जीना इसी का नाम है

durga gopal

हताशा को पहले हराइए बीमारी हार जाएगी

दो-दो बार कैंसर को शिकस्त दे चुकीं दुर्गा गोपाल यकीनन एक मिसाल भरी जिंदगी की मालकिन हैं। इन दिनों वह हैदराबाद में रहती हैं, हालांकि उनकी जिंदगी का बड़ा हिस्सा राजधानी दिल्ली में बीता था।

Sat, 28 May 2022 02:17 PM
shivam

जिस शहर ने जिंदा रखा उसका कर्ज चुका रहा हूं

शिवम का इरादा पूरे इंदौर में ‘हंगर लंगर’ की शृंखला खोलने का है, ताकि इस शहर में कोई भूखा न सोए। बेटे की कामयाबी से गदगद मां कहती हैं- ‘चंद वर्षों में वह दशकों का सफर तय कर आया है......

Sat, 14 May 2022 08:39 PM
tk jesin

एक सितारा अभी उगा है फुटबॉल के आकाश में

स्टेडियम का शोर ऊंचा होता जा रहा था। केरल टीम के कोच बिनो जॉर्ज ने इस नाजुक मोड़ पर उस खिलाड़ी को मैदान में उतारा, जो कभी जिला स्तरीय टीम का भी सदस्य न रहा, यानी टी के जेसिन...............

Sat, 07 May 2022 08:11 PM
bhumika

स्कूलों की उस दुत्कार ने उनकी जिंदगी बदल डाली

कोई भी वर्जना जब टूटती है, तब इंसानियत मुस्कराती है। इनको तोड़ने के लिए कितनी गहरी प्रतिबद्धता चाहिए, यह राजा राममोहन राय, मोहनदास करमचंद गांधी जैसे महानायकों में कोई बहुत आसानी से देख सकता है.........

Sat, 30 Apr 2022 08:56 PM
dr daniel

उन्होंने एक इरादा बांधा कारवां बनता गया

एक खिलंदड़ मिजाज का नौजवान दुनिया के सबसे संवेदनशील पेशे में आ गया था। लेकिन डैनियल नूर ने पूरी संजीदगी के साथ इंसानी खिदमत के सारे तय सबक सीखे। और यह उन पर किस कदर असरंदाज हुआ..........

Sat, 23 Apr 2022 08:59 PM
harris

दशकों की ज्यादती ने फौलादी बना दिया

शांति-समझौते के बाद 2005 में हुए चुनाव में एलन जॉनसन सरलीफ लाइबेरिया की राष्ट्रपति चुनी गईं। सरलीफ का यह चयन लाइबेरियाई लोगों के लिए किसी वरदान से कम न था, खासकर औरतों के लिए......

Sat, 16 Apr 2022 09:32 PM
mr anubhav singh bassi

जुनून और सुकून के बिना कोई काम क्या करना

मेरठ के परीक्षितगढ़ गांव में 9 जनवरी, 1991 को जन्मे अनुभव का बचपन खुशहाल रहा। अमूमन मध्यवर्गीय परिवारों के बच्चे अपने अभिभावकों की हसरतों का बोझ उठाते हुए बडे़ होते हैं, मगर अनुभव के घरवालों ने उनके लि

Sat, 09 Apr 2022 08:50 PM
noam gershony051334

किसी अफसोस के साथ जिंदगी क्या गुजारना

कई दिनों बाद जब चेतना लौटी, तब घरवालों और दोस्तों ने बताया कि उनका हेलिकॉप्टर एक अन्य हेलिकॉप्टर से टकरा गया था। वह पिछले छह दिनों से बेहोश थे, और उनका सह-पायलट अब इस दुनिया में नहीं है।

Sat, 02 Apr 2022 09:22 PM
sona

सहमे हुए लोगों की अब वह बेखौफ आवाज हैं

सदियों पहले कपिलवस्तु (नेपाल) ने एक ऐसी विभूति को जन्म दिया था, जिसके ज्ञान और व्यक्तित्व के प्रकाश से सारा जहान रोशन हुआ, लेकिन विडंबना देखिए, उस उजाले को खुद कपिलवस्तु ने शताब्दियों तक रोके रखा।

Sat, 26 Mar 2022 11:09 PM
sayomdeb mukherjee

मकसद मिल गया, तो भला जिंदगी से क्या शिकवा

हम उनकी तकलीफों का सही अनुमान नहीं लगा सकते, क्योंकि संवेदना की कोई धारा अनुभूति की उस सतह पर पहुंच ही नहीं सकती। उस धरातल पर सायोमदेब मुखर्जी और उनके जैसे लोगों के अनुभव अकेले खड़े रहते हैं। हां, हम...

