DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छोटा करने की कोशिश 

वह मीटिंग उखाड़ने वाली थी। एक दौर के बाद समझ में आ गया था कि उन्होंने जो भी किया है, उसे छोटा दिखाने की कोशिश हो रही है। ‘आपके काम को छोटा करने वाले लोगों से बचना चाहिए। छोटे लोग ऐसा ही करते हैं। बड़े लोग आपको बड़ा बनाते हैं और छोटे लोग छोटा।’ यह कहना है मार्क ट्वेन का। वह उन्नीसवीं सदी के महान अमेरिकी रचनाकार हैं। अपने ‘सेंस ऑफ ह्यूमर’ के लिए मशहूर लेखक की बेहतरीन रचनाएं हैं द ऐडवेंचर ऑफ टॉम स्वायर और द ऐडवेंचर ऑफ हकलबरी फिन।
हम काम करते हैं। कभी उसे सराहा जाता है। कभी नहीं भी सराहा जाता। काम को लेकर पसंदगी-नापसंदगी चलती रहती है। यह सब होता काम को लेकर ही है। टीम है, काम है, तो अलग-अलग राय होनी भी चाहिए। लेकिन कभी-कभी हमें अलग तरह का महसूस होता है। हमें लगता है कि सिर्फ काम पर ही बात नहीं हो रही। हमारे काम को कोई छोटा साबित करने में लगा है। जब तक काम की बात हो, तब तक किसीको भी गंभीरता से लेना ही चाहिए। हमें अपनी कमियों को मान लेना चाहिए। ये सब हमें बेहतर बनाता है। कभी हमारे काम को नहीं, हमें निशाना बनाया जाता है। दिक्कत यहीं से शुरू होती है। हम काम ठीक कर रहे हैं और कहा उसके उलट जा रहा है। बस यहीं हमें उस शख्स की पहचान करनी चाहिए। किसी को छोटा करने वाला शख्स बड़ा नहीं हो सकता। उसके इरादे कुछ और हैं। यह हमें समझना चाहिए। उससे निपटने की कोशिश करनी चाहिए। ये सब करते हुए भी हमारा काम से फोकस नहीं हटना चाहिए। देर-सवेर चीजें ठीक हो ही जाती हैं। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mansa vacha karmana article of hindustan on 12 january