फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News ब्रांड स्टोरीज़ममता और स्नेह से भरी मां बनने की खूबसूरत यात्रा 

ममता और स्नेह से भरी मां बनने की खूबसूरत यात्रा 

मां ये नाम सुनते ही एक अलग ही भाव की अनुभूति होती है।

ममता और स्नेह से भरी मां बनने की खूबसूरत यात्रा 
Brand PostSun, 12 May 2024 05:27 PM
ऐप पर पढ़ें

HT Brand Studio 

मां ये नाम सुनते ही एक अलग ही भाव की अनुभूति होती है। दया, ममता और प्रेम की मूरत होती है मां।  पर क्या एक औरत से मां बनने का सफर इतना आसान होता है? शायद नहीं... 

मां बनने की अनुभूति इस दुनिया की सबसे खूबसूरत अनुभूति होती है।  जब एक मां पहली बार अपने बेबी को गोद में लेती है, उसकी पहली मुस्कान देखती और फिर उसे पहली बार चलते हुए देखती है तब उस मां का मन असीम आनंद से  भर जाता है। एक नई मां की यात्रा कई सारी जिम्मेदारियों और  चुनौतियों से भरी होती है, उसे कई  शारीरिक परिवर्तनों से गुजरना पड़ता है साथ ही मानसिक तौर पर भी कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन इन सबके बावजूद एक औरत के लिए मां बनने की यात्रा सबसे अद्भुत और अनोखी होती है। जब एक औरत मां बनती है तब वह असल मायने में ममता और स्नेह के बंधन को समझती है। आइए जॉनसंस बेबी के साथ इस अद्भुत और रोमांच से भरी यात्रा का जश्न मनाएं...   

मेरे लिए हर दिन है मदर्स डे... 

लाखों माताओं के अनुभवों का सम्मान करने और मातृत्व का जश्न मनाने उद्देश्य से जॉनसंस बेबी ने अभिनेत्री, मॉडल और एक जिम्मेदार मां गौहर खान बे बातचीत की। अपने मातृत्व की यात्रा के बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया कि वह एक खूबसूरत दौर था। कई चुनौतियों और बाधाओं के बावजूद, यह उनके लिए खास आशीर्वाद जैसा था। उस वक्त उनके परिवार और जीवनसाथी ने उनकी खूब देखभाल की, अंतत: उन्हें ज़ेहान को अपनी गोद में लेने का मौका मिला।  वह कहती हैं कि उनकी मातृत्व की सुखद यात्रा के लिए वह अपने पूरे परिवार की आभारी है। आइए जानते हैं गौहर के मातृत्व की कहानी उन्हीं की जुबानी... 

गर्भावस्था के पहले दिन से आपकी यात्रा कैसी रही? 

अपने बेबी ज़ेहान को पहली बार गोद में लेने और उसका चेहरा देखने की खुशी अद्भुत और अविश्वसनीय थी। इस खास दिन से पहले का हर क्षण खुशी, उत्साह और घबराहट जैसी भावनाओं से भरा हुआ था। मेरी मातृत्व यात्रा नौ महीने से अधिक लंबी थी। आखिरकार जब वह पल आया, तो ऐसा लगा जैसे समय रुक सा गया हो। मुझे केवल मैं और मेरे बच्चे के बीच का गहरा बंधन महसूस हो रहा था। 

अपने बेबी के साथ अपनी पहली याद साझा करें? 

एक पल जो मेरे लिए यादगार है वह है जब जेहान ने पहली बार मेरी उंगली पकड़ी थी। जैसे ही ज़ेहान की छोटी-छोटी उंगलियां मेरी उंगलियों से लिपटीं, मुझे  प्यार और जिम्मेदारी की भावना का एहसास हुआ। यह ऐसा था मानो मेरा बच्चा कह रहा हो, "मां, मुझे तुम पर भरोसा है" और बदले में, मैंने अपने बेबी की हमेशा रक्षा करने की कसम खाई। अपने बेबी की सुरक्षा का मेरा वादा मेरे द्वारा चुने गए सभी विकल्पों और मेरे द्वारा उपयोग किए जाने वाले उत्पादों में प्रतिबिंबित होता है। 

आप एक प्रसिद्ध अभिनेत्री के रूप में अपने करियर और एक मां के रूप में अपनी भूमिका के बीच संतुलन कैसे बनाए रखती हैं? 