Sat, 19 Mar 2022 09:21 PM
runjun

अंधेरा है, पर रोशनी के लिए लड़ने वाले भी कम नहीं

सन 1947 में खुदमुख्तारी हासिल करने के बाद हिन्दुस्तान ने अपने चप्पे-चप्पे पर कानून का राज तो घोषित कर दिया, मगर इसके समाज में अब भी ऐसे कई अंधेरे कोने हैं, जहां कानून का कोई अमल-दखल नहीं, जहां...

Sat, 12 Mar 2022 08:36 PM
041018jalila haider040318

बलूच उन्हें लौह महिला बुलाते हैं

परसों जब अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर दुनिया भर में जलसे होंगे, तब सीरिया, अफगानिस्तान से लेकर यूक्रेन तक की औरतों के हक-हुकूक के नारे लगाए जाएंगे, उनसे हमदर्दी जताई जाएगी, उनकी मदद के वास्ते...

Sat, 05 Mar 2022 08:52 PM
mofijuddin

वह ‘पागल’ देश का गौरव बन गया

नगीने की पहचान तो कोई जौहरी ही कर सकता है, न जाने कब से यह मुहावरा देश-दुनिया में इस्तेमाल होता आ रहा है, मगर इस पर हमारा यकीन पुख्ता होता है मोफिजुद्दीन जैसे लोगों से, जो गुदड़ी के लालों को न सिर्फ...

Sat, 26 Feb 2022 09:03 PM
  10 4 50 34 hhedtpic ak 042443dr shankar ramchandani041339 jpg

मानवता को ऐसे कई शंकर चाहिए

कम या ज्यादा, हम सब अपनी जिंदगी में मुसीबतों और तकलीफों से दो-चार होते हैं, बारहा हमें अपना दुख सबसे ज्यादा लगता है और फिर उनसे निपटने को ही अपनी जिंदगी की सफलता भी मान बैठते हैं, मगर जीना किसे कहते...

Sat, 19 Feb 2022 09:29 PM
sunita danuwar-jeena isi ka naam044237

बदनाम गली से शोहरत की बुलंदी तक

औरतों की आजादी और उनके हक की हकीकत यही है कि 21वीं सदी के तीसरेे दशक में आकर भी लिबास चुनने तक का फैसला उनका अपना नहीं है। पहनावे को लेकर शोहदे उन पर फब्तियां कसते हैं, समाज पाबंदियां लगाता है और...

Sat, 12 Feb 2022 08:49 PM
050558halima aden034756

मां ने कभी कहा था रोल मॉडल बनना

पिछली कई पीढ़ियों से अराजकता और बदहाली झेल रहे सोमालियाई लोगों को अगले कितने दशकों में चैन की जिंदगी नसीब होगी, कोई नहीं जानता। आज भी यह देश नाकाम मुल्कों की पहली कतार में खड़ा है। ऐसे में, वहां से जान...

Sat, 05 Feb 2022 08:42 PM
maha abdo

मैंने खौफ को भरोसे में तब्दील किया

वह 1960 का दशक था। लेबनान अराजकता की ओर बढ़ चला था। जॉर्डन में मिली शिकस्त से निराश बहुतेरे फलस्तीनी लड़ाके लेबनान चले आए थे और वे वहीं से इजरायल पर हमलावर थे। माहा आब्दो ने उसी दौर में त्रिपोली में...

Sat, 29 Jan 2022 09:08 PM
xueli abbing

कमियों के बावजूद हमारे सपने पूरे होते हैं

कहते हैं, कुदरत किसी के साथ नाइंसाफी नहीं करती, दृष्टिबाधितों को उनके सुनने-समझने की क्षमता तेज करके इस धरती पर भेजती है, तो मूक-बधिरों की निगाहें ज्यादा रोशन कर देती है। इस धारणा के वैज्ञानिक आधार...

Sat, 22 Jan 2022 08:37 PM
dr ala stanford

समाज से जो मिला वही लौटा रही हूं मैं 

अमेरिका से दूर देश में बसे लोगों को यही लगता है कि जैसे वह कोई ‘यूटोपिया’ है, जहां किसी को कोई अभाव नहीं और सभी लोग सुखी हैं। ऐसा है नहीं। तमाम अवसरों के बावजूद वहां भी गुरबत है,...

Sat, 15 Jan 2022 09:01 PM
dr suneel

उन आंसुओं के आगे सारे खजाने फीके

कोरोना की तीसरी लहर अब जब तेज होती जा रही है, तब एक बार फिर देश और समाज डॉक्टरों व चिकित्सा क्षेत्र के पेशेवरों की ओर आशा भरी निगाह से देखने लगा है। लेकिन सुनील कुमार हेब्बी जैसे डॉक्टर तो साल भर...

Sat, 08 Jan 2022 09:55 PM