DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्या कहती है स्काई रिपोर्ट

भारत-पाकिस्तान का मैच न होता, तो कई लोगों को पता ही नहीं लगता कि क्रिकेट का वल्र्ड कप शुरू हो गया। कंपनियों के विज्ञापन भी क्रिकेट के मैदान में उतर चुके हैं। कोल्ड ड्रिंक वालों की सांस में सांस आई होगी, वरना वे ढक्कन के नीचे नंबर वाले एसएमएस का खेल नहीं खेल पाते। विज्ञापन बता रहे हैं कि कैसे उनके झांसे में आकर इंग्लैंड जाया जा सकता है, वरना हम यही समझते रहते कि बैंकों को झांसा देकर ही इंग्लैंड का दरवाजा खुलता है। मोटे लोन से मुटयाए डिफॉल्टर विज्ञापन देख हंसते-हंसते पागल भी हो सकते हैं।

क्रिकेट से अपडेट न होने वाले से आज कोई बात तक नहीं करता। सामने वाले को हर वक्त यह डर सताता रहता है कि बंदा चुनावी वादे याद दिलाकर अपने साथ कहीं मेरा भी मूड खराब न कर दे। 80 के स्ट्राइक रेट वाले एक्सपर्ट 200 के स्ट्राइक रेट से खेलने वालों को बताएंगे कि बेहतर ‘रनिंग बिटविन द विकेट’ से कैसे रन आसानी से चुराए जाते हैं। पूर्व क्रिकेटर अपना अभूतपूर्व ज्ञान का पिटारा खोल चुके हैं। जैकेट वाले एक्सपर्ट का स्थान अब टाई-कोट वाले एक्सपर्ट ने ले लिया है। चुनावी एक्सपर्ट अब अपनी जैकेट ड्राइ-क्लीनर को दे सकते हैं। जनता भी चुनावी दौर के धूल भरे हेलिकॉप्टर से हरे-भरे क्रिकेट ग्राउंड में लैंड कर चुकी है।

बारिश तो लगता है, जैसे वाइल्ड कार्ड एंट्री लेकर आई हो। टूर्नामेंट में कई टीमों से ज्यादा अंक तो बारिश के हो गए। मुकाबलों में भले ही बड़ी टीमें छोटी टीमों को धो रही हैं, मगर एक बारिश ही है, जो निष्पक्ष रूप से सभी टीमों को बराबर धो रही है। अच्छी टीमें छक्के मारने से डर रही हैं कि कहीं बादलों में छेद न हो जाए। बादलों का एक छेद उनके दो अंकों को एक अंक में बदल सकता है। अंतिम अंकों में बादलों के छेद किसी की भी नैया बीच भंवर में डुबा सकते हैं। इस वल्र्ड कप में ग्राउंड रिपोर्ट से ज्यादा स्काई रिपोर्ट पर सबकी नजर है, सब यही जानना चाहते हैं कि क्या कहती है स्काई रिपोर्ट?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hindustan Nashtar Column June 25