DA Image
24 जनवरी, 2020|4:35|IST

अगली स्टोरी

मेरी कहानी

  • biju patnaik

    तेज गरमी के बाद बादल भिगोने लगे थे और हिन्दुस्तान अगले ही महीने आजाद होने वाला था। देश की बागडोर पंडित जवाहरलाल नेहरू के हाथों में आ गई थी। उस दिन वह दिल्ली के अपने दफ्तर में परेशान बैठे थे। किसी का...

    Sat, 18 Jan 2020 11:35 PM IST Hindustan Meri Kahani
  • अभी उसकी उम्र ही क्या थी, महज दहाई की दहलीज छूने वाली थी। उसके दिल को झटका-सा लगा था। वह तो हर्ष-उल्लास से भरा अपने चाचा के गांव से लौटा था। उसे वहां अच्छा तो लगा था, लेकिन पूरी गरमी खेतों में तपना...

    Sat, 11 Jan 2020 10:44 PM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • उस दस साल के मासूम की आंखों में आंसू रोके नहीं रुकते थे। मुर्गियां बेचकर और पड़ोसियों के काम कर जो थोड़े पैसे जुड़े थे, उन्हें उसके ही बाप ने झूठ बोलकर हड़प लिया था। जब तक बेटा हुए नुकसान को अपनी...

    Sat, 04 Jan 2020 09:41 PM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • वह ऐसा अनपढ़ किशोर था, जिसकी किस्मत में स्कूल का नामोनिशान नहीं था। कुछ लिख सकने का तो सवाल ही नहीं पैदा होता और कुछ पढ़ने की कोशिश शर्मिंदगी के साथ ढेर हो जाती थी। गणित में हाथ इतना तंग था कि हर जगह...

    Sat, 28 Dec 2019 10:09 PM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • ऐसे दिन चल रहे थे कि खुद से नफरत होने लगी थी। जिंदगी बार-बार चौराहे पर आ खड़ी होती थी। लगता था कि ऐसे ही खर्च हो जाएगी। वह है क्या, एक धोबन ही तो है? किसी तरह इतना ही कमा पाती है कि रोज का दाना-पानी...

    Sat, 21 Dec 2019 09:37 PM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • आज से 102 साल पहले वहां आधी रात को पूरी हलचल थी। मुजफ्फरपुर प्लेटफॉर्म पर पटना से आने वाली सवारी रेल आ लगी थी। धुएं और वाष्प से सांस लेते इंजन का शोर पसरा था। कुछ यात्री उतर रहे थे, तो कुछ चढ़ने को...

    Sat, 14 Dec 2019 10:29 PM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • वह नाराज सैनिक जोर से चीखा था, ‘कंपनी कमांडर को मार डालूंगा।’ यह बात उस सैन्य कंपनी के शिविर में आग की तरह फैल गई थी। मात्र पदोन्नत न होने पर इतनी अनुशासनहीनता? तुरंत उस सैनिक को निगरानी...

    Sun, 08 Dec 2019 12:09 AM IST Meri Kahani Hindustan Column
  • मीठे-रसीले संतरे की खुशबू से पूरा कक्ष महक रहा था। वहां एक से एक उम्दा सजीले-सुस्वाद फल सजे थे, सब बारी-बारी लाए गए थे। जब भी किसी ताजे फल से भरा कोई नया फलदान आता, कमरे की हवा में एक नई चाहत घुल...

    Sat, 30 Nov 2019 08:57 PM IST Meri Kahani Hindustan Meri Kahani
  • कभी बर्बादी आती है, तो छिपने के ठौर नहीं देती। नाकामी को सरेआम कर देती है। यही दुनिया है और उसका दस्तूर कि शर्म और गम से गड़ा इंसान सिर नहीं उठाता। खामोश बैठा रहता है, अपनी बैचेनी और अवसाद के साथ। तब...

    Sat, 23 Nov 2019 11:20 PM IST -- -
  • सहसा उस चीज पर निगाह पड़ी और अटक गई। दिल मचल उठा, लेकिन दिमाग को यकीन न हुआ। उस चीज को और देख लेने के लिए आंखें और चौड़ी हो गईं। वह अजीब-सी चीज थी, दौड़ती चली जा रही थी। उसे आगे से न कोई खींच रहा था, न...

    Sun, 17 Nov 2019 02:12 AM IST Meri Kahani Hindustan
  • दर्द, न पूछो कितने थे, कुछ बड़े, कुछ छोटे, लेकिन तरह-तरह के। उनका एक सिलसिला-सा उस किशोरी की जिंदगी में चल रहा था। कभी लगता, दर्द हो गई है जिंदगी, तो कभी लगता जिंदगी में दर्द के सिवा कुछ नहीं है। दर्द...

    Sun, 03 Nov 2019 12:16 AM IST Meri Kahani Hindustan Meri Kahani
  • उस दिन कुछ अद्भुत, अतुलनीय हुआ था। अचानक से रोशनी तेज हो गई। चमक उठी, पहले से बहुत ज्यादा। एक जरा-सी धातु पर ऐसी रौनक खिली कि आंख भर देखना भी मुहाल हो गया। यह भला क्या था? क्यों हुई ऐसी रोशनी? 33...

    Sat, 26 Oct 2019 11:43 PM IST Meri Kahani Hindustan Meri Kahani
  • richard brenson

    पढ़ाई उस लड़के के लिए एक ऐसा मुश्किल पहाड़ थी, जिस पर चढ़ना नामुमकिन था। पढ़ाई में आलम ऐसा था कि हर राह-मंजिल पर डांट-फटकार बरसती रहती थी। गणित देखकर दिमाग पैदल हो जाता, विज्ञान सिर के ऊपर से निकल जाता,...

    Sat, 19 Oct 2019 11:07 PM IST Meri Kahani Column Hindustan Hindi Newspaper Column Meri Kahani Richard Brenson अन्य...
  • alfred-nobel jpg

    जिंदगी है, तो इम्तिहान भी हैं। एक इम्तिहान खत्म, तो दूसरा शुरू। इस बेरहम दुनिया में इम्तिहान मौत के बाद भी पीछा नहीं छोड़ते। अच्छा है, आदमी ऐसे चला जाता है कि फिर नहीं लौटता यह देखने कि दुनिया ने उसे...

    Sun, 13 Oct 2019 12:00 AM IST Alfred Nobel Meri Kahani Column Of Hindustan Hindi Newspaper Meri Kahani Column अन्य...
  • first female combat pilot sabiha gokcen

    क्रांति होती है, देश आजाद होता है, तो सारे लड़के एक साथ आजाद हो जाते हैं, लेकिन क्या लड़कियां भी वैसे ही आजाद होती हैं? दुनिया में लड़कियों को क्यों अनसुना कर दिया जाता है? लड़कों की किस्मत में सब कुछ है...

    Sat, 05 Oct 2019 11:57 PM IST Sabiha Gokcen Meri Kahani Column Hindustan News Paper अन्य...
  • 1
  • of
  • 37

चुटकुले

ऑफिस से लौटते समय सब्जी लेते आना

पत्नी ने पति को मैसेज किया :- ऑफिस से लौटते समय सब्जी लेते आना, और हाँ, पड़ोसन ने  तुम्हारे लिए हैलो कहा है।

पति :  कौन सी पड़ोसन ?

पत्नी : कोई नहीं,  मैंने मैसेज के अंत मे पड़ोसन का नाम इसलिए लिखा ताकि मैं निश्चित हो सकूं कि तुमने मेरा पूरा मैसेज पढ़ा लिया।