DA Image
24 जनवरी, 2020|4:31|IST

अगली स्टोरी

मनसा वाचा कर्मणा

  • बनारस के घाट पर एक वृद्ध ब्रिटिश की कही बातें हमेशा याद रहेंगी। उन्हें धड़ल्ले से हिंदी बोलता देख मैंने पूछा कि आपने यह भाषा क्यों सीखी? उन्होंने कहा, बस इसलिए कि सीखना जरूरी है। पता चला कि वह अभी...

    Thu, 23 Jan 2020 11:59 PM IST Hindustan Manasa Vacha Karmana
  • वह इसलिए परेशान थे कि ऑफिस में उनके बराबर पद पर एक व्यक्ति बिठा दिया गया। बेहतर कौन? अब इस सवाल का हमेशा उन्हें सामना करना था। वह खुद को प्रतिस्पर्द्धी मान बैठे थे। फिर उन्होंने एक लेख पढ़ा और उनकी...

    Thu, 23 Jan 2020 12:03 AM IST Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • कहा जाता है कि ईमानदारी के लिए किसी बड़ी साधना की जरूरत नहीं होती है। इसे मानव का बुनियादी चरित्र भी माना जाता है, पर हम ज्यों-ज्योें दुनिया के झमेले में उलझते जाते हैं, हमारी ईमानदारी ओझल होती जाती...

    Tue, 21 Jan 2020 11:49 PM IST Mansa Vacha Karmana Hindustan Column Hindustan Articles
  •     दुनिया में भला ऐसा कौन है, जो वृद्धि नहीं चाहता। सृष्टि निरंतर विकासशील है। कुछ होना, कुछ बदलना इसका स्वभाव है। सृष्टि की सृजनशीलता से हम भी अछूते नहीं हैं। चाह पूरी हा,े यह कोई...

    Mon, 20 Jan 2020 11:34 PM IST Mansa Vacha Karmana Hindustan Column Hindustan Articles
  • एक फ्रेंच मनोवैज्ञानिक थे एमिल कुए। उन्होंने एक नियम खोजा था, विपरीत प्रभाव का परिणाम- द लॉ ऑफ द रिवर्स इफेक्ट। जब कल्पना और संकल्प का संघर्ष चलता है, तो कल्पना हमेशा जीतती है। फर्ज करें, जमीन पर...

    Mon, 20 Jan 2020 12:11 AM IST Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • ऑफिस में ही काफी रात हो गई थी। शाम के बाद कई कप कॉफी पी चुके थे। थक कर चूर हो गए थे, लेकिन अभी घर नहीं जाना चाहते थे। ‘हमने अपनी जिंदगी को पागलों की तरह बिजी बना लिया है। हमें...

    Fri, 17 Jan 2020 11:41 PM IST Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • हम छवियों की दुनिया में रहते हैं। दूसरों की छवि बनने-बिगड़ते देखते हैं। अपनी भी। इनमें सबसे ज्यादा मायने हैं आत्मछवि के। इसे लेकर संतुलन जरूरी है। इसे अतिशयोक्ति भरा नहीं होना चाहिए। यह न कमतर हो और न...

    Fri, 17 Jan 2020 12:07 AM IST Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • वह सुबह घर से निकले, तो रास्ते में एक मदारी मिल गया। उन्होंने मदारी को बुलाया और बंदरिया को मुक्त करने की सलाह देने लगे। मदारी बोला, ‘मेरे परिवार की जीविका का साधन है यह, भला मैं इसे कैसे मुक्त...

    Wed, 15 Jan 2020 11:08 PM IST Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • जोे व्यक्ति पुष्प इकट्ठा करता है, उसके हाथों में कुछ सुगंध रह ही जाती है। मनोवैज्ञानिक मानते हैं कि खुशी का कोई तय मापदंड नहीं होता। एक मां बच्चे को स्नान कराने पर खुश होती है, छोटे बच्चे मिट्टी के...

    Tue, 14 Jan 2020 11:54 PM IST Mansa Vacha Karmana Hindustan Column Hindustan Articles
  • आंख के एक प्रसिद्ध डॉक्टर के पास पहुंचे मेरे मित्र ने कहा कि मेरी आंखों का इलाज कीजिए, मुझे दूर तक तो साफ-साफ दिखता है, पर नजदीक की चीजें दिखाई नहीं देतीं। मुझे कागज के छपे अक्षर टेढ़ी-मेढ़ी रेखाओं की...

    Mon, 13 Jan 2020 11:55 PM IST Mansa Vacha Karmana Hindustan Column Hindustan Articles
  • क्या आप एक ही मजाक पर दोबारा हंस सकते हैं? असंभव। हमें हंसने के लिए हमेशा एक नया मजाक चाहिए। तो फिर आप एक ही दुख पर बार-बार क्यों रोते हैं? एक बार रो लिए, बस। लेकिन मनुष्य का मन बहुत अजीब है, वह अपनी...

    Sun, 12 Jan 2020 10:21 PM IST Mansa Vacha Karmana Hindustan Column Hindustan Articles
  •     उनसे हाथ मिलाते ही दोस्त ने कहा, ‘यार, तुम खुश नजर नहीं आ रहे। बहुत सारा काम तुम जरूर कर रहे हो।’ वह जवाब में ना-नुकुर ही करते रहे।  दुनिया के महानतम दार्शनिकों...

    Sat, 11 Jan 2020 12:01 AM IST Mansa Vacha Karmana Hindustan Column Hindustan Articles
  • रेडियो पर एक संगीत बज रहा है- मैं का से कहूं अपने जीया की पीर।  यह आवाज रेडियो से नहीं, उनके दिल से उठती जान पड़ रही है। कई बार दुख से ज्यादा बड़ा उसे बांट नहीं पाने का बोझ होता है। यह बोझ कैसा...

    Thu, 09 Jan 2020 11:20 PM IST Mansa Vacha Karmana
  • उनका कहना है कि वे उस काम को कैसे करना शुरू करें, जो उनके मन के अनुकूल नहीं। इसी सोच के साथ उन्होंने महीनों बिताए। उनके नजरिये ने काम शुरू नहीं होने दिया। आखिर जब उन्हें अपनी गलत सोच का बोध हुआ, तब...

    Wed, 08 Jan 2020 11:20 PM IST Mansa Vacha Karmana Hindustan Blog
  • ‘तुम्हारे सारे दुख उतनी ही देर ठहरें, जितनी देर नए साल के लिए किए गए तुम्हारे इरादे।’ अब जब नया साल एक सप्ताह पुराना हो गया है, तो जॉए एडम्स की इस शुभकामना में छिपे व्यंग्य को आसानी से...

    Wed, 08 Jan 2020 12:14 AM IST Hindustan Mansa Vacha Karmana
  • 1
  • of
  • 58

चुटकुले

ऑफिस से लौटते समय सब्जी लेते आना

पत्नी ने पति को मैसेज किया :- ऑफिस से लौटते समय सब्जी लेते आना, और हाँ, पड़ोसन ने  तुम्हारे लिए हैलो कहा है।

पति :  कौन सी पड़ोसन ?

पत्नी : कोई नहीं,  मैंने मैसेज के अंत मे पड़ोसन का नाम इसलिए लिखा ताकि मैं निश्चित हो सकूं कि तुमने मेरा पूरा मैसेज पढ़ा लिया।