DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक जरूरी तालमेल

रात काफी हो गई थी। वह ऑफिस से घर की ओर जा रहे थे। लेकिन इयर फोन लगाए वह ऑफिस में किसी से लगातार बात कर रहे थे। घर पर भी वह सिलसिला थमा नहीं था। 

‘अगर हम घर पर भी अपने काम से ‘स्विच ऑफ’ नहीं कर सकते, तो न हम प्रोफेशनली कामयाब हो पाएंगे और न निजी जिंदगी में।’ यह मानना है जहीर खान का। वह अपने देश के महान तेज गेंदबाज रहे हैं। फिलहाल, जहीर आत्मकथा लिखने में लगे हैं।

काम करना हमारी सबसे बड़ी जरूरत है। काम नहीं करेंगे, तो हम जी ही नहीं सकेंगे। काम तो करना ही है। इसमें तो कोई दोराय नहीं है। लेकिन काम ही तो सब कुछ नहीं है। हमारी अपनी निजी जिंदगी भी होती है। असल में कामकाज और निजी जिंदगी में एक तालमेल हमें बिठाना होता है। कभी-कभी ये हो सकता है कि हमें काम ज्यादा करना पड़ जाए। कभी ऐसा भी होता है कि हमें निजी जिंदगी को ज्यादा वक्त देना पडे़। लेकिन आमतौर पर हमें दोनों में एक तालमेल बिठाने की जरूरत होती है। और यह तालमेल बहुत जरूरी है। इसके बिना हम अधूरा ही महसूस करेंगे। यही वजह है कि हमें कुछ खास वक्तों को छोड़कर अपनी कामकाजी और निजी जिंदगी में एक तालमेल बिठाना ही चाहिए। यह तालमेल हम तय करके बिठाएं। उसे हर हाल में प्राथमिकता दें। दोनों ही हमारे लिए जरूरी हैं। किसी की भी अनदेखी हम कर नहीं सकते। तब हमारी जिंदगी को कुंठाओं से भर सकती है। यह हम जितना जल्द समझ लें, उतना बेहतर है। फिर समझना ही जरूरी नहीं है। हमें उस पर अमल करना होगा। तब क्या सोचा आपने?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mansa vacha Karmana article in Hindustan on 08 September