DA Image
24 जनवरी, 2020|4:30|IST

अगली स्टोरी

नश्तर

  • देश की महत्ता पर निबंध लिखने की स्टेज में हिंदी पढ़ाने वाले गुरुजी यह वाक्य लिखने पर बल जरूर देते कि भारत एक कृषि-प्रधान देश है। यदि प्रौढ़-शिक्षा अभियान में भारत की महत्ता पर लिखने को कहा जाए, तो...

    Fri, 24 Jan 2020 12:02 AM IST Hindustan Nashtar
  • कहते हैं कि पड़ोसी ही पड़ोसी के काम आता है। यह कहावत हमारे और हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान के संदर्भ में बिल्कुल सही साबित होती है। भारत तो पाकिस्तान के हमेशा काम आता रहा। इसकी वजह यह भी थी कि पाकिस्तान...

    Thu, 23 Jan 2020 12:05 AM IST Hindustan Nashtar
  • बवाल मचा हुआ है दिसंबर 2019 में आए खुदरा महंगाई के आंकड़ों पर कि वह 7.35 प्रतिशत पर पहुंच गई। गहराई से देखें, तो पता चलता है कि दिसंबर 2018 से दिसंबर 2019 के बीच सब्जियों के भाव भले ही 60.5 प्रतिशत बढ़...

    Tue, 21 Jan 2020 11:47 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • संतों ने कहा है कि दुख में सुमिरन सब करैं, सुख में करै न कोय। भगवान दुख में ही याद आते हैं। सुख के सेलिब्रेशन से उन्हें दूर ही रखा जाता है। सेमेस्टर सिस्टम या मंथली या वीकली एग्जाम से पहले के जमाने...

    Mon, 20 Jan 2020 11:31 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • ‘हम अखिल भारतीय मंगता संघ के पदाधिकारी व सदस्य भारत के सुप्रीम न्यायालय के प्रति अपना हार्दिक आभार व धन्यवाद प्रेषित करते हैं कि उसने जनता के मन की आवाज सुनी है, ‘इंटरनेट’ को...

    Mon, 20 Jan 2020 12:12 AM IST Hindustan Nashtar
  • जब किसी राजनीति में विभीषणों का बोलबाला चल रहा हो, तो समझिए कि वहां दगाबाजी का उत्सव चल रहा है। चेहरे से नकाब हटाए बिना नकाबापोश पुरुषों की पहचान नहीं हो सकती। हमारे राजनेता अपनी करतूतों से साबित कर...

    Fri, 17 Jan 2020 11:43 PM IST Hindustan Nashtar
  • जरूरी नहीं, संकल्प पुराने साल में लिया जाए, इसे जब चाहें ले सकते हैं, ताकि इससे आराम से मुक्ति पाई जा सके। हम उन जैसे नहीं, जिन्होंने दर्जनों साल लगा दिए मुक्ति पाने में, यहां तो संकल्प लेने की देर...

    Fri, 17 Jan 2020 12:09 AM IST Hindustan Nashtar
  • कुछ लोग अपने आप से ऐसे खुश नजर आते हैं, जैसे उन्होंने भगवान से ऑर्डर देकर खुद को बनवाया हो। पैदा होने के पहले उन्होंने शायद भगवान से कहा हो कि मेरी हाइट इतनी रखना, कंधे इतने इंच चौड़े, छाती इतने इंच...

    Wed, 15 Jan 2020 11:10 PM IST Hindustan Nashtar
  • डिस्क्लेमर-टीवी चैनलों पर इन दिनों बडे़ नोट गिनते व्यापारी महाशय वाले विज्ञापन से इस टिप्पणी का कोई सरोकार नहीं है।  घोर सर्दी में भी बिला नागा साथ टहलने वाले बंधु ने उस दिन सूचित किया कि सूरज...

    Tue, 14 Jan 2020 11:48 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • मैं भी कभी पढ़ाकू बनने की चाहत रखता था, पर ढंग से बन न सका। तब मुझे किताबें मोहित करतीं, मगर उन पर छपे मूल्य सारा रोमांस छीन लेते। मेरी जिंदगी की त्रासदी यही रही कि जिसे चाहा, वह किसी न किसी वजह से...

    Mon, 13 Jan 2020 11:49 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • गांव हो या शहर, प्रजातंत्र में जनता सरकार से कल्याणकारी कार्यों की अपेक्षा करती है। जैसे टूटे हुए पुल या गड्ढे वाली सड़क की मरम्मत, कीमतों के आकाश छूने के इरादों पर रोक, कानून-व्यवस्था में सुधार...

    Sun, 12 Jan 2020 10:16 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • अमेरिका, ईरान, इराक पूरी कोशिश कर रहे हैं कि वह माहौल गरम रखें, ताकि विश्व को सर्दी न लगे। वैसे भी ठंडे अखबार को गरमा-गरम खबरों का ही सहारा होता है। सरहदों पर ठूं-ठां न हो, तो लगता है, दोनों देश...

    Fri, 10 Jan 2020 11:58 PM IST Nashtar Hindustan Column Nashtar Column
  • यूनिवर्सिटीज भी आजकल खूब पढ़ाने लगी हैं। कुछेक तो इतना और इतने दिनों तक पढ़ाती हैं कि समझ में नहीं आता, बुढ़ापे की वजह से कमर मुड़ गई है या ज्ञान का लोड बढ़ने से। यह बात मुझे चंदू से मिलकर समझ आई। चंदू...

    Thu, 09 Jan 2020 11:17 PM IST Nashtar Nashtar News
  • लगभग 15-20 साल पहले मैं तेजी से गंजा होने लगा और दस साल पहले तो बाकायदा सर्टिफाइड गंजों की श्रेणी में आ गया। मुझे इसका कोई खास अफसोस नहीं। जब सिर पर भरपूर बाल थे, तब भी मेरी शक्ल कोई खूबसूरत नहीं थी...

    Wed, 08 Jan 2020 11:15 PM IST Nashtar Hindustan Nashtar
  • पुस्तक मेले में भारी भीड़ थी। लेखक उत्साहित हुआ कि लोग लाइन लगाकर खरीद रहे थे। लेखक उदास हो गया कुछ ही मिनटों में यह देखकर कि लाइन लगाकर जो खरीदा जा रहा है, वे पुस्तकें नहीं, छोले-भटूरे हैं।...

    Wed, 08 Jan 2020 12:17 AM IST Hindustan Nashtar
  • 1
  • of
  • 69

चुटकुले

ऑफिस से लौटते समय सब्जी लेते आना

पत्नी ने पति को मैसेज किया :- ऑफिस से लौटते समय सब्जी लेते आना, और हाँ, पड़ोसन ने  तुम्हारे लिए हैलो कहा है।

पति :  कौन सी पड़ोसन ?

पत्नी : कोई नहीं,  मैंने मैसेज के अंत मे पड़ोसन का नाम इसलिए लिखा ताकि मैं निश्चित हो सकूं कि तुमने मेरा पूरा मैसेज पढ़ा लिया।