मुझे लगता है कि मातृत्व विभिन्न जिम्मेदारियों को निभाने के बारे में है। हालांकि मैं एक व्यस्त कामकाजी पेशेवर हूं, लेकिन मेरा बेबी मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता है। मेरी सभी कार्य-संबंधी योजनाएं और प्रतिबद्धताएं मेरे बच्चे के शेड्यूल को केंद्र में रखकर बनाई जाती हैं। किसी भी कामकाजी मां की तरह, मुझे भी सही योजना बनाने और बच्चे के लिए उचित  दिनचर्या बनाने की आवश्यकता होती है। मेरी इस मातृत्व की यात्रा में मुझे मेरे परिवार का  अमूल्य सहयोग मिला है। उन्होंने हमेशा मेरा साथ दिया है। 

अपने बेबी के साथ आपकी पसंदीदा गतिविधि क्या है? 

मेरे बेबी के साथ नहाना मेरी और उसकी सबसे पसंदीदा गतिविधि रही है। किसी भी नई मां की तरह, शुरू में मैं बहुत घबराई हुई थी, क्योंकि मुझे डर था कि कहीं उसे किसी तरह की  चोट न पहुंचे। हालांकि, समय के साथ वो बड़ा हो गया और यह मजेदार और एक आनंददायक दैनिक गतिविधि बन गयी। उसे पानी  बहुत पसंद है।  इस दौरान मैंने हमेशा जॉनसंन बेबी वॉश का उपयोग किया है, जो माइल्ड, बेहतरीन सुगंध वाला और सॉफ्ट है। ये मेरे बच्चे की त्वचा को मुलायम और कोमल रखता है। 

आपके बेबी के साथ आपकी मातृत्व यात्रा में किस ब्रांड ने विशेष भूमिका निभाई है? 

पहली बार जब मैंने ज़ेहान को गोद में लिया और उसकी त्वचा को छुआ, तो मुझे एहसास हुआ कि यह कितनी नाजुक और कोमल थी। इससे मुझे यह भी एहसास हुआ कि उसकी नाजुक त्वचा को विशेष देखभाल की आवश्यकता है। मेरे बेबी की नाजुक त्वचा की देखभाल और सुरक्षा को मैंने सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। इसमें जॉनसंस बेबी उत्पादों ने अहम भूमिका निभाई है। जॉनसंस बेबी प्रोडक्ट्स मेरे नन्हे-मुन्ने बेबी  की नाजुक त्वचा की देखभाल में सहायक रहे हैं। जॉनसंस बेबी प्रोडक्ट्स मेरे बेबी  की नाजुक त्वचा को पहले दिन से ही सुरक्षित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं ।  बेबी की  त्वचा को कोमल रखने और और पोषण देने में इन प्रोडक्ट्स की अहम भूमिका है। 

मदर्स डे एक मां के लिए उत्सव मनाने का समय है। आप इस वर्ष अपने बेबीे के साथ इस विशेष दिन को कैसे मनाने वाली हैं? 

यह मेरे बेटे के पहले जन्मदिन और मदर्स डे के साथ जश्न से भरा सप्ताह होगा। मातृत्व एक विशेष यात्रा है। हालांकि मदर्स डे इसी महीने मनाया जाता है पर  मेरे लिए यह तब शुरू हुआ जब मुझे और मेरे पति को पता चला कि हम प्रेग्नेंट हैं। इस अवसर का जश्न मनाने के लिए, हमने ज़ेहान के साथ कुछ मजेदार गतिविधियों की योजना बनाई है। हम जो भी करें, हमारे लिए अपने बच्चे के साथ समय बिताना हमेशा विशेष होता है। 

मातृत्व की चुनौतियों से जूझ रही नई माताओं को आप क्या सलाह देंगी, खासकर तब जब बात पहले दिन से ही बेबी की देखभाल के लिए सही उत्पाद चुनने की हो ? 

इस अविश्वसनीय यात्रा पर निकलने वाली नई माताओं के लिए, मेरी सलाह सरल है - अपने ऊपर भरोसा रखें और हर पल का आनंद लें। मातृत्व भावनाओं की एक रोलरकोस्टर राइड है, लेकिन यह आपके लिए अब तक की सबसे आनंददायक यात्रा भी है। जब आपके नन्हे-मुन्नों की देखभाल की बात आती है, तो हमेशा ऐसे उत्पाद चुनें जिन पर आप भरोसा कर सकें, जो साइंटिफिक हों और बेहतर गुणवत्ता के लिए जाने जाते हों। मेरी यात्रा में, जॉनसंस बेबी उत्पाद भरोसेमंद सहयोगी रहे हैं।  नहाने के समय से लेकर सोने के समय तक, इनके उत्पादों ने मेरे बच्चे की नाजुक त्वचा का पोषण किया है, जिससे वह कोमल, चिकनी और बेहद खूबसूरत बन गई है। तो इस अद्भुत यात्रा का आनंद लें, और याद रखें कि आप एक अद्भुत काम कर रहीं हैं। 

मेरी सुखद मातृत्व की खूबसूरत यात्रा... 

