DA Image
23 सितम्बर, 2020|7:16|IST

अगली स्टोरी

मदद का प्रदर्शन


मुझे दुनिया में बहुत सारी बातें समझ में नहीं आतीं, जैसे आजकल यह एकदम समझ में नहीं आ रहा कि लोग किसी की मदद करते हैं, तो फोटो क्यों खींच लेते हैं? फोटो ले लिया, तो सोशल मीडिया पर क्यों डाल देते हैं? क्या लोगों को यह समझ में नहीं आता कि जो मदद मांग रहा है, वह मदद मांगने से पहले अपने जमीर से, अपनी आत्मा से कितना लड़ा होगा? उसके पास दो हाथ हैं, जिनसे वह काम करके अपने परिवार का भरण-पोषण करता होगा। काम नहीं है। लॉकडाउन है, तो उसे मदद लेनी पड़ रही है। वह आपके खाने के पैकेट और कुछ रुपयों पर आश्रित कभी नहीं था। मजबूरी है उसकी। उसकी मजबूरी आपके मोबाइल में कैद होकर जब ट्विटर और फेसबुक आदि पर पहुंचती है, तो आपका यह कृत्य अश्लील लगता है।
निजता एक अधिकार है। आप किसी के इस अधिकार का हनन सिर्फ इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि वह गरीब है। कोई भी किसी गरीब की तस्वीर खींच ले रहा है, वीडियो बना दे रहा है। न सरकारी अधिकारियों में संवेदना है, और न ही आम लोगों में। प्लीज, यह तर्क मत दीजिएगा कि लोग अशिक्षित हैं। इससे शिक्षा का कोई लेना-देना नहीं है। यह आपका अहंकार है कि आप मदद कर रहे हैं। अगर दंभ न होता, तो आप कभी तस्वीर नहीं खींचते।... मदद कीजिए, मदद का प्रदर्शन मत कीजिए।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:hindustan cyber sansar column 2 may 2020