DA Image
हिंदी न्यूज़ › ब्रांड स्टोरीज़ › कहानी प्रयागराज की सुनीता की जिन्होंने अमेज़न हिंदी की मदद से घर पर एक्सरसाइज का इंतज़ाम किया
ब्रांड स्टोरीज़

कहानी प्रयागराज की सुनीता की जिन्होंने अमेज़न हिंदी की मदद से घर पर एक्सरसाइज का इंतज़ाम किया

HT Brand Studio,PrayagrajPublished By: Pratyush Chaurasia
Thu, 22 Jul 2021 10:54 AM
कहानी प्रयागराज की सुनीता की जिन्होंने अमेज़न हिंदी की मदद से घर पर एक्सरसाइज का इंतज़ाम किया

अच्छी सेहत इंसान का सबसे बड़ा धन है। हालांकि आज की तेज़ रफ़्तार वाली ज़िन्दगी में हम अक्सर अपनी सेहत को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। इसका एहसास हमें तब होता है, जब किसी तरह की शारीरिक परेशानी हमारे सामने आती है। कुछ ऐसी ही कहानी है उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में रहने वाले सुधीर जी की। सुधीर जी को सांस लेने में दिक्कत थी, जिसकी वजह से उनकी दवाई और रोज़ की एक्सरसाइज चल रही थी। डॉक्टर के अनुसार उन्हें रोज पास के पार्क में जाकर एक्सरसाइज करना और घास पर चलना था, जिसे सुधीर ने अपनी ज़िन्दगी का एक अहम हिस्सा बना लिया था। मगर जब बीते दिनों कोरोना के कारण देश भर में लॉकडाउन लगा तो सुधीर की ये सारी आदत धीरे-धीरे छूटने लगी और इसका सीधा असर उनकी सेहत पर भी साफ़ दिखने लगा। ऐसे में उनकी पत्नी सुनीता चौधरी ने उन्हें घर पर ही एक्सरसाइज करने की सलाह दी। सिर्फ़ यही नहीं, सुनीता जी ने अपने पति सुधीर के लिए घर पर ही एक्सरसाइज के सभी ज़रूरी इक्विपमेंट का इंतज़ाम भी कर दिया। सुनीता ये सब कर पायीं अमेज़न के हिन्दी विकल्प की मदद से।

पहले तो सुधीर की सेहत में गिरावट देखकर सुनीता जी थोड़ा डर सी गयी थीं, मगर फिर उन्होनें इसका उपाय ढूंढ निकाला। सुनीता जी को फेसबुक चलाने का काफ़ी शौक है। सुधीर जी की सेहत को ध्यान में रखते हुए सुनीता जी अपना ज्ञान बढ़ाने के लिए बीच-बीच में घर पर ही एक्सरसाइज करने से जुड़ी कई वीडियो भी देखती रहती हैं। ये वीडियोज़ देख कर सुनीता को पता चल गया कि घर पर एक्सरसाइज करने के लिए किन चीजों की ज़रूरत पड़ेगी। उन्होनें बिना वक़्त गंवाए इन सब चीजों की एक लिस्ट तैयार की जिसमें योगा मैट, रेजिस्टेंस बैंड और एक्यूप्रेशर स्लिपर समेत कई और जरुरी चीज़ें भी थीं।

सुनीता जी के लिए जो अगला जरूरी कदम था, वो था इन सारी चीजों का इंतज़ाम करना। अब क्योंकि लॉकडाउन की वजह से इनका घर से बाहर जाना संभव नहीं था, ऐसे में सुनीता जी को ये सब चीज़ें खरीदने का कोई रास्ता नज़र नहीं आ रहा था। फिर सुनीता को अपनी सहेली से पूछने पर इसका समाधान पता चला, जिन्होनें उन्हें अमेज़न के बारे में बताया। वैसे सुनीता जी अमेज़न के बारे में पहले से ही जानती थीं और उन्हें चलाना भी आता था, पर सबसे बड़ी दिक्कत थी कि उन्होनें आज तक कभी भी ऑनलाइन शॉपिंग नहीं की थी। जब उनकी सहेली ने सुनीता को अमेज़न के बारे में बताया तो उत्सुकता के साथ उनके मन में ये झिझक भी थी कि क्या वो वाकई में इतनी आसानी से अमेज़न पर शॉपिंग कर पाएंगी। सहेली के बार-बार कहने पर सुनीता ने एक बार ट्राई करने की ठानी और अपने फ़ोन पर अमेज़न ऐप खोला। ऐप खोलते ही सुनीता को शॉपिंग की एक अलग ही दुनिया दिखी, वो भी अपनी हिन्दी भाषा के विकल्प के साथ। उन्होनें ना सिर्फ़ योगा मैट, रेजिस्टेंस बैंड और एक्यूप्रेशर स्लिपर ऑर्डर किया बल्कि लगे हाथ एक क्रॉकरी सेट और सोफ़ा कवर भी ऑर्डर कर दिया। 


 

संबंधित खबरें