फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News ब्रांड स्टोरीज़रोजगारपरक व गुणवक्तायुक्त शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध है उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स

रोजगारपरक व गुणवक्तायुक्त शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध है उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स

उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स की स्थापना 2004 में की गयी थी जो कि वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश के प्रयागराज शहर में विगत 21वर्षो से शिक्षा के क्षेत्र में अपनी खास पहचान बनाये हुए हैI

रोजगारपरक व गुणवक्तायुक्त शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध है उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स
Anant JoshiBrand PostFri, 31 May 2024 06:17 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स की स्थापना 2004 में की गयी थी जो कि वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश के प्रयागराज शहर में विगत 21वर्षो से शिक्षा के क्षेत्र में अपनी खास पहचान बनाये हुए हैI उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स द्वारा गुणवक्तायुक्त और रोजगारपरक शिक्षा प्रदान करके छात्रों के भविष्य की राह आसान बना रहा हैI ऐसे में स्वर्णिम भविष्य के लिए विद्यार्थी इस संस्थान में प्रवेश प्राप्त कर सकते हैंI

उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स में उपलब्ध कोर्सेस

उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स द्वारा बी.टेक, एम.टेक, डी.फार्म, बी.फार्म, एम्.फार्म, फार्म.डी, बी.सी.ए, बी.बी.ए, एम.बी.ए, बी.ए.एल.एल.बी, ए.एन.एम, जी.एन.एम, बी.एससी.(नर्सिंग) व बी.टी.सी कोर्सेज की शिक्षा प्रदान की जाती हैI ये सभी कोर्सेज भारत सरकार के निकायों जैसे ए. आई. सी. टी. इ, ए. के. टी. यू, फार्मेसी काउंसिल ऑफ़ इंडिया, इंडियन नर्सिंग काउंसिल, बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया, अटल बिहारी मेडिकल यूनिवर्सिटी व इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय ” के द्वारा अनुमोदित व मान्यता प्राप्त हैंI फार्मेसी कॉलेज के सभी कोर्स नेशनल बोर्ड ऑफ़ ऐक्रेडिटेशन (एन. बी. ए.) द्वारा मान्यता प्राप्त हैंI

समस्त आवश्यक सुविधाओं से सुसज्जित है 22 एकड़ में फैला हुआ कैंपस

उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशन्स का कैंपस पूरे 22 एकड़ में फैला हुआ है जिसमे कई शैक्षिक भवन, हॉस्टल, लिफ्ट, कैफेटेरिया, इंडोर व आउटडोर गेम्स के लिए ग्राउंड, जिम इत्यादि की सुविधा उपलब्ध है । साथ ही कैंपस में बैंक की सुविधा भी है। संस्थान में एनसीसी की एक शाखा विद्यामान है, जो छात्रों में अनुशासन और कुशल नेतृत्व जैसी क्षमता का विकास करती है।

कुशल और अनुभवी शिक्षकों का मार्गदर्शन

संस्थान में योग्य और अनुभवी फैकल्टी सदस्य हैं जो छात्रों को उनके ज्ञान को बढ़ाने में मदद करते हैंI संस्थान में शिक्षा की गुणवक्ता को बढ़ाने के लिए एक्सपर्ट लेक्चर व वर्कशॉप का आयोजन किया जाता है जिसकी सहायता से छात्रों के तकनीकी ज्ञान में वृद्धि होती हैI अनुभवी शिक्षकों के मार्गदर्शन में हमारे संस्थान की छात्राओं श्रेष्ठा श्रीवास्तव (बी.फार्मा), ऋचा कुशवाहा (एमबीए) ने एकेटीयू, लखनऊ की परीक्षा में दूसरा एवं छठाँ स्थान प्राप्त किया; और इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय, प्रयागराज की परीक्षाओं में शालिनी सिंह (बीएएलएलबी) ने तीसरा एवं वंदना मौर्य (बीसीए) और रितिका वर्मा (बीसीए) ने छठाँ और आठवां स्थान हासिल किया है। शालिनी सिंह (बीएएलएलबी) को उत्तर प्रदेश के माननीय राज्यपाल द्वारा कांस्य पदक से भी सम्मानित किया गया है।

प्लेसमेंट और इंडस्ट्रियल विजिट पर खास ध्यान

संस्थान के ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट सेल द्वारा छात्रों की ट्रेनिंग और प्लेसमेंट के लिए कई उच्च शिक्षण संस्थानों व मल्टीनेशनल कंपनियों के साथ समन्वय और एम.ओ.यू. साइन किये गए हैं जो छात्र -छात्राओं की टेक्निकल स्किल्स को बढ़ाते हैंI संस्थान के प्लेसमेंट सेल द्वारा छात्रों के लिए इंडस्ट्रियल विजिट के लिए कई प्रतिष्ठित मल्टीनेशनल कंपनियों के साथ सम्बद्धता हैI इन इंडस्ट्रियल विजिट के माध्यम से छात्रों में इंडस्ट्री के वर्किंग कल्चर की समझ को विकसित किया जाता हैI संस्थान का मुख्य उद्देश्य युवा पीढ़ी को आधुनिक, तकनीकी व रोजगारपरक शिक्षा प्रदान कराना हैI संस्थान का प्लेसमेंट रिकॉर्ड विगत कई वर्षों से शानदार रहा है।

छात्रों का भविष्य गढ़ रहा उत्थान शम्भूनाथ इंस्टीट्यूशंस

• शम्भूनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (कॉलेज कोड-162)

• शम्भूनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी (कॉलेज कोड-241)

• शम्भूनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (कॉलेज कोड-727)

• शम्भूनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ (कॉलेज कोड-01304)

• शम्भूनाथ कॉलेज ऑफ एजुकेशन (कॉलेज कोड-01329) • शम्भूनाथ रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस एंड हॉस्पिटल (कॉलेज कोड-1556)

पता- शम्भूनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, उत्थान हॉस्पिटल के सामने, झलवा , प्रयागराज- 211015, उत्तर प्रदेश 

वेबसाइट: https://siet.inhttps://siet.in/AdmissionEnquiry

मो. नं. : 8127100101, 8127100202, 8127100303, 9044052941, 9044052942

अस्वीकरण : इस लेख में किए गए दावों की सत्यता की पूरी जिम्मेदारी संबंधित व्यक्ति/ संस्थान की है।