप्त करने व अपने सौभाग्य को अतिशीघ्र जगाने के लिए कोई भी व्यक्ति अपनी शक्ति व सामर्थ्य अनुसार हवन सामग्री जैसे की चन्दन की लकड़ियाँ, गाय का घी, केसर, मेवे इत्यादि भेंट कर श्रद्धा समर्पित कर सकता है।
कलश प्राप्ति हेतु ‘पहले आएं, पहले पाएं’  के आधार पर निःस्वार्थ भाव से लागत के मूल्य में यह कुम्भ सिर्फ प्रथम आने वाले 5000 शाकाहारी परिवार को ही दिया जाएगा। पूज्य गुरुदेव श्री, माता महालक्ष्मी जी तथा अनेकों देवताओं के आशीर्वाद से अलौकिक ऊर्जामय यह कलश आपके घर को स्वर्ग बना देगा।
इस दुर्लभ, अतिदुर्लभ महाअवसर का लाभ तुरंत प्राप्त करने हेतु निम्न संपर्क सूत्र पर संपर्क करें:+91 8877988779, 8770128437
 

संबंधित खबरें