DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हम सभी के पास कुछ ऐसे काम हमेशा होते हैं, जिन्हें करने में बिल्कुल मजा नहीं आता। कई तो ऐसे काम करने में ही अपनी आधी जिंदगी गुजार देते हैं। यह सिर्फ कहने की बात है कि मन जहां रमे, आप वहीं रमें। ऐसा होता नहीं, इसलिए जरूरी यह है कि जो काम नीरस लगते हों, उनमें जो अच्छा और मन के मुताबिक है, उसकी तलाश करें। प्रोफेसर एलेक्स सैंडी ने, जो कि मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में पढ़ाते हैं, इसे रोचक तरीके से समझाया है- आपको मरीन इंजीनियर बनना पसंद नहीं, पर यही नौकरी मिली, तो आप समुद्र के कुछ और कामों में विशेषज्ञता तलाश सकते हैं। आप समुद्री पक्षियों के एक्सपर्ट बन सकते हैं। यह आपको अपने मूल काम के साथ तारतम्यता बिठाकर ही करना होगा। 
इसे डैन केबल ने, जिन्होंने द मोस्ट पावरफुल लेसन माई कैंसर टॉट मी अबाउट लाइफ ऐंड वर्क  किताब लिखी है, बेहतर तरीके से समझाया है। वह कहते हैं कि आप किसी ऐसी गतिविधि के बारे में विचार करें, जो आपको नापसंद हो। जैसे ऑफिस में परफॉर्मेन्स रिव्यू देना। आप खुद से पूछें कि यह काम आप क्यों करते हैं? इसके कई जवाब हो सकते हैं। जैसे, मुझे यह करना पड़ता है, क्योंकि यह मेरे काम का हिस्सा है या फिर ऐसा इसलिए कि लोग ये समझ सकें कि उन्हें लक्ष्य किस तरह प्राप्त करने हैं। आपके जवाब में एक जगह ऐसी आएगी कि आप टिककर खड़े हो जाएंगे और आपको लगेगा कि आप जो काम नीरस समझते रहे हैं, उसके मजेदार पहलू हैं। उसकी सामाजिक और मानवीय स्वीकृति आपको समझ में आ जाएगी। फिर काम सरस लगेगा। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mansa vacha karmana article of hindustan on 11 january