hindustan foreign media column July 19th - शिखर पर इंग्लैंड DA Image
15 नबम्बर, 2019|4:27|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिखर पर इंग्लैंड

क्रिकेट विश्व कप को अपने हाथों में लेने के लिए इंग्लैंड को लंबा इंतजार करना पड़ा। हालांकि न्यूजीलैंड के खिलाफ उसे जैसी जीत मिली, वैसी जीत की चाह उसे कतई नहीं होगी। खैर कुछ भी हो, अब इंग्लैंड विश्व कप का गौरवान्वित विजेता है। वह इसके पहले पॉल कॉलिंगवुड के नेतृत्व में 20-20 ट्रॉफी और दो वर्ष पहले महिला क्रिकेट विश्व कप जीत चुका है। यही देश है, जिसने यह खेल दुनिया को दिया है। इस देश के लंबे रिकॉर्ड को देखें, तो कोई भी यह नहीं मानेगा कि इंग्लैंड जीत का हकदार नहीं था। इंग्लैंड में उसी दिन विंबल्डन का भी फैसला हुआ और फॉर्मूला वन रेस का भी, जिसमें इंग्लैंड के लुईस हैमिल्टन को छठी बार जीत हासिल हुई है। इंग्लैंड में खेलों के लिए यह खास दिन बन गया।

वर्ष 2005 के बाद पहली बार वहां क्रिकेट का सीधा प्रसारण क्षेत्रीय सर्वव्यापी टीवी चैनल पर किया गया। इससे पता चलता है कि वहां क्रिकेट की लोकप्रियता फिर कैसे बढ़ गई है। टूर्नामेंट के 44 साल के इतिहास में इंग्लैंड चार बार फाइनल में पहुंचा और मात्र एक बार जीता, इससे ब्रिटिश क्रिकेट प्रेमियों की खुशी का अंदाजा लगाया जा सकता है। इस जीत के साथ वहां क्रिकेट अपने पुराने गौरव पर लौट आया है। अब इंग्लैंड दुनिया का अकेला ऐसा देश है, जो फुटबॉल विश्व कप (1966), रग्बी विश्व कप (2003) और क्रिकेट विश्व कप (2019) जीत चुका है। ऐसी कामयाबी किसी भी देश के लिए आसान नहीं होगी। यह जीत बे्रग्जिट से जुड़े राजनीतिक संकट में देश का ध्यान दूसरी दिशा में खींच पाएगी। इसकी चर्चा वहां की संसद में भी होगी और वहां बंटी हुई राजनीति को इससे प्रेरणा मिलेगी। 

बेशक, श्रीलंका का प्रदर्शन इस विश्व कप में निराशाजनक रहा है, लेकिन यहां क्रिकेट प्रेमी यह सोचकर अपने दिल को दिलासा दे सकते हैं कि श्रीलंका की टीम ने लीग मैच में इंग्लैंड को हराया था। खैर, हमें अब अगले विश्व कप क्रिकेट की तैयारियां शुरू कर देनी चाहिए, जिसका आयोजन 2023 में भारत में होना है। अभी के लिए इंग्लैंड शिखर पर है।
 डेली न्यूज, श्रीलंका 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:hindustan foreign media column July 19th