Your hair did not ask for separation - तेरी जुल्फों ने जुदाई तो नहीं मांगी थी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तेरी जुल्फों ने जुदाई तो नहीं मांगी थी

बड़े चाव से पाल-पोसकर उन्होंने अपनी जुल्फों को उस स्टेज तक पहुंचाया था, जो यदि पुराने दौर में रहती और जब-जब उड़ती, तो तत्कालीन कुंवारियों का दिल मचल जाता। उनकी बांछें पुरुषों के महिलानुमा बाल देख अगर खिल जातीं, तो महिलाओं के पुरुष टाइप बाल देख सिकुड़ जातीं। तड़प उठे थे वह, धोनी ने जब अपने बालों का तर्पण किया। भला हो इशांत शर्मा का, जिसने उनकी खुशी वापस ला दी। 

खुद दही का सेवन भले न किया हो, हफ्ते में दो बार बालों को दही जरूर ‘चखाते’ वह। उनकी इस केयरिंग का फल था कि चार दर्जन वसंत बीत जाने के बाद भी डैंड्रफ ने कभी नहीं निवास किया, न ही उनके सघन ‘कानन’ में कभी जूं रेंगी। ऐसे में, कटी घास सरीखी उनकी मुंडी देख चकित होना स्वाभाविक था। सहेजी- संवारी ‘फसल’ के नष्ट होने पर जिज्ञासा सहज थी- सब कुशल तो है?
आत्मा मर गई है रहनुमाओं की, इसलिए मुंडवा दिए बाल- रूखा जवाब मिला। शब्दों का लतीफाई खिलवाड़ माफिक नहीं आया बंदे को, दोबारा हिम्मत जुटा पूछा- कोई तो वजह रही होगी? जिस युग में ‘हजरतगंज’ टाइप लोग नाना प्रकार के केश-वर्द्धन तेल की मालिश से हथेली तक पर बाल उगा रहे हैं, आपने सिर मुंडवा लिया। हरि की तलाश का यह पहला चरण या फिर किसी ‘योगी’ से प्रेरणा?

श्रीमान जी, अपना कबीर-पंथ और राजनीतिक सोच अपने पास रखें। अनावश्यक जानकारी न मैं लेता हूं, न देता हूं। अपने काम से काम रखिएगा, तो संबंधों में खटास नहीं आएगी। आमिर खान से लेकर सोनू निगम तक ने मशीन चलवाई, आप गए उनके पास? विराट कोहली और न जाने कितने खिलाड़ी बालों के साथ खिलवाड़ करते रहते हैं। हिम्मत हुई किसी की उनसे पूछने की? मेरे बाल मेरे हैं, जैसा चाहे सुलूक करूं- तमतमाहट थी उनके स्वर में। 

पेश्तर इसके कि दारा ‘गंज’ की गति प्राप्त होते वह, 44 डिग्री सेल्शियस टेंपरेचर के चलते खुद उस्तरा फिरवाने इस सोच के साथ कि मेरा भी कोई बाल-बांका न कर सके, मेरे पांव सैलून की तरफ बढ़ गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Your hair did not ask for separation