DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोबाइल फोन के विश्व युद्ध में हमारे सितारे 

चाइनीज मोबाइल ने दक्षिण-कोरियाई मोबाइल को पटक लिया भारतीय मोबाइल बाजार में। डोका ला पर चीनी भारतीयों को नहीं पटक पाए, पर मोबाइल मार्केट में चीन के फोन ने भारतीय ब्रांड को पटक मारा है। मोबाइल बाजार में ऊपर से नीचे तक अमेरिकी, जापानी, कोरियाई या चाइनीज ब्रांड ही हैं। बाजार के सबसे बड़े हिस्से पर कब्जा चीनी मोबाइल का है। फिनलैंड के जिस ब्रांड का भारतीय मोबाइल बाजार पर लगभग फुलटू कब्जा हुआ करता था, उसका हाल अब कुंदनलाल सहगल सा है। बहुत बड़ा नाम अतीत का, नई पीढ़ी जानती तक नहीं

पुराने वक्त की बात है- आमिर खान दक्षिण कोरियाई मोबाइल ब्रांड बेचते थे। इधर आमिर चाइनीज हो लिए हैं- चाइनीज फोन बेच रहे हैं। अमिताभ बच्चन चाइनीज फोन बेच रहे हैं। विराट कोहली, दीपिका पादुकोण, आलिया भट्ट, रणबीर सिंह, कैटरीना कैफ सबके सब चाइनीज फोन बेचते दिखे हैं। उधर डोका ला पर मार मचती रही, इधर बॉलीवुड चाइनीज हो लिया। मैं आमिर पर यकीन करके उनकी लगभग हर बात मान लिया करता था। उनके बताए कोरियाई ब्रांड लगातार खरीदता रहा, फिर पता चला कि वह अब चाइनीज हो लिए। लोग नेताओं पे नाराज रहते हैं कि पता नहीं, कब पाला बदल लें। इधर बंदा कोरियन से चाइनीज हो लिया, कहीं चूं तक नहीं। 

जिस चीनी मोबाइल कंपनी ने कोरियन कंपनी को पीटा है, उसके कर्ता-धर्ता भारतीय हैं। जिस कंपनी को पीटा गया है, उसके यहां कर्ता-धर्ता भी भारतीय। पिटने वाले भी भारतीय, पीटने वाले भी भारतीय। मोबाइल बाजार में अब मार-काट चीनी बनाम कोरियाई है। एक भारतीय क्रिकेटर कप्तान भारतीय मोबाइल ब्रांड के इस्तेमाल का आह्वान करते रहे। किसी ने न सुनी। मुझे दुख हुआ कि भारतीय ब्रांड पर भारतीय क्रिकेटर के आह्वान को भारतीय नहीं सुन रहे। ज्यादा इमोशनल होने की जरूरत नहीं, अगली बार वह कप्तान ही कोई चीनी फोन बेचते दिख जाएंगे। 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:nashar hindustan column on 29 august