DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देर न हो जाए कहीं


हिंदू पुराणों में उल्लेख है कि कलियुग के अंतिम चरण में पृथ्वी पर जब पाप का बोझ ज्यादा बढ़ जाएगा, तो पाप का अंत कर धर्म और मानवता की स्थापना के लिए भगवान का कल्कि अवतार होगा। इस्लाम में भी पृथ्वी के अंतिम दिनों में पाप और अन्याय मिटाने के लिए एक मेहंदी के प्रकट होने की बात कही गई है। चाहे कल्कि अवतार हो या मेहंदी, दुनिया के जिस भी देश में उनका आगमन हो, वे व्यक्ति के रूप में आएं या विचार के रूप में, उद्देश्य तो एक ही है- पृथ्वी पर्र ंहसा, क्रूरता और अन्याय का खात्मा कर एक बेहतर, मानवीय, न्यायपूर्ण व्यवस्था की स्थापना। अब लगता नहीं कि इस कातिल और बेरहम दुनिया में तिल-तिल मरती इंसानियत को कोई राजनीतिक या धार्मिक व्यवस्था बचा ले जाने में सक्षम है। पता नहीं, अवतार या मेहंदी सच्चाई है अथवा लोगों की उम्मीदों को जिंदा रखने के लिए रची गई कोई फैंटेसी, लेकिन अब तो देश-दुनिया की वर्तमान परिस्थितियों से हताश हम जैसे अविश्वासी लोगों को भी किसी ऐसे ही अवतार या मेहंदी का इंतजार है।
ईश्वर और अल्लाह के नाम पर आ जाओ प्रभुओ! कहीं आपके आने में इतनी देर न हो जाए कि मनुष्य नाम की यह विचित्र प्रजाति आपस में ही लड़-मरकर समाप्त हो जाए!

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Cyber Sansar Hindustan Column on 13 March