DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वो पूरे भारत की छुट्टी

गालों पर डिंपल, बला के बातूनी और मुंह फट, गोरे-चिट्टे फारुख इंजीनियर की गिनती अपने जमाने के सबसे ‘डैशिंग’ बल्लेबाजों व विकेटकीपरों में होती थी। वह मुंबई में पैदा हुए और वहीं के डॉन बॉस्को स्कूल में पढ़ा करते थे। वहां मशहूर अभिनेता शशि कपूर उनके सहपाठी थे। एक बार वह उनसे बातें कर रहे थे, तभी अध्यापक ने ‘डस्टर’ खींचकर शशि कपूर के मुंह की तरफ मारा। इंजीनियर बताते हैं, ‘डस्टर शशि की आंख में लगने वाला ही था कि मैंने उसे कैच कर लिया। बाद में मैं उससे मजाक किया करता कि यदि उस दिन मैंने ‘डस्टर’ कैच नहीं किया होता, तो तुम्हें सिर्फ डाकू के रोल मिलते’। फारुख की एक कहानी 1983 की है, जब भारत ने विश्व कप जीता था। तब इंजीनियर बीबीसी  के लिए कमेंटरी कर रहे थे। साथी कमेंटेटर ब्रायन जॉन्सटन ने उनसे पूछा, अगर भारत जीतता है, तो क्या इंदिरा गांधी कल भारत में छुट्टी घोषित करेंगी? फारुख का जवाब था, ‘बिल्कुल। अगर वह कमेंटरी सुन रही हों, तो मैं उनसे अनुरोध करूंगा कि भारत की जीत पर पूरे भारत में छुट्टी घोषित कर दी जाए’। भारत की जीत के आधे घंटे के बाद ‘कमेंटेटर बॉक्स’ के फोन की घंटी बजी। दूसरे छोर पर इंदिरा गांधी थीं। उन्होंने इंजीनियर से कहा, ‘मैंने आपकी सलाह मान ली है। कल पूरे भारत में छुट्टी है।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cyber sansar Hindustan column on 27 march