DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नजीरें और भी हैं

लोगों को जब पाकिस्तान पर हमला करवाना होता है, तो तुरंत कहते हैं कि उस देश ने घुसकर मार दिया, फलां देश ने वैसा कर दिया। ठीक है। लेकिन दूसरे देशों के उन उदाहरणों को लोग क्यों नहीं गिनाते, जब 11 बच्चों के अस्पताल में मरने पर ट्यूनीशिया के स्वास्थ्य मंत्री ने इस्तीफा दे दिया। जब सर्बिया के रक्षा मंत्री को उनके पद से इसलिए हटा दिया गया, क्योंकि उन्होंने महिलाओं को लेकर घटिया टिप्पणी की थी। जब फिनलैंड की पूरी सरकार ने इसलिए इस्तीफा दे दिया, क्योंकि वह अपने देश में स्वास्थ्य की दशा नहीं सुधार पाई, जो उसकी प्रमुख नीति थी। जब ब्रिटेन की शिक्षा मंत्री को इसलिए इस्तीफा देना पड़ा था, क्योंकि उन्होंने शिक्षा को लेकर अपने वादे पूरे नहीं किए थे। जब जापान के वित्त मंत्री को रिश्वत के आरोप लगते ही पद छोड़ना पड़ा। 
इस्तीफा कोई हल नहीं है। लेकिन इससे कम से कम यह तो तय होता है कि कोई सरकार खुद को कितना जिम्मेदार मानती है? जो सरकार खुद को जिम्मेदार मानती है, वही अपनी जनता को गंभीरता से लेती है। उसी जनता को गंभीरता से लिया जाता है, जो अपनी सरकार से इंसानी जिंदगी और बुनियादी सुविधाओं को लेकर सही सवाल पूछती है। अगर ऐसा नहीं है, तो न कोई सही चुनाव है और न सही लोकतंत्र है।
    

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cyber sansar Hindustan column on 12 march