DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोनार्क और मिल्कवीड

 

 

मोनार्क एक तितली है। वह प्रेमिका थी, प्रेमिका है और प्रेमिका ही रहेगी। प्रेम भी कोई ऐसा-वैसा नहीं। मोनार्क का आशिक मिल्कवीड नामक पौधा है। एक जंगली फूलों वाली जहरीली खर-पतवार प्रजाति। हम जिसे अपने अनुकूल नहीं पाते, उसे जंगली कहने से बाज नहीं आते। मिल्कवीड पर मोनार्क मंडराती है, उसे चूमती हुई, और वह उसे रस देता है, उसकी संतानों को अपनी पत्तियों का आहार। मोनार्क की निष्ठा मिल्कवीड पर एकोन्मुखी है। यह तितली किसी अन्य पौधे पर पल-बढ़ नहीं सकती। ऐसे में, अगर मिल्कवीड के अस्तित्व पर संकट आया, तो मोनार्क उसके साथ मिटेगी। मगर मिल्कवीड एकोन्मुख नहीं। उस पर अनेक प्रजाति के कीडे़-मकोडे़ पलते हैं। मोनार्क के कारण मिल्कवीड का परागण होता है, उसकी वंशबेल चलती है। मिल्कवीड के कारण मोनार्क की इल्लियों का पेट भरता है और नई मोनार्क अस्तित्व में आती हैं। कीट और पादप, दोनों अपने-अपने परिवार से संलग्न हैं, पर एक-दूसरे से प्रेम करते हैं। अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन में मोनार्क का प्रजनन वैज्ञानिकों ने कराया है। मैं नहीं जानता कि विज्ञान ने उसे कैसे बड़ा किया... संभवत: वे मिल्कवीड युक्त भोजन संग ले गए हों। विज्ञान को प्रेम के मार्ग में नहीं आना चाहिए। भौतिकी-रसायन का कर्तव्य है कि वे जैविकी के रक्षक बनें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cyber sansar Hindustan column on 16 may