फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News ओपिनियन नजरियाआईपीएल की उपलब्धियों में छिपी विश्व कप की संभावना

आईपीएल की उपलब्धियों में छिपी विश्व कप की संभावना

रविवार की शाम क्रिकेटप्रेमियों के लिए खास होने जा रही है। चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल), 2024 का फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। उपलब्धियों के लिहाज से यह आईपीएल अपने...

आईपीएल की उपलब्धियों में छिपी विश्व कप की संभावना
surinder khanna
Monika Minalसुरिंदर खन्ना, कमेंटेटर और पूर्व क्रिकेटरFri, 24 May 2024 10:46 PM
ऐप पर पढ़ें

रविवार की शाम क्रिकेटप्रेमियों के लिए खास होने जा रही है। चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल), 2024 का फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। उपलब्धियों के लिहाज से यह आईपीएल अपने पहले के संस्करणों से अलग साबित हुआ है। इसमें जितने छक्के लगे, वे उल्लेखनीय हैं। देखा जाए, तो पूरी सीरीज में बल्लेबाज हावी रहे। बहुत कम मौके आए, जब गेंदबाजों ने अपनी प्रतिभा से मैच का रुख मोड़ा। अच्छी बात यह भी रही कि कई टीमों में खिलाड़ी जल्द ही आपस में घुल-मिल गए, जिस कारण उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया। कोलकाता नाइट राइडर्स, सनराइजर्स हैदराबाद, राजस्थान रॉयलर्स का क्रिकेट बेहतरीन रहा। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के खिलाड़ियों ने भी आखिरी के छह-सात मैच काफी अच्छे खेले, पर शायद उनकी किस्मत साथ नहीं थी और वे आगे न जा सके। हां, चेन्नई सुपर किंग्स ने जरूर निराश किया। शायद उम्र का असर इसके खिलाड़ियों पर दिखने लगा है। अपने मैदान में धीमे विकेट पर यह टीम अच्छा खेली, लेकिन बाहर अपना दम नहीं दिखा सकी।
बेशक एक तर्क हो सकता है कि यह 20 ओवरों का ही क्रिकेट है और जितनी गरमी पड़ रही है, उसमें अनवरत प्रदर्शन करना काफी मुश्किल होता है। गेंदबाज भी भले चार ओवर डालते हैं, लेकिन तापमान यदि अधिक हो, तो पसीना आने से बॉल पर ‘ग्रिप’ नहीं बन पाता। मगर जो टीमें अच्छी थीं, वे लगातार अपने खेल का लोहा मनवाती रहीं। जाहिर है, बाकी टीमों को भी मेहनत करनी होगी। वैसे, इस आईपीएल को मुंबई इंडियंस की रणनीति ने भी खास बना दिया। फ्रेंचाइजी के पास निश्चय ही यह अधिकार होता है कि वह किसी को भी कप्तान बना दे, लेकिन अगर आपके पास मुंबई जैसी टीम और भारत का कप्तान हो, तो एक गलत फैसला कितना भारी पड़ सकता है, रोहित शर्मा और हार्दिक पांड्या प्रकरण इसका ज्वलंत उदाहरण है। पिछले साल दिसंबर में अचानक यह एलान किया गया था कि हार्दिक पांड्या को मुंबई इंडियंस की जिम्मेदारी सौंपी जाती है। मैं यहां पांड्या पर कोई निजी टिप्पणी नहीं करना चाहता, लेकिन आईपीएल, 2024 बताता है कि जिस टीम से उनको लाया गया, उसने भी खराब खेला और जिस टीम का वह हिस्सा बने, वह भी ‘प्वॉइंट टेबल’ में आखिरी टीम साबित हुई।
बहरहाल, कई खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में सामने आए हैं, जिन पर आगे नजर बनी रहेगी। पहला नाम ऋतुराज गायकवाड़ का है। बल्लेबाजी की इनकी तकनीक काफी अच्छी है और फिल्डर भी लाजवाब हैं। कूल हैं और कप्तानी भी अच्छी कर लेते हैं। यह लंबे समय तक क्रिकेट खेल सकते हैं। इसी तरह, बायें हाथ के बल्लेबाज अभिषेक शर्मा ने अच्छा खेल दिखाया। स्ट्राइक रेट इनको अन्य खिलाड़ियों से अलग करता है। इन्होंने सिखाया है कि किस तरह से ट्वंटी-20 क्रिकेट खेलते हैं। इसी तरह, खब्बू बल्लेबाज तिलक वर्मा, एस सुदर्शन जैसे खिलाड़ी भी लंबे समय तक दौड़ने का माद्दा रखते हैं।
एक हफ्ते बाद चूंकि अमेरिकी और कैरिबियाई मैदानों में ट्वंटी-20 विश्व कप होने वाला है, इसलिए आईपीएल मुकाबलों से हमें कुछ सबक लेना चाहिए। विश्व कप के लिए भले रोहित शर्मा की अगुवाई में टीम इंडिया की घोषणा हो चुकी है, लेकिन इसमें बदलाव की संभावना बनी हुई है। बायें और दायें हाथ के स्पिन गेंदबाजों का कॉम्बिेशन हमें देखना चाहिए। फिर, चौथा तेज गेंदबाज भी हमें साथ रखना चाहिए था। छह-सात नंबर पर कौन आएगा, यह भी पेच बना हुआ है। चूंकि हार्दिक पांड्या फिट नहीं हैं, इसलिए रिंकू सिंह जैसे बल्लेबाजों को, जो फिल्डर भी अच्छे हैं और उन्होंने खुद को साबित भी किया है, मुख्य टीम का हिस्सा बनाना चाहिए। आदर्श स्थिति यही होगी कि हमारी गेंदबाजी का दम दिखना चाहिए और फिल्डिंग भी अच्छी होनी चाहिए। आईपीएल में यही दिखा कि अच्छे-अच्छे खिलाड़ियों ने आसान कैच छोड़े। यह कोई अच्छी स्थिति नहीं है। इसी तरह, अतिरिक्त बॉल पर भी हमें लगाम लगानी होगी। इसमें न सिर्फ अतिरिक्त रन विपक्षी टीम को मिलता है, बल्कि अतिरिक्त बॉल भी फेंकने पड़ते हैं, जिससे मैच के फैसले पर असर पड़ सकता है। अच्छी बात यह है कि विश्व कप टीम में अनुभवी खिलाड़ियों पर पूरा भरोसा किया गया है। उम्मीद है, वे अपने अनुभव का इस्तेमाल करेंगे, ताकि टीम इंडिया जीत के साथ विश्व कप का समापन करे।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)