अगली स्टोरी

मनसा वाचा कर्मणा

  • रात काफी हो गई थी। वह ऑफिस से घर की ओर जा रहे थे। लेकिन इयर फोन लगाए वह ऑफिस में किसी से लगातार बात कर रहे थे। घर पर भी वह सिलसिला थमा नहीं था।  ‘अगर हम घर पर भी अपने काम से...

    Fri, 07 Sep 2018 10:37 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • हम आनंद देने वाली चीजों को आकार में पहचानते हैं, जबकि आनंद का अस्तित्व ऐसा नहीं है। सौंदर्य महसूस करने की क्षमता, अपने में मगन रहने की ताकत, साधारण वस्तुओं की तारीफ का बोध, लोगों से स्नेह रखना,...

    Thu, 06 Sep 2018 11:18 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • वह हमेशा आरामदायक स्थिति में रहना पसंद करते हैं। ऐसा कर वह खुद को संतुष्ट पाते हैं, पर यह संतुष्टि कितनी वास्तविक है, यह उन्हें पता नहीं चलता। अपने दायरे में खुश रहना एक अलग बात है, दायरे तोड़कर खुश...

    Wed, 05 Sep 2018 11:08 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • फिनलैंड की राजधानी हेलसिंकी की उड़ान के दौरान, सामने सीट पॉकेट में रखी मैगजीन ब्लू विंग्स  पर नजर पड़ी। पन्ने पलटाए, तो जाना कि फिनलैंड में दुनिया के सबसे ज्यादा हैप्पी यानी खुश लोग रहते हैं। तभी...

    Tue, 04 Sep 2018 10:15 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • जैसे राम-कथा में करुणा की प्रधानता है, वैसे ही कृष्ण-कथा में मधुरता की। ये कथाएं मनुष्य को पूर्ण बनाना सिखाती हैं। मानव जीवन को इकहरी दृष्टि से देखा भी नहीं जा सकता। उसमें अनगिनत उतार-चढ़ाव हैं,...

    Mon, 03 Sep 2018 09:38 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • कृष्ण अद्वितीय व्यक्तित्व हैं। उन्हें स्मरण करना, उनकी कथाएं सुनाना आसान है, उन्हें जीना कठिन है। उनके व्यक्तित्व में जितना विरोधाभास है, उतना और किसी महापुरुष में नहीं दिखता। रास रचाना, माखन चुराना,...

    Sun, 02 Sep 2018 11:39 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • उस प्रोजेक्ट की धज्जियां उड़ा दी जाएंगी, यह उन्होंने नहीं सोचा था। वह इस कदर परेशान थे, मानो यह प्रोजेक्ट उनका अकेले का हो।   ‘हर चीज को अपने ऊपर नहीं लेना चाहिए। यह अपने साथ ज्यादती...

    Fri, 31 Aug 2018 11:31 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Article Of Hindustan
  • कहते हैं कि न कहना खतरनाक है, पर ऐसा जरूरी नहीं। आप किसी को न कहकर भी उसकी नजरों में ऊंचे उठते हैं। गंभीर, बेलौस, बेलाग-लपेट जिंदगी जीनी है, तो हां के साथ न कहना भी सीखना जरूरी है। सोलोमन एश...

    Thu, 30 Aug 2018 09:55 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • अकेले होने को प्राय: अच्छा नहीं माना जाता। ज्यादातर शोध ऐसी स्थिति को मनोरोग से जोड़ते हैं और इनके बीच वे शोध रिपोट्र्स कहीं खो जाती हैं, जो इसे लेकर सकारात्मक हैं। अकेलेपन को उसके फायदे के हिसाब से...

    Wed, 29 Aug 2018 09:37 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • वे इस बात से परेशान हैं कि लोग उनको समझने की कोशिश क्यों नहीं करते? जब तक नौकरी की, किसी की हिम्मत नहीं होती थी कि उनके कहे को टाल दे। रिटायरमेंट के बाद अब कोई कद्र नहीं करता। रौब जमाने की आदत के...

    Tue, 28 Aug 2018 08:23 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Article Of Hindustan
  • हमारी आवश्यकताएं तो अनंत हैं, हमारे मन की तरह वे बेलगाम और निरंकुश हैं। कभी-कभी वे इच्छाएं हम पर इतनी हावी हो जाती हैं कि काममय एवायं पुरुष  कहकर इच्छा को ही मनुष्य का दर्जा दे दिया जाता है। आज...

    Mon, 27 Aug 2018 11:00 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • संघर्ष का नाम लेते ही आंखों के सामने आता है दो समूहों का युद्ध, लेकिन संघर्ष का हम लगातार सामना करते हैं। जहां भी दो हैं, वहां टकराव है और वहीं संघर्ष का बीज है। यह समस्या इतनी बड़ी है कि अब...

    Sun, 26 Aug 2018 11:02 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Column Hindustan अन्य...
  • आखिरकार बॉस ने टोक ही दिया। ‘तुम वहीं के वहीं खड़े हो। अपने को सुधार ही नहीं रहे तुम।’ उन्होंने कुछ कोशिश तो की थी, लेकिन...। ‘अपने को सुधारना आसान नहीं होता। उसके लिए अपने पर बहुत...

    Fri, 24 Aug 2018 09:53 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Article Of Hindustan
  • बहुमुखी प्रतिभा को हम अक्सर अतिरिक्त सम्मान देते हैं। लेकिन एक साथ कई क्षेत्रों में महारत अक्सर ऐसी प्रतिभाओं के लिए समस्याएं भी खड़ी कर देती है। मनोवैज्ञानिक लिंडा क्लूनर मानती हैं कि एक खास विषय का...

    Thu, 23 Aug 2018 11:35 PM IST Mansa Vacha Karmana Mansa Vacha Karmana Article Of Hindustan
  • कहा जाता है कि जिसे सच्चा दोस्त मिल जाए, उसे समझना चाहिए कि अनमोल खजाना मिल गया। 12 से 91 वर्ष तक के हजारों लोगों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि उन लोगों का स्वास्थ्य ज्यादा खराब रहता है, जो...

    Wed, 22 Aug 2018 11:16 PM IST Mansa Wacha Karmana With Friends Hindustan News Paper अन्य...

देसी आदमियों की खासियत

संता बिना पानी मिलाये दारू पी रहा था

सोहन– क्या बात है पाजी आपने

पानी भी नहीं मिलाया,

संता – अबे पागल हम देसी आदमी हैं

इतना पानी तो हमारे मुंह में दारू देखकर ही आ जाता है