पेरेंटिंग कोच सोनल कात्याल का कहना है कि मातृत्व ने उन्हें ढेर सारी सीख दी। सोनल  पेरेंटहुड की जटिलताओं से निपटने के लिए टिप्स देती  हैं। अपने मातृत्व को आकार देने वाले अनुभवों के बारे में बातचीत करते हुए उन्होंने  हमारे साथ अपनी खूबसूरत यात्रा के बारे में विस्तार से बातचीत की.... 

पहले दिन से आपकी प्रेगनेंसी का सफर कैसा रहा ? 

मेरी गर्भावस्था की यात्रा चुनौतीपूर्ण होने के साथ-साथ खूबसूरत भी थी। पहले दो सेमेस्टर के लिए मुझे अपने पति से अलग शहर में रहना पड़ा और सारे    उतार-चढ़ाव खुद ही संभालने पड़े। लेकिन मुझे खुशी है कि मुझे मेरे परिवार के सदस्यों का भरपूर सहयोग मिला, जिन्होंने हर पल इस यात्रा में मेरा मार्गदर्शन किया। खुद को सक्रिय रखने के लिए, मैंने प्रतिदिन योग और ध्यान का अभ्यास किया, जिससे मुझे अपने बच्चे के साथ जल्दी ही एक रिश्ता कायम करने में मदद मिली। 

मातृत्व की आपकी यात्रा का कौन सा पल सबसे लंबे इंतजार जैसा लगा? 

जैसे ही मैंने पहले अल्ट्रासाउंड के दौरान अपने बेबी को देखा, मैं उसे अपनी बाहों में लेने के लिए तरस रही थी। मजे की बात यह है कि यह जानने की लालसा हमेशा रहती थी कि मेरा बेबी कैसा दिखता है, मां जैसा या पापा जैसा! तब हर एक पल बहुत लम्बा महसूस होता था। मैं अल्ट्रासाउंड के दौरान हमेशा उत्साहित रहती थी, क्योंकि ऐसा लगता था जैसे मैं उससे सचमुच मिल रही हूं। मैं अपने बेबी के जन्म के पहले से ही उससे जुड़ाव महसूस कर पा रही थी। 

अपने बेबी के साथ आपका पहला दिन कैसा था? 

बेबी के साथ पहला दिन घबराहट भरा लेकिन मेरे जीवन का सबसे शानदार दिन था। मैं अपनी नन्ही बेबी को गोद में लेते समय बहुत घबराई हुई थी, लेकिन मेरे पति और मेरी मां के साथ होने से मुझे वह सारी ताकत मिली जिसकी मुझे जरूरत थी। और एक बार जब मैंने उसे अपनी बाहों में ले लिया, तो ऐसा लगा जैसे सारी चिंताएं और शारीरिक दर्द दूर हो गए। लेकिन एक  शिशु की देखभाल करने की घबराहट अभी भी बनी हुई थी।  रात भर उसकी जरूरतों का ख्याल रखना थका देने वाला होता था, लेकिन साथ-साथ संतुष्टि  भी मिलती थी। मैं उन पलों को बच्चे से जुड़ाव के पल के रूप में याद करती हूं, थकावट के पल के रूप में नहीं। मुझे लगता है, यही मातृत्व की खूबसूरती है। 

क्या आप अपने बेबी के साथ बिताया गया कोई यादगार पल साझा कर सकती हैं, जिसमें वास्तव में मातृत्व का सार छिपा हो ? 

एक पल जो मेरे लिए सबसे यादगार रहा है, वह है जब  बेबी ने अपना पहला कदम उठाया और खुशी से मेरी ओर दौड़ती हुई आई। कमरे में मौजूद सभी लोगों में से उसने मुझे चुना और मुझे इस छोटे से पल पर गर्व महसूस हुआ जैसे कि यह एक बड़ी उपलब्धि हो।  

मातृत्व के आपके अनुभव ने पेरेंटिंग कोच के रूप में आपके पेशेवर दृष्टिकोण को कैसे प्रभावित किया है? 

मातृत्व के मेरे अनुभव ने मुझे बहुत कुछ सिखाया है, क्योंकि मैं  एक नई युवा मां थी। बेशक, मैंने बहुत सारी गलतियां कीं लेकिन मैंने उनसे सीखा भी। और यही पेरेंटिंग कोच के रूप में मेरी यात्रा शुरू करने की प्रेरणा थी। मैं कभी नहीं चाहूंगी कि कोई अन्य माता-पिता मेरी तरह गलतियां करें। यह व्यक्तिगत अनुभव मुझे व्यावहारिक रणनीतियों, टिप्स और ट्रिक्स की पेशकश करने की अनुमति देता है। 

अपने बेबी के साथ अपनी पसंदीदा यादें साझा करें? 

