DA Image
30 नवंबर, 2020|10:06|IST

अगली स्टोरी

दूसरी लहर की आहट

दुनिया भर की तरह, अपने मुल्क में भी कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। यह बताते हुए वजीर-ए-आजम के स्वास्थ्य सलाहकार डॉ फैसल सुल्तान और योजना मंत्री व नेशनल कमांड ऐंड ऑपरेशंस सेंटर (एनसीओसी) के प्रमुख असद उमर ने यह चेतावनी भी दी है कि कोरोना के मामलों में उछाल का मतलब है, संक्रमण की दूसरी लहर का आना, जिसकी आशंका पाकिस्तान में भी कई लोगों को थी। संक्रमण की इसी दूसरी लहर से अभी कई यूरोपीय देश लड़ रहे हैं, लिहाजा पाकिस्तान के लिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है। इसीलिए, बचाव-उपायों के पालन के लिए अवाम को सख्त निर्देश दे दिए गए हैं, जिनमें मास्क पहनना, दस बजे तक निकाह भवनों और बाजार या शॉपिंग मॉल्स को खुला रखना और मनोरंजन की जगहों को छह बजे बंद कर देना शामिल हैं। एनसीओसी ने चेताया है कि यदि इन निर्देशों पर अमल नहीं किया जाता है, तो कड़े जुर्माने वसूले जाएं। बहरहाल, डॉ फैसल ने बताया कि कुछ सप्ताह पहले तक हर रोज 400 से 450 नए मरीज सामने आ रहे थे, लेकिन अब यह संख्या 700 से ज्यादा हो गई है। 28 अक्तूबर को तो रिकॉर्ड 900 नए कोरोना संक्रमित मिले। 
यह चिंता की बात है। जैसे-जैसे ठंड बढ़ेगी, वायरस के कहीं अधिक तेजी से फैलने की आशंका है। लिहाजा, मास्क पहनने, शारीरिक दूरी का पालन करने और भीड़-भाड़ में जाने से बचने जैसी सलाहों पर अवाम जरूर अमल करे। चूंकि यह निकाहों का मौसम भी होगा, इसलिए चुनौती कहीं ज्यादा गंभीर होगी। अवाम की संजीदगी पर ही पाकिस्तान की सफलता निर्भर करेगी, इसीलिए यह वक्त सावधान रहने और अधिक से अधिक लोगों तक बचाव के तरीकों को पहुंचाने का है। मोबाइल कंपनियों का टेलिफोनिक संदेश एक अच्छा कदम है, मगर सलाह मानने के लिए लोगों को राजी करना आसान नहीं है। हालांकि, यह कई देशों की समस्या है। लेकिन सच्चाई यह भी है कि हमें वायरस का शिकार बनने के बजाय उससे लड़ना होगा। और इसके लिए बचाव-उपायों पर अमल ही एकमात्र रास्ता है।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:hindustan foreign media column 02 november 2020