फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News ब्रांड स्टोरीज़धान के किसानों के लिये वरदान - पारिजात का दहन

धान के किसानों के लिये वरदान - पारिजात का दहन

किसानों के चेहरे पे आई मुस्कान, पारिजात इंडस्ट्रीज़ के "दहन" के साथ उन्हें अपनी फसल को बचाने के लिए मिला सही समाधान |

धान के किसानों के लिये वरदान - पारिजात का दहन
Anant JoshiBrand PostWed, 15 Feb 2023 08:15 PM
ऐप पर पढ़ें

धान, एक ऐसी फ़सल जिससे करोड़ों भारतीय किसानों की उम्मीदें जुड़ी रहती हैं। भारत में धान की खेती को वैसे भी एक जुए के समान ही माना जाता रहा है क्योंकि ये बाढ़, सूखा, जैसी बहुत सी प्राकृतिक घटनाओं या कारकों पर निर्भर करती है। इन सबसे किसान जैसे तैसे निपट भी लेता है तो उसके बाद भी कीट, फफूंद और खरपतवार जैसी समस्याएँ समय समय पर आती ही रहती हैं। हर साल देश भर में लगभग 20-22% धान की फ़सल केवल खरपतवारों के कारण पूरी तरह नष्ट हो जाती है। इन सबसे निपटने के लिए किसान अलग अलग खरपतवारनाशकों का प्रयोग तो करते हैं पर उन्हें अगर सही उत्पाद ना मिले तो उनके फ़सल में मौजुद खरपतवार पूरी तरह से साफ़ नहीं होती बल्कि कई बार उनकी फ़सल जलने की स्थिति भी आ जाती है। यह चुनौतियाँ वह पार कर भी ले और सोचे कि चलो मज़दूरों की मदद से हम खेत साफ़ करवा लेंगे, तब भी कुशल श्रमिकों की कमी या उनके वेतन की भरपाई कर पाना किसान के लिए एक बड़ी चुनौती बन जाता है। किसानों को अक्सर एक ऐसे समाधान की तलाश होती है जो उनकी पहुँच में भी हो और असरदार भी, जिसका प्रयोग लंबा नियंत्रण दे और फ़सल के लिए हानिकारक भी ना हो। धान के किसानों को तो बुवाई के तुरंत बाद से ही खरपतवारों के आक्रमण की चिंता सताने लगती है और उनकी रातों की नींद तक उड़ जाती है और ऐसे में अब तक बाज़ार में जो समाधान मिल रहे हैं वह उनकी आशा के अनुरुप परिणाम नहीं दे पा रहे हैं । उन्हें तलाश है एक ऐसी रसायनिक दवा की जो इस देश की मिट्टी के अनुरूप बनी हो और जो भारतीय जलवायु और वातावरण में बेहतरीन परिणाम दे सके। और ऐसा तभी संभव है जब यह समाधान किसी ऐसी कंपनी की ओर से आए जो भारतीय तो हो पर जिसकी गुणवत्ता, संसाधन और अनुसंधान विश्वस्तरीय हो। जो देश के किसानों की समस्याओं को समझती भी हो और अपने वैश्विक अनुभव और शोध के चलते समाधान और लंबा नियंत्रण देने में भी पूरी तरह समर्थ हो।

पारिजात इंडस्ट्रीज़ लेकर आए हैं एक ऐसा ही उत्पाद जिसका नाम है दहन। दहन की सबसे बड़ी विशेषता है कि यह धान के खरपतवारों का अंकुरण ही नहीं होने देता और छिड़काव के अगले 25 से 30 दिनों तक लंबा नियंत्रण देता है। इस बात की पुष्टि उन 150 भारतीय किसानों ने भी की है जिन्होंने इस प्रयोग में हिस्सा लिया। तकरीबन सभी किसानों को वैसे ही परिणाम प्राप्त हुए हैं जैसे कि कंपनी के प्रतिनिधियों ने उन्हें प्रस्तुत किए थे। हमने कुछ किसानों से बात की तो उन्होंने बताया कि पारिजात इंडस्ट्रीज़ के "दहन" का प्रयोग उन्होंने ठीक 0-3 दिनों में कर लिया था जिसके बाद अगले 25-30 दिनों तक उनके खेत खरपतवारों से लगभग मुक्त ही रहे। इसका फ़ायदा यह हुआ कि किसानों को ना सिर्फ़ लंबा नियंत्रण मिला बल्कि उन्हें महीने भर तक किसी भी तरह के अन्य खरपतरवारनाशकों का छिड़काव भी नहीं करना पड़ा, जिससे लागत में तो अच्छी खासी कमी आई ही साथ ही यह जो महीने भर का विश्राम उन्हें मिला उसका प्रयोग वो खेती और जीवन से जुड़े अन्य कामों में कर पाए। "दहन" एक भारतीय बहुराष्ट्रीय कंपनी, पारिजात इंडस्ट्रीज़ की ओर से प्रस्तुत एक बेहद प्रभावशाली उत्पाद साबित हो रहा है और धान से जुड़े कृषक वर्ग में इसे लेकर एक बेहद सकारात्मक प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है जो दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है।  जशोदीप शर्मा,प्रोडक्ट पोर्टफोलियो मैनेजर का कहना है कि “ पारिजात इंडस्ट्रीज़ में हम भारतीय कृषि के सामने आने आने वाली चुनौतियों का सक्रिय रूप से जवाब देने के लिए प्रतिबद्ध हैं और हमारे पास किसानों की ज़रूरतों को गतिशील रूप से पूरा करने के लिए अत्याधुनिक तकनीकों पर काम करने वाली एक समर्पित अनुसंधान एवं विकास R & D टीम भी है।“

 

अस्वीकरण: इस लेख में किए गए दावों की सत्यता की पूरी जिम्मेदारी संबंधित व्यक्ति/संस्थान की है।