 रात के समय बेबी की मालिश  पसंदीदा स्मृति है। जॉनसंस बेबी मसाज ऑयल से हल्की मालिश से उसे अत्यधिक खुशी और अपनेपन का एहसास होता था। मेरी सास ने इस तेल की सिफारिश की थी,  क्योंकि वह अपने बच्चों के लिए भी इसका इस्तेमाल करती थीं।  मुझे बहुत खुशी है कि मैंने उनकी सलाह मानी और खूबसूरत यादें बनाईं, जिन्हें मैं हमेशा संजोकर रखूंगी।  

अपने बेबी के साथ आपकी पसंदीदा गतिविधि क्या है? 

मुझे अपने बेबी को पढ़ाना हमेशा से पसंद रहा है और अब भी है।  यह यात्रा बहुत रोमांचक और फायदेमंद रही है। हमें अभी भी साथ पढ़ने और खूबसूरत पलों का आनंद लेने का समय मिल जाता है। 

एक मां के रूप में आप अपने अनुभवों और एक प्रशिक्षक के रूप में माता-पिता के साथ काम करने की अपनी व्यावसायिक प्रतिबद्धताओं के बीच संतुलन कैसे बनाती हैं? 

एक मां के रूप में, हर दिन एक नई सीख मिलती है और मैं पेशेवर तौर पर भी खुद को निखारने से कभी नहीं कतराती। ऐसे बहुत से माता-पिता हैं जो मार्गदर्शन के लिए मेरी ओर देखते हैं और मैं उस जिम्मेदारी को काफी गंभीरता से लेती हूं। इसलिए मैं इस मंत्र में विश्वास करती हूं, 'आप जो उपदेश देते हैं उसका अभ्यास करें।' मैं कभी भी ऐसी किसी पद्धति की सिफारिश नहीं करूंगी जिसका अभ्यास मैने अपने बच्चों के लिए स्वयं न किया हो। मैं खुले दिमाग से कोच  करती हूं, इस तथ्य को समझते हुए कि प्रत्येक परिवार अद्वितीय है और जो चीज एक व्यक्ति के लिए काम करती है हो सकता है वह दूसरे के लिए काम न करे। मैं प्रत्येक परिवार की विशिष्ट आवश्यकताओं के अनुरूप मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए  कार्य करती हूं। 

मातृत्व की चुनौतियों से जूझ रही अन्य नई माताओं को आप क्या सलाह देंगी? 

एक पेरेंटिंग कोच और दो बच्चों की मां के रूप में, मातृत्व की चुनौतियों और खुशियों से जूझ रही अन्य नई माताओं को मेरी सलाह होगी कि वे अपने बच्चों को छोटे वयस्कों के रूप में समझें। हमेशा स्थितियों को उनके नजरिये से भी देखने का प्रयास करें। दैनिक चुनौतियों से निपटना तब बहुत आसान हो जाएगा जब आप वास्तव में उन्हें सुधारने से पहले उनसे जुड़ जाएंगे। शिशु को सही पोषण दें, उनकी देखभाल करें और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ अपना ख्याल रखें। 

मां के विचार 

आप विश्वास नहीं करेंगे पर गर्भावस्था के दौरान मेरे लिए सबसे रोमांचक चीज शिशु के लिए छोटे कपड़े खरीदना था और मैंने एक फोटोशूट की योजना बनाई थी जिसमें अनमता को एक नवजात शिशु के रूप में और मुझे नई मां के रूप में कैद किया जा सके! एक अजीब सी ख़ुशी थी और थोड़ा सा डर भी। आखिर मां बनना बहुत बड़ी बात है! मेरी गर्भावस्था सहज रही, पेट में क्विकनिंग भी हुई और आखिरकार अनमता का जन्म हुआ।  

- फरहा शेख, डिजिटल क्रिएटर एंड मॉम 

गर्भावस्था के समय मेरे और मेरे पति दक्षित में काफी बार चर्चा होती थी कि बेबी कैसा होगा? दक्षित हमेशा कहते थे कि सिर्फ उनकी कार्बन कॉपी होगी और जब हमने पहली बार उसे देखा.... वो तो मेरी कार्बन कॉपी निकली। 

- आयशा,  डिजिटल क्रिएटर एंड मॉम 

तो आइए और आप भी अपने माँ बनने के सफर के कुछ ख़ास पल क्लिक करके शेयर करें। 

अस्वीकरण: इस लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक/ब्रांड के हैं, न कि हिन्दुस्तान के।