DA Image
साइबर संसार

अमर्यादित आचरण

ध्रुव गुप्त की फेसबुक वॉल सेPublished By: Naman Dixit
Wed, 27 Jan 2021 12:18 AM
अमर्यादित आचरण

अच्छा लगा था, जब परसों किसान संगठनों ने शांतिपूर्ण ट्रैक्टर परेड की गारंटी देते हुए कहा था कि वे दिल्ली पर कब्जा करने नहीं, देश का दिल जीतने आए हैं। दूसरी तरफ, सुरक्षा एजेंसियां लगातार आशंका व्यक्त कर रही थीं कि कुछ अराजक तत्व देश विरोधी संगठन किसान आंदोलन को हाईजैक कर दिल्ली और एनसीआर में गड़बड़ी फैला सकते हैं। दुर्भाग्य से सुरक्षा एजेंसियों की आशंका सही साबित हुई। कल जिस तरह किसानों के भेष में हजारों गुंडों ने पुलिस के साथ हुए तमाम समझौतों का उल्लंघन किया, जगह-जगह बैरिकेडिंग तोड़ी, तलवारों और लाठियों के साथ उपद्रव किए, पुलिस पर पत्थरबाजी की, उससे इस जरूरी आंदोलन के हमारे जैसे तमाम समर्थकों के सिर शर्म से झुक गए हैं।  एक तरफ, जहां राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड में हमारे जवान अपनी सर्वोच्च अनुशासनप्रियता का परिचय दे रहे थे, वही खुद को किसान कहने वाले लोगों का ऐसा अराजक आचरण देखना बहुत दुखद है। दिल्ली और उसकी सीमाओं पर स्थिति जिस तरह बिगड़ रही है, उससे तो यही आशंका पैदा हो रही है कि यह सब उपद्रवियों द्वारा पुलिस को फायरिंग करने के लिए मजबूर करने की साजिश है। कल की यह उच्छृंखलता कहीं किसान आंदोलन की असमय मौत का आरंभ तो नहीं?

 

संबंधित खबरें